शुक्रवार, 28 मार्च 2014

धर्मशास्त्र के प्रसिद्ध एवं महत्वपूर्ण ग्रंथों तथा लेखकों का काल-निर्धारण

1.         4000-10000 पू0      - वैदिक संहिता, ब्राह्मणों एवं उपनिषदों का काल
2.         800-5000 पू0          - यास्ककृत निरूक्त
3.         800-4000 पू0          - प्रमुख श्रौतसूत्र-आपस्तंब, आश्वलायन, बौधायन,
                                                  कात्यायन, सत्याषाढ़ आदि, गृहसूत्र-आपस्तब,
                                                   आश्वलायन
4.         600-3000 पू0       - गौतम, आपस्तंब, बौधायन, वसिष्ठ के धर्मसूत्र एवं
                                                   पारस्कर के गृहसूत्र
5.         600-300 ई पू0           - पाणिनी
6.         500-2000 पू0         - जैमिनीकृत पूर्वमीमांसासूत्र
7.         500-2000 पू0         - भागवद्गीता
8.         3000 पू0                - पाणिनी के सूत्रों पर वार्तिक लिखने वाले वररूचि
                                                   कात्यायन
9.         3000 पू0-1000   - कौटिल्याकृम अर्थशास्त्र
10.       1500 पू0-1000   - पतंजलि का महाभाष्य
11.       2000 पू0-1000   -  मनुस्मृति
12.       100-3000             - याज्ञवलक्य स्मृति
13.       100-3000                - विष्णु धर्मसूत्र
14.       100-4000                - नारद स्मृति
15.       200-5000     - बैखानस स्मृतिसूत्र
16.       200-5000     - पूर्वमीमांसासूत्र के भाष्यकार शबर
17.       300-5000     - व्यवहार आदि पर बृहस्पति-स्मृति
18.       300-6000     - वायु पुराण, विष्णु पुराणु, मार्कण्डेय पुराण,मत्स्य पुराण, कूर्मपुराण
19.       400-6000     - कात्यायनस्मृति (अप्राप्त)
20.       500-5500       वराहमिहिर, पंचसिद्धान्तिका, बृहत्संहिता, बृहज्जातक के लेखक
21.       600-6500      कादम्बरी एवं हर्षचरित के लेखक-बाण
22.       600-6650       पाणिनीकृत अष्टाध्यायी पर काशिका-व्याख्याकार वामन-जयादित्य
23.       650-7000      - कुमरित का तंत्रवार्तिक
24.       600-9000      - स्मृतियां-पराशर, शंख, देवल; पुराण-अग्नि पुराण,गरूड पुराण
25.       788-8200     - महान् अद्वैतवादी दार्शनिक शंकराचार्य
26.       800-8500     -याज्ञवलक्य स्मृति के टीकाकार विश्वरूप
27.       825-9000     - मनुस्मृति के टीकाकार मेधातिथि
28.       9660             - वराहमिहिर के बृहज्जातक की टीकाकार उत्पल
29.       1000-10500  - बहुत से ग्रंथों के लेखक धारेश्वर भोज
30.       1080-11000    - याज्ञवलक्य स्मृति के टीकाकार मिताक्षरा के लेखक विज्ञानेश्वर
31.       1080-11100   - मनुस्मृति के व्याख्याकार गोविंदराज
32.       1100-11300   - कल्पतरू या कृत्यकल्पतरू नामक विशाल धर्मसूत्र
                                                  विषयक निबंध के लेखक-लक्ष्मीधर
33.       1100-1150        - दाय भाग, कालविवेक एवं व्यवहारमातृका के 
                                              लेखक-जीमूत वाहन
34.       1100-11500    - प्रायश्चित प्रकरण एवं अन्य ग्रंथों के रचयिता भवदेव भट्ट
35.       1110-11300   - अपर्राक, शिलाहार राजा ने याज्ञवलक्य स्मृति पर टीका
36.       1114-14840    - भास्कराचार्य-सिद्धांतशिरोमणि (लीलावती एक अंश)
                                                के प्रणेता
37.       1127-11380     - सोमेश्वर का मानसोल्लास या अभिलषितार्थ चिन्तामणि
38.       1150-11600     - कल्हण की राजतरंगिणी
39.       1150-11800     - हारलता एवं पितृदयिता के प्रणेता हलायुध
40.       1150-12000     - श्रीधर कृत स्मृत्यर्थसार
41.       1150-13000     - गौतम एवं आपस्तम्ब नामक धर्मसूत्रों एवं गृहसूत्रों  के 
                                                टीकाकार हरदत्त
42.       1200-12250    - देवण्ण भट्ट की स्मृतिचंद्रिका
43.       1150-13000    - मनुस्मृति के व्याख्याकार कुल्लूक
44.       1175-12000    - धनंजय के पुत्र एवं ब्राह्णसर्वस्य के प्रणेता हलायुध
45.       1260-12700    - हेमाद्रि की चतुर्वगचिंतामणि
46.       1200-13000    - वरदराज का व्यवहार निर्णय
47.       1275-13100    - पितृभक्ति, समय प्रदीप एवं अन्य ग्रंथों के प्रणेता श्रीदत्त
48.       1300-13700     -गृहस्थ रत्नाकर, विवादर रत्नाकर, क्रिया रत्नाकर
                                                  आदि ग्रंथों के रचयिता चण्डेश्वर
49.       1300-13800    - वैदिक संहिताओ एवं ब्राह्म्णों के भाष्यों के संग्रहकर्ता-सायण
50.       1300-13800    - पराशर स्मृति की टीका पराशर माधवीय तथा अन्य ग्रंथों के रचयिता एवं               सायण के भाई-माधवाचार्य          
51.       1360-13900     - मदनपाल एवं उनके पुत्र के संरक्षण में मदन
                                                   पारिजात एवं महार्णव प्रकाश संग्रहीत किये गये
52.       1375-14400    - याज्ञवल्क्य की टीका दीपकालिका, प्रायश्चित विवेक,
                                                   दुर्गोत्सवविवेक एवं अन्य ग्रंथों के लेखक-शूलपाणि
53.       1375-15000     - विशाल निबंध धर्मतत्वकालनिधि के लेखक एवं नागमल्ल के पुत्र पृथ्वीचंद्र
54.       1400-15000     - तंत्रवार्तिक के टीकाकार सोमेश्वर की न्यायसुधा
55.       1400-14500    - मिसरू मिश्र का विवादचन्द्र
56.       1425-14500      - मदनसिंह देव राजा द्वारा संग्रहीत विशाल निबंध मदनरत्न
57.       1425-14600    - शुद्धिविवेक, श्राद्धविवेक के लेखक-रूद्धधर
58.       1425-14900     - शुद्धिचिन्तामणि, तीर्थचिन्तामणि के लेखक-वाचस्पति
59.       1450-15000    - दण्डविवेक, गंगाकृत्यविवेक के लेखक-वर्धमान
60.       1490-15120    - दलपति का व्यवहार सागर (नृसिंह प्रसाद का एक भाग)
61.       1490-15150     - दलपति का नृसिंहप्रसाद-श्राद्धसागर, तीर्थसागर, प्रायश्चित
62.       1500-15250    - प्रताप रूद्रदेव राजा के संरक्षण में संग्रहीत सरस्वती विलास
63.       1500-15400     - शुद्धि कौमुदी, श्राद्धक्रियाकौमुदी के प्रणेता-गोविन्दानंद
64.       1513-15800      - प्रयोगरत्न, अन्त्येष्टि पद्धति, त्रिस्थली सेतु के
                                               लेखक-नारायण भट्ट
65.        1520-15750     - श्राद्धतत्व, तीर्थतत्व, शुद्धितत्व, प्रायश्चित तत्व के प्रणेता-रघुनन्दन
66.        1520-15890   - टोडरमल के संरक्षण में टोडरानन्द ने कई सौख्यों में शुद्धि,तीर्थ,                                             प्रायश्चित, कर्मविलाप एवं अन्य 15 विषयो पर ग्रंथ लिखे
67.        1560-16200     - दैतनिर्णय या धर्मदैतनिर्णय के लेखक शंकर भट्ट
68.        1590-16300    - वैजयंती (विष्णु धर्मसूत्र की टीका), श्राद्ध कल्पलता, शुद्धि चंद्रिका एवं दत्तकमीमांसा के लेखक नंद पंण्डित
69.      1610-16450  -  निर्णय सिंधु तथा विवादताण्डव, शुद्र कमलकार एवं अन्य 20                                                  ग्रंथों के लेखक-कमलाकर भट्ट
70.    1610-16450  - मित्रमिश्र का वीर मित्रोदय, भाग-तीर्थप्रकाश,   प्रायश्चितप्रकाश एवं श्राद्धप्रकाश आदि
71.    1610-16450  - प्रायश्चित, शुद्धि, श्राद्ध आदि विषयों पर 12 मयूखों में(यथा-नीतिमयूखव्यवहार मयूख) रचित भगवंत भास्कर के लेखक नीलकंण्ठ
72.       1650-16800   -राजधर्म कौस्तुभ के प्रणेता अनंतदेव
73.       1700-17400     - वैद्यनाथ का स्मृति मुक्ताफल
74.    1700-17500 - तीर्थेन्दुशेखर, प्रायश्चितेन्दुशेखर आदि अन्य 50 ग्रंथों के लेखक-नागेश भट्ट या नागोजिभट्ट
75.       17900           - धर्मसिंधु के लेखक काशीनाथ उपाध्याय
76.       1730-1800     - मिताक्षरा पर बालम्भट्टी नामक राजा के लेखक बालभट्ट