सोशल मीडिया पर संस्कृत पत्रकारिता


आप कई ऐसे स्वतंत्र पत्रकार को जानते होगें, जो सोशल मीडिया पर अपनी पत्रकारिता करते हैं। सोशल मीडिया पर संगठनात्मक या वैयक्तिक संस्कृत पत्रकारिता का स्वरूप कम ही देखने को मिलता है। अन्य भाषा के पत्रकार समसामयिक मुद्दों पर गंभीर चर्चा करते हैं। उपयोगी जानकारी देते हैं। इससे हमारा ज्ञान बढ़ता है। संस्कृत पत्रकारिता के क्षेत्र में इसकी भारी कमी देखी जाती है। इसका दुष्परिणाम यह होता है कि हम संस्कृत से जुड़े लोगों तक संस्कृत से जुड़े समसामयिक घटनाक्रम को पहुंचा नहीं पाते। यदि कभी सूचना पहुँचती भी है तो तबतक इतनी देर हो चुकी होती है कि हमारा उत्साह ठंढ़ा पड़ चुका होता है। अधिकांश सूचनायें लोगों तक पहुंच नहीं पाती । इससे  सूचना से सम्बन्धित लोग और कार्यक्रम उपेक्षित रह जाते हैं।  
सर्वज्ञात है कि संस्कृत भाषा के माध्यम से प्रकाशित पत्र-पत्रिकाओं के मांग में भारी कमी है। विद्यालयों में संस्कृत माध्यम से पठन पाठन का नहीं होना इसका मुख्य कारण है। शैशव काल से ही लोगों में यदि रुचि उत्पन्न की जाय तो कुछ हद तक सफलता पाई जा सकती है। इसके लिए पाठकों तक निरन्तर पत्रिकाओं को पहुँचाना होगा। उनकी रूचि के अनुसार पत्रिकाओं का प्रकाशन करना होगा। सभी भाषा- भाषी क्षेत्र में  संस्कृत का विकल्प उपलब्ध है। वह जनसम्पर्क की भाषा में व्यवहृत है, अतः संस्कृत के समाचार पत्र संस्कृत के लोगों के लिए भी अरूचिकर होती है। विषय वस्तु की दृष्टि से संस्कृतभाषी लोगों के लिए संस्कृत के पत्र अधिक उपयोगी सिद्ध होते हैं। संस्कृत से जड़े जो समाचार अन्य जगह उपेक्षित होते हैं, वे यहाँ प्रमुखता से छापे जाते हैं। धनाभाव के कारण यहाँ सम्वाददाता नहीं होते। इस कारण से सभी प्रकार के समाचार यहाँ देखने को नहीं मिलता। संस्कृत की संस्थायें तथा आयोजक भी संस्कृत की पत्रिकाओं तक समाचार प्रेषित करने में उत्सुकता नहीं दिखाते। समाचार मांगे जाने पर हिन्दी या अन्य भाषा में समाचार उपलब्ध करा दिया जाता है। संस्कृत की संस्थायें और लोग चर्चा में नहीं होते। आजकल चर्चा में खिलाड़ी, अभिनेता, नेता, धार्मिक नेता होते हैं। शिक्षा तथा भाषा के क्षेत्र के लोग इनके आगे नहीं टिक पाते।
एक बार मैंने प्रयोग के तौर पर फेसबुक पर एक पोस्ट किया, जिसे यहाँ उद्धृत कर रहा हूँ।
कोई व्यक्ति या संस्था मात्र 500 रूपये प्रतिमाह खर्च कर अपना सोशल मीडिया संचालित करा सकते है । इसके तहत प्रदान की जाने वाली सेवाएं होंगी-
1. फेसबुक पेज या ग्रुप पर प्रतिदिन एक ऐसा पोस्ट डाला जाएगा, जो आपके व्यक्तित्व का दर्पण हो। संस्थाओं की नीतियां, कार्यक्रमों एवं योजनाओं का प्रचार प्रसार।
2. इसके लिए टेलीफोन पर आप हमें अनुदेश दे सकते हैं या लिखित सामग्री मुहैया करा सकते हैं, जिसे हम स्वयं टंकित करेंगे।
3. अनुवाद सेवा भी उपलब्ध कराएंगे इसके लिए अतिरिक्त भुगतान करना होगा।
सोशल मीडिया संचालित कराने के लाभ
1. इससे समाज में आपकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी। अधिक से अधिक लोगों तक आपकी पहुंच होगी।
2. आपका मासिक आय ₹50000 है, उसमें से मात्र ₹500 प्रतिमाह खर्च करने का आशातीत परिणाम कुछ ही माह में दिखेगा । इज्जत के लिए लोग लाखों खर्च करते हैं । उसके आगे यह धनराशि राशि नगण्य है।
3. यदि आपकी कोई संस्था है। उसके प्रचार के लिए आप मुद्रित सामग्रियों का उपयोग करते होंगे, जिस पर भारी खर्च आता है। उससे बहुत ही कम खर्च में यहां अच्छे परिणाम मिलेंगे।
4. यहाँ लिखी सामग्री कभी मिटती नहीं है। इसे वर्षों तक लोग पढ़ते रहते हैं, जबकि मुद्रित सामग्री नष्ट हो जाती है।
नोट - संस्कृत की संस्थाओं तथा व्यक्तियों को वरीयता दी जाएगी।
इसपर एक दो संस्था के लोगों ने दिलटचस्पी ली परन्तु एक भी प्रतिष्ठित संस्था की प्रतिक्रिया नहीं आयी।
मैंने संस्कृत पत्रिकाओं मैं छपे लेखों पर शोध किया, जिस से ज्ञात हुआ कि संस्कृत की पत्र पत्रिकाओं में समसामयिक मुद्दों की चर्चा बहुत कम मिलती है। देश से प्रकाशित गिनी चुनी पत्रिका है, जहाँ हमें देश दुनियाँ की खबर पढ़ने को मिल जाती है। देहरादून से प्रकाशित पाक्षिक संस्कृत वार्ता पत्र वाक् , सूरत से प्रकाशित दैनिक संस्कृत समाचार पत्र विश्वस्य वृत्तान्तम् जैसे कुछ पत्र- पत्रिका में सामयिक समाचार देखने को मिलता है। वाक् के 24 अगस्त 2018 के अंक में विद्वद्भयः राष्ट्रपतिपुरस्काराः उद्घोषिताः शीर्षक से एक कॉलम का समाचार प्रकाशित हुआ, जिसमें चयनित विद्वानों के नाम दिये गये हैं। नागपुर से प्रकाशित संस्कृत- भवितव्यम् संस्कृत साप्ताहिक पत्र में यदा कदा कुछ समाचार देखने को मिलता है। कुछ दिन पहले फेसबुक पर मैंने 5 ऐसे संस्कृत विद्वानों का नाम बताने को कहा, जिन्हें पद्म पुरस्कार से अलंकृत किया गया। इसी प्रकार साहित्य अकादमी से पुरस्कृत एक विद्वान् का फोटो फेसबुक पर डालकर उन्हें पहचानने को कहा था। दोनों पोस्ट में मुझे निराशा हाथ लगी। आखिर ये परिस्थितियां क्यों है? संस्कृत पत्रिकाएं तथा सोशल मीडिया पर ऐसे लोगों के बारे में अधिकाधिक जानकारी क्यों नहीं मिल पाती है?  साहित्य अकादमी 24 भाषाओं में रचित क्रितियों को पुरस्कार देती है। वर्ष 2018 में संस्कृत भाषा में रचित मम जननी कृति के लेखक डॉ. रमाकान्त शुक्ल को प्रशस्ति देने का समाचार सम्भाषण-सन्देशः के मार्च 2019 के अंक में प्रकाशित हुआ। इस प्रकार कुछ पत्रिकायें संक्षिप्त समाचार दे देती है। किसी भी संस्कृत की पत्रिका में इनपर या इनकी कृतियों पर व्यापक विमर्श होते नहीं पाया। किसी शीर्षस्थ विद्वान के दिवंगत होने पर उनके कृतित्व पर विमर्श भी होते नहीं दिखता। अभी कल ही एक संस्कृत की संस्था ने पुरस्कारों की घोषणा की। फेसबुक पर उन पुरस्कृत विद्वानों के बारे में, संस्कृत के संवर्धन में उनके अवदान के बारे में कुछ भी लिखा नहीं मिल पाया। ऐसे विषयों पर कम से कम पुरस्कृत विद्वानों के शिष्यों को आगे आना चाहिए। वे सभी सोशल मीडिया पर हैं। अभी तक पुरस्कार प्राप्त किसी भी कृति के बारे समीक्षा नहीं मिली , जिसे पढ़ने के बाद लोगों में उस कृति को पढ़ने की ललक उत्पन्न हो सके। पुरस्कृत कृतियों का विषय वस्तु, कुछ उद्धरण सामने आना चाहिए था। वेद पंडितों के सस्वर वेद पाठ का नमूना भी देखने को मिलता तो हमारा उत्साह और अधिक बढ़ जाता।
मैंने फेसबुक पर लिखा-
आशा है विश्वसंस्कृतकुटुंबकम् समूह समसामयिक मुद्दों पर व्याख्यान कराएगा। पुरस्कृत विद्वानों और उनकी कृतियों पर धारावाहिक रूप से चर्चा कराएगा। आने वाले दिनों में यहां सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा।
इसपर संज्ञान लेते हुए विश्वसंस्कृतकुटुंबकम् फेसबुक समूह के संचालक डॉ. चन्द्रकान्त दत्त शुक्ल ने दिनांक 05-02-2019 को शिवरात्री के दिन इसी समूह पर संस्कृत कवि सम्मेलन कराया। इस कवि सम्मेलन का संयोजन डॉ. अरविन्द कुमार तिवारी तथा अध्यक्षता वाल्मीकि, साहित्य अकादमी, पद्मश्री आदि सम्मानों से अलंकृत डॉ. रमाकान्त शुक्ल ने किया। इसमें पुरस्कृत अनेक कवियों ने काव्यपाठ किया।
लेखक- जगदानन्द झा
Share:

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लेखानुक्रमणी

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग आर्काइव

Recent Posts

लेखाभिज्ञानम्

अंक (1) अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आचार्य (1) आधुनिक संस्कृत (1) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (3) आम्बेडकर (1) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करक चतुर्थी (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (33) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (3) काव्य (4) काव्यशास्त्र (12) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गुरु (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (3) ज्योतिष (13) तकनीकि शिक्षा (1) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (11) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (2) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) राजभाषा (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) व्रत कथा (1) शंकाराचार्य (2) शतक (1) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (3) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (1) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (3) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (11) स्त्रीप्रत्यय (1) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)