मंगलवार, 16 जनवरी 2018

आधुनिक संस्कृत नाटक

नाटकों का उद्गम स्थल वेद है। ऋग्वेद के सूक्तों में अथवा एक से अधिक पात्रों द्वारा संवादात्मक योजना देखी जा सकती है। इन्द्र द्वारा सोमपान का अभिनय, पुरुरवा उर्वशी संवाद, यम यमी संवाद आदि ऐसे अनेक ऐसे उद्धरण हैं, जो अपनी कथोपकथन शैली से नाटकों के मूल को पुष्ट करता है। यहाँ उषा को एक सुंदर नर्तकी के रूप में निर्दिष्ट किया गया है। इस प्रकार वैदिक वाङ्मय में नाटक के दो प्रमुख एवं मूलभूत तत्व संवाद तथा अभिनय सहज ही देखने को मिलता है। इससे वेदों की नाट्यमूलकता भी पुष्ट होती है। बाल्मीकि रामायण के नाराजके जनपदे प्रहृष्टनटनर्तकाः श्लोक से उस समय नट तथा नर्तक की उपस्थिति का पता चलता है। पाणिनि ने भी  पाराशर्यशिलालिभ्यां भिक्षुनटसूत्रयोः में नटसूत्रों का संकेत दिया है। वैदिक युग से ईसा पूर्व द्वितीय शताब्दी तक के काल में नाटकों तथा उससे संबंधित नियम एवं शास्त्र ग्रंथों की रचना की गई है। वह परंपरा आज भी देखने को मिलती है।
विगत शताब्दी एवं वर्तमान शताब्दी में समसामयिक विषयों पर विपुल मात्रा में नाटकों की रचना की गयी है।  मैं अपने इस आलेख में आपको उन नाटकों से संक्षेप में परिचय कराने जा रहा हूं।
अंगुष्ठदानम्                    रामकिशोर मिश्र           रचनाकाल      सं0 2044 
    पं. होतीलाल के पुत्र डॉ. रामकिशोर मिश्र द्वारा रचित अंगुष्ठदानम् नाटक में कुल 5 अंक हैं। द्रोणाचार्य तथा एकलव्य इसके मुख्य पात्र हैं। नाटक की ऐतिहासिक कथा एकलव्य द्वारा गुरु द्रोणाचार्य को अंगूठा दान दिए के आधार पर लिखी गई है। नाटक के चतुर्थ अंक में एकलव्य के साथ अर्जुन का संवाद तथा पांडु पुत्रों के साथ द्रोण का संवाद वर्णित है। पंचम अंक में एकलव्य के द्वारा दान में अंगूठा देने का वर्णन है। लेखक का जन्म फाल्गुन शुक्ल षष्ठी, शनिवार 1995 तदनुसार 25-02-1939 को एटा जनपद के सोरों ग्राम में हुआ।                   
अंजनासुन्दरी नाटक               कन्हैयालाल                      सं0 1982                         
अभिज्ञानशाकुन्तलम्              ई0 पी0 भरत पिषारटी          1979                        
अभिनव हनुमन्नाटकम्             रमेशचन्द्र शुक्ल                1982                        
अभिषेक नाटकम्                रामचन्द्र मिश्र                    1981                        
अमर मार्कण्डेयम् नाटकम्          शंकरलाल                       1933                         
अमरक्रान्तिकारी पं0 रामप्रसाद विि केशवराम शर्मा                 2001                        
अमृतोदयम्                     रामचन्द्र मिश्र                    1964                        
अशोक विजयम्                  रामजी उपाध्याय                  सं0 2057                          
आभाणकजगन्नाथः               जगन्नाथ                        2005                        
आम्रपाली                       मिथिलेश कुमारी मिश्रा          1984                        
आयुरारोग्यसौख्यम्             ई0 पी0 भरत पिषारटी          1987                        
आश्चर्यचूड़ामणिः               रमाकान्त झा                     1994                        
आश्वासनम्                      ओम प्रकाश शास्त्री             1993                        
उर्वशी                         चन्द्रभानु त्रिपाठी               1984                        
उर्वशी नाटक                    कुंवर रामलाल वर्मा              सं0 1974                    
एकांकमाला                      रामकिशोर मिश्र                 1990                        
एकांकस्तवकः                     केशवराम शर्मा                 2006                        
एकांकाष्टक                      केशवराम शर्मा                 2003                         
एकांकाष्टकम्                    केशवराम शर्मा                 2003                        
एकांकि संस्कृत नवरत्न मंजूषा    नारायण शास्त्री कांकर           0                           
करुणामरण नाटक                 योगेन्द्र सिंह                  1967                        
कर्णाभिजात्यम्                 बलभद्र प्रसाद शास्त्री गोस्वामी   1989                        
कर्पूर मंजरी                    गंगासागर राय                   1979                        
कादम्बरी नाटकम्                 भोजमणि शुक्ल                1979                        
कालिदास                        के0 कृष्णमूर्ति                 1982                        
कालीदासचरितम्                  भि0 वेलणकर                   1961                        
काश्मीरक्रन्दनम्                  मीरा द्विवेदी                    2009                        
कुन्दमाला नाटकम्                चुन्नीलाल शुक्ल                 0                           
कुमारविजयम्                    रामाशीष पांडेय               2004                        
कौमुदी मित्रानन्दरूपकम्           अशोक कुमार                   1998                        
गुरु दक्षिणानाटकम्              गौरीनाथ मिश्र भास्कर           1990                        
गुरूभक्ति                       अच्युत शर्मा                    1981                        
चन्द्रकला नाटिका                 विश्वनाथ                       1980                        
चमत्कारः                        कृष्णलाल                       1985                        
चारुदत्तम्                       कपिलदेव                        1990                         
चैतन्यचन्द्रोदयनाटकम्            कर्णपूर                        1966                        
जवाहर लाल नेहरु विजय नाटकम्     रमाकान्त मिश्र                    1968                        
तत् त्वं असि                    भि0 वेलणकर                   1984                         
त्रि पत्री (रूपक त्रयी)               शिवप्रसाद भारद्वाज              1985                        
थानाध्यक्षः                     केशवराम शर्मा                 2005                        
दीपशिखा                      द्विजेन्द्र नाथ मिश्र               1997
दीपशिखा एकांकी में दीपशिखा, यौतुकम्, कुचक्रम्, वीर हमीदः  नाम से चार एकांकी संकलित हैं। दीपशिखा में 6 दृश्य हैं। प्रथम दृश्य में  सामाजिक चेतना एवं देशभक्ति भावपूर्ण विषयों को समेटकर नाटक की रचना की गई है। मुख्य पात्र नीरव है, जो भारत की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करता है और दीपशिखा के समान प्रकाशित होते हुए अन्य को भी प्रकाशित करता है। प्रेम और देशभक्ति के सम्मिश्रण से कहानी आगे बढ़ती है और अंत में क्रांतिकारी नीरज को जनता का सहयोग प्राप्त होता है। एकांकी का आरंभ ही पिता से आज्ञा लेकर नीरव द्वारा बाढ़ से पीड़ित लोगों को जल से बाहर निकालने से होता है। नाटक का मुख्य उद्देश्य छात्रों में देश के प्रति राष्ट्र भावना जागृत करना है। यौतुकम् में कुल 7 दृश्य है।
                        
दूतमाधवम्                     मदन शर्मा                      1995  
देवीचन्द्रगुप्तम्                  रामशंकर अवस्थी             2003
  सात अंक में विभाजित देवीचन्द्रगुप्तम् ऐतिहासिक भावभूमि पर लिखा गया नाटक है। विशाखदत्त द्वारा प्रणीत  देवीचन्द्रगुप्तम् नाटक का कुछ अंश रामचन्द्र गुणचन्द्र कृत नाट्यदर्पण तथा भोज कृत श्रृंगार प्रकाश में मिलता है। अवस्थी कृत इस नाटक का मूल स्रोत वही नाटक है।                  
नलविलास नाटकम्                 रामचन्द्र सूरि            1996                         
नवरुपकचक्रम्                     सुखमय भट्टाचार्य              बं0 1410                    
नवरूपकम्                        गुल्लपल्लि श्रीराम कृष्णमूर्ति      1992                        
नाटकसुधातरंगिणी              ब्रह्मानन्देन्द्र सरस्वती             2003                        
नाट्य कल्पः                     शिव सागर त्रिपाठी               2003                        
नाट्य त्रयी                      रामकिशोर मिश्र                 2003                        
नाट्य पंचामृतम्                अभिराज राजेन्द्र मिश्र            1977                        
नाट्य मंजरी                    श्रीकृष्ण सेमवाल                 0                           
नाट्यकथा सागरः                भि0 वेलणकर                   1984                        
नाट्यनवग्रहम्                   अभिराज राजेन्द्र मिश्र            2007
नाट्यनवनीतम्                 बाबूराम अवस्थी                   2002   
नाट्यनवनीतम् नाटकों का संकलन है। इसमें कुल 18 छोटे- छोटे नाटक (एकांकी रूपक) संकलित किए गए हैं। बृहत्संस्कृतसंघटनम्, कक्षायां संस्कृतम्, संस्कृतिसर्वस्वं संस्कृतम् जहाँ नाटककार के के संस्कृत प्रेम को प्रदर्शित करता है, वहीं अनतिक्रमणीयो लोकव्यवहारः, लोकमंगलाचरणम् नाटक संस्कृत को लोक से जोड़ता दिखता है। नाटक में वर्णित घटनायें ग्रामीण जीवन से संपृक्त है।                           
नाट्यनवग्रहम्                   अभिराज राजेन्द्र मिश्र            2007                                               
नाट्यनवरत्नम्                   अभिराज राजेन्द्र मिश्र            2007                        
नाट्यनीराजनम्                  बाबूराम अवस्थी                 1998                        
नाट्यवल्लरी                     श्रीकृष्ण सेमवाल                 2006                        
नाट्यसप्तकम्                    रमाकान्त शुक्ल                  1992                        
नाट्यसप्तपदम्                   अभिराज राजेन्द्र मिश्र            1996                        
नृत्यनाट्यशकुन्तला              भि0 वेलणकर                   1986                        
परिवर्तनम्                      क्षेमचन्द                        1995                        
पाणिनीय नाटकम्                गोपाल शास्त्री दर्शनकेसरी       1964                        
प्रमद्वरा                         अभिराज राजेन्द्र मिश्र            1984                        
प्रशान्तराघवम्                 अभिराज राजेन्द्र मिश्र            2008                        
प्रेमपीयूषम्  नाटकम्           राधावल्लभ त्रिपाठी              सं0 2027                    
बंग्लादेशोदयम्                रामकृष्ण शर्मा                 1980                         
बालनाटकम्                      वासुदेव द्विवेदी शास्त्री          0                           
बालनाट्यसौरभम्               रामकिशोर मिश्र                 1998                        
बालरामभरतम्                   के0 साम्बशिव शास्त्री            1991                        
भर्तृहरि निर्वेदनाटकम्          मुकुन्द शर्मा                   0                           
भारतविजय नाटकम्               मथुरा प्रसाद दीक्षित            2009                        
भीष्मायणम्                    के0 विश्वनाथन्                 2015                        
मदनसंजीवनो भाणः             घनश्याम                        2002                        
मनोनुरंजन नाटकम्              अनन्त शास्त्री                    1997                        
मेघदूतोत्तरम्                 भि0 वेलणकर                   1975                        
मेघवेधम्                     मोहन गुप्त                     2009                        
मेनका विश्वामित्रम्               हरिनारायण दीक्षित              1984                        
मोक्षमूलर वैदुष्यम् नाटकम्      भवानी शंकर त्रिवेदी            1981                        
यौतकम्                        शिवजी उपाध्याय                 1986                        
रंगवीथिः                      कीर्तिवल्लभ शक्टा               सं0 2065                    
रक्तदानम्                       वनेश्वर पाठक                    1980                        
रणश्रीरंगः                      भि0 वेलणकर                   1964                        
राघवाभ्युदयम्                  रामभद्राचार्य                   सं0 2053                    
लटकमेलकम्                      कपिलदेव गिरि                   1962                        
लवंगी                          क्षेमेन्द्र                       1999                        
विख्यातविजयम् नाटकम्            लक्ष्मणमाणिक्य देव               2005                        
विद्धशालभंजिका                 राजशेखर                      1965                         
विभुविजयः                     कृष्णलाल                       1995                        
वेणीसंहार नाटकम्              बालगोविन्द झा                  1984                        
वेदनाव्यंजकम्                   शम्भूदयाल अग्निहोत्री           2001                        
शम्बूकाभिषेकम्               रामजी उपाध्याय                  2001                        
शिवराजभिषेकम्               श्रीधर भास्कर वर्णेकर           1974                        
श्री शंकराचार्य                  नारायण रथ                    0                           
श्रूयते न तु दृश्यते              मीरा कान्त                      2013                                   
श्रृंगार मंजरी सट्टकम्           विश्वेश्वर पाण्डेय                1978                        
श्रृंगारभूषणम्                भट्टवामन बाण                   2005                        
श्रेष्ठ संस्कृत नाटक               चतुरसेन                        1986                        
संयोगिता स्वयंवर               मूलशंकर                       1996                        
संस्कृत नाट्य कौमुदी           श्रीकृष्ण सेमवाल                 0                           
संस्कृत लघु नाटक संग्रह         श्रीकृष्ण सेमवाल                 0                            
संस्कृतलघुनाट्यचयः             सुरेशचन्द्र शर्मा               2008                        
संस्कृतसंगीतकालिन्दी             भि0 वेलणकर                   1976                        
सप्तर्षिकांग्रेसम्               रेवाप्रसाद द्विवेदी               2000                        
सीताहरणम्                     कालूरि हनुमन्तरावः              1987                             
सुदर्शनचरितम्                  रामशंकर अवस्थी                2001                        
सुभद्राहरणम्                  माधव भट्ट                      1962                        
सेतुबन्धम् नाटकम्              गोस्वामी बलभद्र प्रसाद शास्त्री   0                           
सैरन्ध्री नाटकम्                बलभद्र प्रसाद शास्त्री गोस्वामी   2005                        
हवनहविः  (शिशुपालबधः)       भि0 वेलणकर                   1980                        
हास्यचूडामणिप्रहसनम्            जयशंकर त्रिपाठी                 सं0 2027                    
हास्यार्णव प्रहसनम्              ईश्वर प्रसाद चतुर्वेदी           1963                         

बुधवार, 20 दिसंबर 2017

उपहार में मिली पुस्तकें

कह नहीं सकता कि मैं बुद्धिजीवी समाज से हूं या नहीं, परंतु बुद्धिजीवी लोग मुझे बुद्धिजीवी ही मानते हैं। हो सकता है, उनमें से कुछ लोगों की यह धारणा मुझे बुद्धिजीवियों की पंक्ति में लाने की हो। वैसे भी एक बार एक राजनीति से जुड़ी महिला मुझे विद्वान् न मानते हुए मेरे द्वारा सम्पादित एक पत्रिका में से तथा एक दूसरी महिला ने एक पुस्तक से मेरा नाम हटवा चुकी है। तब से मैं भ्रमित भी हूँ और रह रहकर मुझे स्वयं पर सन्देह भी उठता है कि आखिर मैं क्या हूँ। मैं जब भी एकांत में होता हूं, इसपर सोचता हूं कि आखिर लेखक अपनी पुस्तकें मुझे उपहार में क्यों देते रहते हैं? उपहार में पुस्तकें पाना मेरे लिए सौभाग्य की बात होती है। मेरे लिए प्रिय वस्तुओं में पुस्तकों का स्थान सर्वोपरि है,अतः उपहार द्वारा प्राप्त पुस्तकें ज्ञानवर्धन के साथ आनंदवर्धन भी करती है।
        कुछ लोग मिलने पर और कुछ लोग डाक से भी पुस्तक भेजते हैं । इनमें से अधिकांश लेखकों का आग्रह होता है कि मैं उनकी कृतियों पर समीक्षा लिखूं। होना तो यह चाहिए कि जितना जल्द हो सके लेखक द्वारा प्राप्त पुस्तकों पर जल्द से जल्द समीक्षा लिखकर डाक से अथवा ईमेल से भेज दूं। परंतु प्रमादवश ऐसा नहीं हो पाया । मैंने भी निश्चय किया कि अपने ब्लॉग पर ही एक-एक कर क्रमशः पुस्तकों पर लिखता चलूँ। इनमें से अधिकांश पुस्तकें लेखकों की मौलिक रचना है। इलेक्ट्रॉनिक माध्यम पर लिखित समीक्षा पाठकों तक पहुंचाने का अधिक युक्ति युक्त माध्यम होगा।
   
       शक्ति प्रकाशन, इलाहाबाद से 2003 में प्रकाशित कनीनिका में कुल 75 गीतों की रचना उपलब्ध है। पुस्तक में अंतिम गीत का शीर्षक कनीनिका है, जिसके आधार पर इस पुस्तक का नामकरण किया गया है। सरस्वती, विन्ध्यवासिनी आदि की स्तुति के पश्चात् श्रावणमासे कृष्णारात्रिः दिशि दिशि विकरति रागं रे,
 पूर्वा प्रवहति मन्दं मन्दं हृदि हृदि जनयति कामं रे 
लिखकर कवि ऋतुओं पर मनोहारी गीतों का राग छेडकर पाठकों को मुग्ध करते है।  किसी विरहिणी की व्यथा कैसे उद्दीपित हो रही है, कवि उसके अन्तस् में उतरकर कह उठता है- प्रियं विना मे सदनं शून्यम्। केशव प्रसाद सरस राग के महान् गायक कवियों में से एक हैं। कवि ने पुरोवाक् में लिखते हुए अपनी इस उपलब्धि तक पहुँचने का वर्णन तो किया ही हैं ,साथ में पाठकों के लिए संदेश भी छोड़ जाते हैं। इन्होंने अपने गृह जनपद के प्रति अनुराग कौशाम्बीं प्रति में व्यक्त किया है। 
 प्रवहति यमुना रम्या सलिला। विलसति रुचिरा कौशाम्बिकला।।
2015 में प्रकाशित आचार्य लालमणि पाण्डेय की रचना संस्कृत गीतकन्दलिका का मूल स्वर आध्यात्मिक है।कवि गीतों के माध्यम से शारदा, गंगा की स्तुति कर प्रयाग तथा वृन्दावन तीर्थस्थलों के महिमा का गान करने लगते है। संस्कृतभाषा के कवि को संस्कृत की अत्यधिक चिंता है। सम्पूर्ण पुस्तक में  संस्कृत को लेकर कवि ने सर्वाधिक 8 गीतों की रचना की है। संस्कृत कवि सम्मेलन तथा अन्य मंच से कवि संस्कृत की रक्षा का आह्वान करते दिखते है।
शास्त्राणां नहि दर्शनन्न मनन्नाध्यापनं मन्थनम् --------सुधियः संरक्ष्यतां संस्कृतम्।।
  अभिनन्दनपत्र, स्वागत, श्रद्धांजलि आदि की परम्परा, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तथा महेन्द्र सिंह यादव संयुक्त शिक्षा निदेशक पर आकर पूरी होती है। संस्कृत साहित्य की एक विधा समस्यापूर्ति की झलक भी हमें यहाँ देखने को मिलती है। समस्या पूर्ति कवित्व का निकष है। लालामणि पाण्डेय निःसन्देह सौदामिनी संस्कृत महाविद्यालय के संस्कृत कवि सम्मेलन रूपी उस निकष से गुजरते हुए  सौदामिनी राजते समस्या की पूर्ति करते है।
एका चन्द्रमुखी प्रिया रतिनिभा---  सौदामिनी राजते।।
 आत्मनिवेदन में कवि पुस्तक रचना का उद्येश्य संस्कृत का प्रचार लिखते हैं।
                         हीरालालं गुरुं नत्वा मानिकेन विभावितः।
                         संस्कृतस्य प्रचाराय कुर्वे कन्दलिकां मुदा।।


डॉ. प्रशस्यमित्र शास्त्री संस्कृत के जाने-माने हास्य लेखक और कथाकार हैं। अनभीप्सितम्, आषाढस्य प्रथमदिवसे तथा अनाघ्रातं पुष्पं के बाद मामकीनं गृहम् कथा संग्रह वर्ष 2016 में अक्षयवट प्रकाशन 26 बलरामपुर हाउस, इलाहाबाद से प्रकाशित हुआ है । कथा लेखकों में प्रो. प्रभुनाथ द्विवेदी तथा बनमाली विश्वाल के बाद डॉ. शास्त्री मेरे पसंदीदा लेखक है। इनकी कथाओं में सामाजिक, पारिवारिक, आर्थिक समस्याओं का संघर्ष, वैयक्तिक उलझन, वृद्धजनों के प्रति उपेक्षा, संकीर्ण चिंतन आदि विषय वर्णित होते हैं। कथानक में सहसा मोड़ आता है जिससे पाठक रोमांचित हो उठता है। मामकीनं गृहम् में कुल 14 दीर्घ कथायें तथा 7 लघु कथाएं हैं। इसकी एक दीर्घ कथा है- विजाने भोक्तारं । इस कथानक में एक संस्कृत के धोती तथा शिखाधारी छात्र को विदेश से आई हुई एक छात्रा को पढ़ाने के लिए ट्यूशन मिल जाता है। इसकी जोरदार चर्चा कक्षा में होती है। एक दिन उसे अपने घर जाना पड़ता है । वह अपने स्थान पर दूसरे छात्र को ट्यूशन पढ़ाने हेतु भेजता है। यहां पर अभिज्ञानशाकुंतलम् और कालिदास पर रोचक चर्चा मिलती है । कहानी पढ़ते समय ऐसा लगता है कि विदेश से आई हुई छात्रा अपने दूसरे ट्विटर को पसंद करेगी, लेकिन अंततः धोतीधारी ट्विटर से उसकी शादी हो जाती है। पूरी कहानी संस्कृत शिक्षा, रूप सौंदर्य और सफलता के इर्द-गिर्द घूमती है। अंत में लेखक रूप-सौंदर्य के स्थान पर सफलता को प्रतिष्ठित करता है। यही कथा का सार है। 



रविवार, 17 दिसंबर 2017

व्याकरणशास्त्र परम्परा

नोट- मैंने फेसबुक पर प्रति शनिवार एवं रविवार को संस्कृतशास्त्रालोचनम् व्याख्यानमाला संचालित कराया है। व्याख्यानमाला का आरंभ व्याकरणशास्त्र परम्परा से हुआ,क्योंकि यह सभी शास्त्रों का मुख है। श्रोताओं के आग्रह पर यहाँ व्याख्यान के विषय को व्यवस्थित कर लिखा रहा हूँ।

व्याकरण शास्त्र के प्राचीन आचार्य-

व्याकरण शास्त्र का मूल आधार वेद है। वेद में व्याकरण के स्वरूप का वर्णन प्राप्त होता है।
          चत्वारि श्रृंगा त्रयो अस्य पादा द्वे शीर्षे सप्त हस्तासो अस्य ।
          त्रिधा बद्धो वृषभो रोरवीति महोदेवा मर्त्याम् आविवेश ।। (ऋग्वेद 4:58:3)
इस मंत्र में शब्द को वृषभ नाम से कहा गया है। इस वृषभ के स्वरूप का लर्णन किया गया है-  
नामआख्यातउपसर्गनिपात ये चार सींग,  भूतकालवर्तमानकालभविष्यकाल ये तीन पैर, सुप् (सुजस् आदि)तिङ् (तिप्तस्झि आदि) दो सींग (शीर्षे) प्रथमादि्वतीयातृतीयाचतुर्थीपंचमीषष्ठीसप्तमी ये सातों विभक्तियां इसके हाथ हैं, उरस्कण्ठःशिरस् इन तीन स्थानों से यह बंधा हुआ आबाज कर रहा है।
रामायण के किष्किन्धा कांड में राम हनुमान के बारे में लक्ष्मण से कहते हैं-  
              नूनं व्याकरणं कृत्स्नमनेन बहुधा श्रुतम्।
              बहु व्याहरतानेन न किंचिदपशब्दितम्। किष्किन्धा काण्ड, तृतीय सर्ग, श्लोक 29
निश्चित रुप से इसने सम्पूर्ण व्याकरण को भी सुना है,क्योंकि इसने बहुत बोला परन्तु कहीं भी व्याकरण की दृष्टि से एक भी अशुद्धि नहीं हुई।
महाभाष्य में पतञ्जलि ने भी व्याकरणशास्त्र परम्परा का उल्लेख करते हुए कहा है कि प्राचीन काल में संस्कार के बाद ब्राह्मण व्याकरण पढ़ते थे।
         "पुराकल्प एतदासीत् , संस्कारोत्तरकालं ब्राह्मणा व्याकरणं स्मधीयते ।" (महाभाष्य---1.1.1)
प्रश्न यह उठता है कि जब यह व्याकरण इतना प्राचीन है तो इसे सर्वप्रथम किसको किसने पढ़ाया? इसका उत्तर ऋक्तन्त्र 1.4 में मिलता है। व्याकरण के सर्व प्रथम प्रवक्ता ब्रह्मा थे।  ब्रह्मा वृहस्पतये प्रोवाच, वृहस्पतिरिन्द्राय, इन्द्रो भरद्वाजाय, भारद्वाजो ऋषिभ्यः। महाभाष्य के पस्पशाह्निक में शब्दों के बारे में प्रतिपादन करते हुए पतञ्जलि ने पुनः व्याकरणशास्त्र परम्परा का उल्लेख किया- वृहस्पतिरिन्द्राय दिव्यं वर्षसहस्रं प्रतिपदोक्तानां शब्दपारायणं प्रोवाच नान्तं जगाम, वृहस्पतिश्च प्रवक्ता, इन्द्रचाध्येता दिव्यं वर्षसहस्रमध्ययनकालो न चान्तं जगाम इति । इस परम्परा में अनेक आचार्यों का उल्लेख हुआ है। यह लगभग 10 हजार वर्ष की परम्परा है।
भरद्वाज-
भरद्वाज अंगिरस वृहस्पति के पुत्र तथा इन्द्र के शिष्य थे। युधिष्ठिर मीमांसक के अनुसार ये विक्रम सं. से 9300 वर्ष पूर्व उत्पन्न हुए। भरद्वाज काशी के राजा दिवोदास का पुत्र प्रतर्दन के पुरोहित थे।
भागुरि-  
भागुरि नाम का उल्लेख पाणिनि तथा पतंजलि ने किया है। न्यासकार ने इनके एक मत का उल्लेख किया है।
             वष्टि भागुरिरल्लोपमवाप्योरुपसर्गयोः।
             आपं चैव हलन्तानां यथा वाचा निशा दिशा।।
पौष्करसादि-
महाभाष्यकारकार पतंजलि ने चयो द्वितीयाः शरि पौष्करसादेरिति वाच्यम् में पुष्करसादि के पुत्र पौष्करसादि के मत का उल्लेख किया है।
काशकृत्स्न-
पाणिनिना प्रोक्तं पाणिनीयम्, आपिशलम्, काशकृत्स्नम् इस महाभाष्य के वचन के अनुसार तथा वोपदेव कृत कविकल्पद्रुम के अनुसार काशकृत्स्न नामक वैयाकरण का पता चलता है। वस्तुतः महाभाष्य व्याकरण ज्ञान का मूल ऐतिह्य स्रोत है।
                 इन्द्रश्चन्द्रः काशकृत्स्नाऽपिशली शाकटायनः ।
                 पाणिन्यमरजैनेन्द्राः जयन्त्यष्टौ च शाब्दिकाः।।
शन्तनु- 
सम्प्रति इनके द्वारा रचित फिट् सूत्र प्राप्त होता है। शन्तनु द्वारा विरचित होने कारण इसे शान्तनव व्याकरण भी कहा जाता हैं। प्रातिपदिक अर्थात् मूल शब्द को फिट् नाम से कहा गया। इन सूत्रों में प्रातिपदिक के स्वरों (उदात्त, अनुदात्त, स्वरित) का विधान किया गया है ।
गार्ग्य- अष्टाध्यायी में पाणिनि ने इस ऋषि के मत का उल्लेख अनेक सूत्रों में किया है।अड्गार्ग्यगालवयोः, ओतो गार्ग्यस्य आदि।
इस प्रकार पाणिनि ने अपने ग्रन्थ अष्टाध्यायी में शाकल्य, आपिशलि, काश्यप, चाक्रवर्मण, शाकटायन,व्याडि,शाकल्य आदि अनेक वैयाकरण आचार्यों के मत का उल्लेख किया है।

नोट- इस अधोलिखित भाग का सम्पादन तथा विस्तार करना शेष है।

व्याकरण ग्रन्थ परम्परा                                       

लेखक                            समय                             ग्रन्थ का नाम
पाणिनि                         2000 वर्ष पूर्व               अष्टाध्यायी
शालातुरो नाम ग्रामः, सोभिजनोस्यास्तीति शालातुरीयः तत्र भवान् पाणिनिः। 
कात्यायन                      3000  
पतंजलि                                                           महाभाष्य
चन्द्रगोभि                      12000 पू0                चान्द्रव्याकरण
क्षपणक                          विक्रम के एक शती में       उणादि की व्याख्या लिखा
भर्तृहरि                          4 शती                           वाक्यपदीप
देवनन्दी/जिनेन्द्र              5 3700 सूत्र                  जैनेन्द्र व्याकरण का औदीच्य प्राच्य पाठ मिलता है।
भोजदेव                         सं01075                      सरस्वतीकण्ठाभरण 6400 सूत्र
दयापालमुनि                  1082                           रूपसिद्वि शाकटायनव्याकरण नवीनी
वर्धमान                         1120                           गणरत्नमहोदधि
लंकास्थ बौद्व धर्मकीर्ति     1140                           रूपावतार
हेमचन्द्रसूरि       (जैनावर्ष) 1145                          सिद्वहैमशब्दानुशासन इस पर स्वोपज्ञा टीका‘ 6000
श्लोेक
क्रमदीश्वर                                                          संक्षिप्तसार
नरेन्द्राचार्य                     1250                           सारस्वत व्याकरण अनुभूतिस्वरूप की टीका सारस्वतप्रक्रिया
बोपदेव                         1325                           मुग्धबोधव्याकरण

पाणिनि -          
गुणरत्नमहोदधि में वर्धमान
पतंजलि इह पुष्यमित्रं याजयामः
टीका                             परम्परा                         
रामचन्दाचार्य                1450वि0                     प्रक्रिया कौमुदी
भट्टोजि दीक्षित               1570-1650                 वैयाकरण सिद्वान्त कौमुदी
ज्ञानेन्द्र सरस्वती             1551                           तत्वबोधिनी
जयादित्यवामन                                                  काशिका
दयानन्द सरस्वती                                               अष्टाध्यायी भाष्य कृत 30 आचार्य

कैयट                                         प्रदीप
अष्टाध्यायी के वृत्तिकार- व्याडि, कुणिः, माथुरः
वार्तिकभाष्यकार- हेलाराज- वार्तिकोन्मेष, राघवसूरि
व्याकरण के भाग
उणादि सूत्र, गणपाठ, धातुपाठ, शब्दानुशासन (खिलपाठ) परिभाषापाठ, फिट्सूत्र
व्याकरण के दर्शन ग्रन्थ
वाक्यपदीय        वृषभदेव ने स्वोपज्ञ टीका लिखी
पुष्यराज द्वितीय काण्ड पर टीका
हेलाचार्य तीनों पर लिखा परन्तु तृतीय पर उपलब्ध
मण्डन मिश्र        स्फोटसिद्वि
भरत मिश्र                      स्फोटसिद्वि त्रिवेन्द्रम से प्रकाशित
कौण्डभट्ट                       वैयाकरण भूषण सार
नागेश भट्ट          वैयाकरण सिद्वान्त मंजूषा
आधुनिक गुरूशिष्य परम्परा
गंगाराम त्रिपाठी
तरानाथ तर्क वाचस्पति
रामयश  त्रिपाठी             1884
गोपाल शास्त्री (त्रिपाठी) दर्शन केसरी
युधिष्ठिर मीमांसक

             
                                                
                                               लेखक- जगदानन्द झा
                                                  9598011847