मंगलवार, 4 मार्च 2014

देव पूजा विधि Part-14 महाकाली, लेखनी, दीपावली पूजन

महाकाली-पूजन
दवात में मौली बाँध, तथा स्वस्तिक बनाकर नीचे लिखा ध्यान करें।
                        ॐ मसि त्वं लेखनीयुक्ता चित्रागुप्ताशयस्थिता।
                        सदक्षराणां पत्रो च लेख्यं कुरु सदा मम।।
                        या मया प्रकृतिः शक्तिýण्डमुण्डविमर्दिनी।
                        सा पूज्या सर्वदेवैý ह्यस्माकं वरदा भव।।
ॐ श्री महाकाल्यै नमः। पूजन कर नीचे लिखी प्रार्थना करें।
                        ॐ या कालिका रोगहरा सुवन्द्या वैश्यैः समस्तैव्र्यवहारदक्षैः।
                        जनैर्जनानां भयहारिणी च सा देवमाता मयि सौख्यदात्राी।।
लेखनी-पूजन
कलम पर मौली बांध कर नीचे लिखा ध्यान करके पूजन करें।
            ॐ शुक्लां ब्रह्मविचारसारपरमामाद्यां जगद्वîापिनीं
            वीणापुस्तकधारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्।
            हस्ते स्फाटिकमालिकां विदधतीं पद्मासने संस्थितां
            वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम्।।
लेखिन्यै नमः। पूजन कर नीचे लिखी प्रार्थना करें।
            ॐ कृष्णानने! द्विर्जिी! च चित्रागुप्तकरस्थिते!।
            सदक्षराणां पत्रो च लेख्यं कुरु सदा मम।।
बही, वसना आदि में केशर या रोली से स्वस्तिक बनाकर नीचे लिखा ध्यान करके पूजन करें।
                        ॐ या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या
                        वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।
                        या ब्रह्माच्युतशङ्करप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता
                        सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा।।
ॐ वीणापुस्तकधारिण्यै नमः। पूजनकर नीचे लिखी प्रार्थना करें।
                        ॐ शारदा शारदाम्भोजवदना वदनाम्बुजे।
                        सर्वदा सर्वदाऽस्माकं सन्निधिं सन्निधिं क्रियात्।।
संदूक आदि में सिन्दूर से स्वस्तिक बना, आवाहन करके पूजन करे।
                        आवाहयामि देव त्वमिहायाहिकृपां कुरु।
                        कोशं वर्द्धय नित्यं त्वं परिरक्ष सुरेश्वर!।।
प्रार्थना-                         ॐ धनाध्यक्षाय देवाय नरयानोपवेशिने।
                        नमस्ते राजराजाय कुबेराय महात्मने।।
तुला तथा मान-पूजन
सिंदूर से स्वस्तिक बनाकर पूजन करें, ýात् नीचे लिखी प्रार्थना करें।
                        नमस्ते सर्वदेवानां शक्तित्वे सत्यमाश्रिते।
                        साक्षीभूता जगद्धात्राी निर्मिता विश्वयोनिना।।
दीपावली-पूजन
दीपक जलाकर पात्र में रख, पूजन करके नीचे लिखी प्रार्थना करें।
                        भो दीप त्वं ब्रह्मरूप अन्धकारनिवारक।
                        इमां मया कृतां पूजां गृह्णँस्तेजः प्रवर्धय।।
                        ॐ दीपेभ्यो नमः।। इति।।