लघुसिद्धान्तकौमुदी (अच्सन्धि-प्रकरणम्)

                                                       अथ अच्‍सन्‍धिः

१५ इको यणचि
इकः स्‍थाने यण् स्‍यादचि संहितायां विषये । सुधी उपास्‍य इति स्‍थिते ।।
इक् के स्थान पर यण् आदेश हो, अच् परे रहते संहिता के विषय में। सुधी उपास्‍य इस स्थिति में उ ई उ ये तीन इक् वर्ण हैं, उसमें से किस इक् को यण् हो? इसका समाधान अग्रिम सूत्र में करते हैं-
१६ तस्‍मिन्निति निर्दिष्‍टे पूर्वस्‍य
सप्‍तमीनिर्देशेन विधीयमानं कार्यं वर्णान्‍तरेणाव्‍यवहितस्‍य पूर्वस्‍य बोध्‍यम् ।।

सप्तम्यन्त के उच्चारण के द्वारा किया जाने वाला कार्य दूसरे वर्ण से व्यवधान रहित पूर्व वर्ण के स्थान पर होता है।
इको यणचि सूत्र में अचि सप्तमी निर्देश है। इस निर्देश के द्वारा विधीयमान यण् कार्य उस अच् के पूर्व वर्ण का होगा। इस अच् के पूर्व किसी वर्ण का यदि व्यवधान नहीं हो तो। सुधी उपास्‍य में अच् है उपास्य का उ । इसके व्यवधान रहित पूर्व वर्ण है सुधी का ई । अतः ई को ही यणादेश होगा। सुधी में  ई अच् को मानकर सु के उ को यण् नहीं हो सकता, क्योंकि यहाँ ध् वर्ण का व्यवधान है।
अव्यवहित-  व्यवधान रहित से तात्पर्य जिन दो वर्णों के बीच कार्य हो रहा हो, उसके बीच कोई अन्य वर्ण नहीं हो। इ उ ऋ ॡ के स्थान पर यण् के किस वर्ण का आदेश हो? इस शंका सा समाधान अग्रिम सूत्र में करते हैं-
१७ स्‍थानेऽन्‍तरतमः
प्रसङ्गे सति सदृशतम आदेशः स्‍यात् । सुध्‍य् उपास्‍य इति जाते ।।
यण् ,गुण आदि प्रसंग उपस्थित होने पर सबसे अधिक सदृश आदेश होता है। स्थानी इ के स्थान पर सदृशतम आदेश य् होने पर सुध्य् उपास्य यह हुआ।
१८ अनचि च
अचः परस्‍य यरो द्वे वा स्‍तो न त्‍वचि । इति धकारस्‍य द्वित्‍वेन सुध्‍ध्‍य् उपास्‍य इति जाते ।।

अच् से परे यर् को विकल्प से द्वित्व हो, यर् के बाद अच् बाद में नहीं हो तो। इस प्रकार सुध्य् + उपास्य के ध् को द्वित्व (दो वर्ण हो जाना) होकर सुध् ध् य् उपास्य हुआ।
१९ झलां जश् झशि
स्‍पष्‍टम् । इति पूर्वधकारस्‍य दकारः ।।

झल् को जश् हो झस् परे रहते। सुध् ध् य् उपास्य में झल् है ध् । ध् का सदृशम जश् आदेश हुआ द् । झश् ध् बाद में है। या ऐसे समझें- सुध् ध् य् उपास्य में ध् झश् बाद में रहते पूर्ववर्ती झल् ध् को जश् आदेश द् हुआ । सुद् ध् य् उपास्य रूप बना।
२० संयोगान्‍तस्‍य लोपः
संयोगान्‍तं यत्‍पदं तदन्‍तस्‍य लोपः स्‍यात् ।।
जिस पद के अंत में संयोग हो उसे लोप हो। सुद् ध् य् उपास्य विकल्प सु ध् य् उपास्य में अच् स् व्यवधान रहित वर्ण है- द् ध् य्  विकल्प ध् य् । इन वर्णों की संयोग संज्ञा होती है। 
२१ अलोऽन्‍त्‍यस्‍य
षष्‍ठीनिर्दिष्‍टोऽन्‍त्‍यस्‍याल आदेशः स्‍यात् । इति यलोपे प्राप्‍ते – 
षष्ठी द्वारा निर्देश किया गया (संयोगान्तस्य) अंतिम अल् के स्थान पर होता है। इससे य् का लोप प्राप्त होता है।
(यणः प्रतिषेधो वाच्‍यः)
संयोग के अंत में यण् के लोप का प्रतिषेध कहना चाहिए। इस प्रकार संयोगान्‍तस्‍य लोपः सूत्र द्वारा प्राप्त य् के लोप का निषेध हो गया।
 सुद्ध्युपास्‍यः । सुध्युपास्यः। मद्ध्‍वरिः । मध्वरिः । धात्त्रंशः । धात्रंशः।  लाकृतिः ।।
विशेष-   रूप सिद्धि में जब जिन सूत्रों की आवश्यकता हुई लघुसिद्धान्तकौमुदी में उसी क्रम में सूत्र रखे गये हैं। मूल ग्रन्थ अष्टाध्यायी है। यहाँ पाँच प्रकार के सूत्र हैं। संज्ञा, परिभाषा, विधि, नियमअतिदेश तथा अधिकार। यहाँ अधिकार सूत्रों की सीमा निश्चित की गयी है कि वह किस सूत्र तक होगी। इको यणचि आदि विधि सूत्रों में संहितायाम् सूत्र का अधिकार है। इसी प्रकार अनुवृत्ति को भी समझना चाहिए। इस प्रकार इको यणचि के साथ संहितायाम् भी जुड़ा रहता है। लघुसिद्धान्तकौमुदी में अधिकांश विधि सूत्र दिये गये हैं। सामान्यतः शब्द की सिद्धि के लिए संज्ञा तथा विधि सूत्र से काम चल सकता है। एक रूप की सिद्धि में अनेक सूत्र लगने, सूत्रों का अर्थ स्पष्ट करने तथा अन्य समस्या के समाधान में परिभाषाओं की आवश्यकता होती है। जब निर्धारित कार्य नहीं होता उसे विकल्प कहते हैं। आपको सूत्रों तथा श्लोकों में यण् सन्धियुक्त को पदों को ढूंढ़ कर सन्धि विच्छेद करने का अभ्यास चाहिए। 


२२ एचोऽयवायावः
एचः क्रमादय् अव् आय् आव् एते स्‍युरचि ।।
एच् को क्रमशः अय् अव् आय् आय् आदेश हो एच् के बाद अच् बाद में हो तो। संहिता के विषय में।
२३ यथासंख्‍यमनुदेशः समानाम्
समसम्बन्‍धी विधिर्यथासंख्‍यं स्‍यात् । हरये । विष्‍णवे । नायकः । पावकः ।।

सम सम्बन्धी (स्थानी तथा आदेश दोनों की संख्या समान ) विधि क्रमशः होती है। इस सूत्र में चार स्थानी तथा चार आदेश हैं। अतः स्थानी ए ओ ऐ औ के स्थान पर आदेश क्रमशः अय् अव् आय् तथा आव् आदेश होगा।
हरये ।
हरे + ए  में एच् ए के स्थान पर अच् ए बाद में रहने पर यथासंख्‍यमनुदेशः समानाम् के निर्देश से क्रमानुसार  अय् आदेश हुआ। हरय् + ए बना। परस्पर वर्ण संयोग होने पर हरये हुआ । इसी प्रकार अन्यत्र भी रूप सिद्ध करें। इसे संस्कृत में इस प्रकार लिखते हैं।
हरे + ए  इति स्थिते एचोऽयवायावः इत्यनेन एचः एकारस्य स्थाने अचि एकारस्य परत्वे स्थिते अयादयः आदेशः प्राप्तः यथासंख्‍यमनुदेशः समानाम् इति सूत्र सहकारेण एकारस्थाने अयादेशे कृते हरय्+ए इति स्थिते । परस्परवर्णसंयोगे हरये इति रूपं सिद्धम् ।
विष्‍णवे ।
विष्णो + ए  में एच् ओ के के स्थान पर अच् ए बाद में रहने पर अव् आदेश हुआ। विष्णव्+ए हुआ । परस्पर वर्ण संयोग होने पर विष्णवे बना।
नायकः ।
नै + अकः  में एच् ऐ के स्थान पर अच् ए बाद में रहने पर आय् आदेश हुआ। नाय्+अकः हुआ । परस्पर वर्ण संयोग होने पर नायकः बना। 
पावकः ।
पौ + अकः  में एच् औ के स्थान पर अच् अ बाद में रहने पर आव् आदेश हुआ। पाव्+अकः हुआ। परस्पर वर्ण संयोग होने पर पावकः बना। 
२४ वान्‍तो यि प्रत्‍यये
यकारादौ प्रत्‍यये परे ओदौतोरव् आव् एतौ स्‍तः । गव्‍यम् । नाव्‍यम् । 

यकारादि प्रत्यय परे रहते ओ और औ को अव् तथा आव् आदेश हो। 
गव्यम् ।
गो + यम् में यकारादि प्रत्यय यम् का य परे रहते ओ के स्थान पर अव् आदेश हुआ। गव्+यम् हुआ । परस्पर वर्ण संयोग होने पर गव्यम् रूप बना। इसी प्रकार नाव्यम् में नौ+यम्, औ को आव् आदेश, नाव्यम् रूप बना। 
(अध्‍वपरिमाणे च) । गव्‍यूतिः ।।



२५ अदेङ् गुणः
अत् एङ् च गुणसंज्ञः स्‍यात् ।।

अत् और एङ् की गुण संज्ञक हों। सूत्र के अत् का अर्थ स्पष्ट करने के लिए आगामी सूत्र है-
२६ तपरस्‍तत्‍कालस्‍य
तः परो यस्‍मात्‍स च तात्‍परश्‍चोच्‍चार्यमाणसमकालस्‍यैव संज्ञा स्‍यात् ।।

त् वर्ण जिस वर्ण के बाद हो और त् वर्ण के बाद जो बोला जाने वाला वर्ण हो, वह अपने समकाल (उच्चारण काल) की संज्ञा का बोधक हो। सूत्र में तपरः की दो व्याख्या है। 1. तपरः 2. तात्परः। तपरः का अर्थ है त् वर्ण जिस वर्ण के बाद हो। तात्परः का अर्थ है त् वर्ण के बाद जो वर्ण हो। अत् शब्द में त् अ के बाद में है। इसका समकाल ह्रस्व अ है। अतः यह अ अपने दीर्ध आ तथा प्लुत अ का बोधक नहीं होगा। अदेङ् गुणः में अत् के त् वर्ण के बाद एङ् है, अतः एङ् से दीर्घ ए ओ का ही बोध होगा प्लुत ए ओ का नहीं।
२७ आद्गुणः
अवर्णादचि परे पूर्वपरयोरेको गुण आदेशः स्‍यात् । उपेन्‍द्रः । गङ्गोदकम् ।।

उप + इन्द्रः में अवर्ण है उप का अ, अच् परे है इन्द्रः का इ, पूर्व का अ तथा पर के इ के स्थान पर ए गुण एकादेश होगा। उपेन्द्रः बना। इसी प्रकार गङ्गोदकम् में गङ्गा + उदकम्, आ + उ = ओ, गङ्गोदकम् रूप सिद्ध हुआ।
उपेन्द्रः में अ, इ तथा ए का उच्चारण स्थान समान है, अतः स्थानेन्तरतमः से ए गुण एकादेश होगा। गङ्गोदकम् में आ + उ का  स्थान सादृश्य ओ है।

विशेष- जिस सन्धि में एकादेश का विधान किया गया है, वहाँ एकः पूर्वपरयोः का अधिकार है। एक के स्थान पर एक आदेश करने का कोई अर्थ नहीं है। एकादेश जब भी होगा दो वर्णों का ही होगा। उन दोनों पूर्व तथा पर वर्णों के बीच व्यवाधान भी नहीं होना चाहिए। यह नियम पूर्व में कहा जा चुका है। अतः आगे जब भी एकादेश कहा जाय, उसका अर्थ होगा पूर्व तथा पर वर्ण का एकादेश। 
  

२८ उपदेशेऽजनुनासिक इत्
उपदेशेऽनुनासिकोऽजित्‍संज्ञः स्‍यात् । प्रतिज्ञानुनासिक्‍याः पाणिनीयाः । लण्‍सूत्रस्‍थावर्णेन सहोच्‍चार्यमाणो रेफो रलयोः संज्ञा ।।

उपदेश में अनुनासिक अच् की इत् संज्ञा हो । कौन स्वर वर्ण अनुनासिक है कौन नहीं, यह पाणिनीय परम्परा के आचार्यों की प्रतिज्ञा से ज्ञात होता है । लण्‍ सूत्र में स्थित अवर्ण के साथ उच्चारित किया जाना वाला र् वर्ण र् तथा ल् की बोधक  संज्ञा है ।।
२९ उरण् रपरः
ऋ इति त्रिंशतः संज्ञेत्‍युक्तम् । तत्‍स्‍थाने योऽण् स रपरः सन्नेव प्रवर्तते । कृष्‍णर्द्धिः । तवल्‍कारः ।।

ऋ 30 प्रकार की संज्ञाओं वाला है, यह संज्ञा प्रकरण में कहा जा चुका है। ऋ के स्थान पर किये जाने वाले अणादेश के तुरन्त बाद र् भी साथ में हो। ऋ वर्ण के स्थान पर होने वाला जो अण् (अ इ उ ) वह र् पर वाले होते हैं। लण् सूत्र के ल का अ उपदेशेऽजनुनासिक इत् सूत्र से इत्संज्ञक होने के कारण र प्रत्याहार बनेगा। इसमें आदि वर्ण र् तथा अंत वर्ण ल् का ग्रहण होने से र प्रतायाहार में र् तथा ल् दोनों वर्णों का ग्रहण होगा। इस प्रकार र पर में हो कहने से ल् का भी ग्रहण होगा। इस सूत्र में र प्रत्याहार है।
कृष्‍णर्द्धिः । कृष्ण + ऋद्धि  यहाँ ण के बाद का अ के परे अच् ऋद्धि का ऋकार है। आद् गुणः से अ तथा ऋ के स्थान पर गुण एकादेश अ हुआ। स्थानेन्तरतमः से अ के बाद र् बाद में आया। कृष्ण अर् द्धि वर्ण संयोग कृष्‍णर्द्धिः रूप बनेगा।



३० लोपः शाकल्‍यस्‍य
अवर्णपूर्वयोः पदान्‍तयोर्यवयोर्लोपो वाऽशि परे ।।

अवर्ण पूर्व वाले पदान्त यकार तथा वकार का लोप हो विकल्प से अश् परे रहते।
३१ पूर्वत्रासिद्धम्
सपादसप्‍ताध्‍यायीं प्रति त्रिपाद्यसिद्धात्रिपाद्यामपि पूर्वं प्रति परं शास्‍त्रमसिद्धम् । हर इहहरयिह । विष्‍ण इहविष्‍णविह ।।

अष्टाध्यायी के अध्याय सात पाद 1 ( सपादसप्ताध्यायी 7.1) के सूत्र प्रति तीन पादों (त्रिपादी) में स्थित सूत्र असिद्ध होते हैं।  तीनों पादों में भी पूर्व सूत्र के प्रति बाद वाले सूत्र असिद्ध होते हैं। अर्थात् सवा सात अध्याय के सूत्र तथा त्रिपादी के सूत्र यदि एक स्थान पर प्रवृत्त हों तो त्रिपादी में स्थित सूत्र का कार्य नहीं होता है। त्रिपादी के सूत्रों में भी पहले वाले सूत्र तथा बाद वाले सूत्र में बाद वाले सूत्र का कार्य नहीं होगा। जैसे- हरे + इह में ए को अय् आदेश होकर हरय् + इह हुआ। लोपः शाकल्यस्य से पदान्त यकार  के पूर्व अवर्ण है,  इह का इ बाद में है, जो कि अश् प्रत्याहार में आता है। सूत्र घटित होने से य् का विकल्प से लोप हो गया। हर इह बना। हर इह में आद् गुणः से गुण क्यों नहीं हो सकता? इस शंका के समाधान में पूर्वत्रासिद्धम् सूत्र आता है। आद् गुणः सपादसप्ताध्यायी का सूत्र है। आद्गुणः के समक्ष त्रिपादी के सूत्र लोपः शाकल्‍यस्‍य का कार्य नहीं हो सकता है। लोपः शाकल्‍यस्‍य के असिद्ध होने से  आद् गुणः को हरय् इह ही दिख रहा है। अतः यहाँ गुण नहीं हुआ। यकार का लोप नहीं होने पर हरयिह रूप बनेगा। इसी प्रकार विष्णो + इह में अव् आदेश कर रूप बनाना चाहिए।


३२ वृद्धिरादैच्
आदैच्‍च वृद्धिसंज्ञः स्‍यात् ।।
आत् तथा ऐच् की वृद्धि संज्ञा हो। तपरस्तत्कालस्य से आत् में तपर तथा ऐच् तकार के बाद में  होने से यहाँ दीर्घ आ ऐ औ का  ही ग्रहण होगा। प्लुत का नहीं। जहाँ आ वृद्धि होगी वहाँ रपर तथा लपर भी होगा।
३३ वृद्धिरेचि
आदेचि परे वृद्धिरेकादेशः स्‍यात् । गुणापवादः । कृष्‍णैकत्‍वम् । गङ्गौघः । देवैश्वर्यम् । कृष्‍णौत्‍कण्‍ठ्यम् ।।
अवर्ण से एच् परे रहने पर पूर्व पर के स्थान पर वृद्धि एकादेश हो। यह वृद्धि गुण सन्धि का अपवाद है।
वृद्धिरेचि सूत्र में आद्गुणः से पञ्चम्यन्त आत् का अनुवर्तन होता है । एक पूर्वपरयोः का अधिकार होने से पूर्व तथा पर के स्थान पर यह चला आ रहा है। । आद्रुणः से यहाँ गुण प्राप्त था। अलग से सूत्र बनाकर वृद्धि का विधान करना सिद्ध करता है कि यह गुण सन्धि का अपवाद है। । 
कृष्णैकत्वम्। यहाँ  कृष्णस्य एकत्वम् षष्ठी तत्पुरूष समास है। कृष्ण + एकत्वम् में अवर्ण है कृष्ण का अकार, इसके एच् परे है एकत्वम् का एकार। पूर्व अ तथा पर ए, दोनों के स्थान पर एक वृद्धि आदेश ऐ (अ + ए = ऐ) होगा। कृष्ण + ऐकत्वम् कृष्णैकत्वम् रूप बना।  यहाँ अकार और एकार का उच्चारण स्थान क्रमशः कण्ठ और तालु है अतः वही कण्ठ तालु उच्चारण स्थान वाला ऐकार एकादेश होगा । इसी प्रकार गङ्गा ओघः में आकारस्य ओकारस्य च कण्ठ ओष्ठ स्थान वाला औकार एकादेश होगा। इसी प्रकार  देवैश्वर्यम् एवं कृष्णौत्कण्ठयम् में भी समझना चाहिए ।

३४ एत्‍येधत्‍यूठ्सु
अवर्णादेजाद्योरेत्‍येधत्‍योरूठि च परे वृद्धिरेकादेशः स्‍यात् । (पररूपगुणापवादः) उपैति । उपैधते । प्रष्‍ठौहः । एजाद्योः किम् ? उपेतः । मा भवान्‍प्रेदिधत् ।
अवर्ण से परे एजादि धातु सम्बन्धी एति, एधति तथा ऊठ् परे रहने पर वृद्धि एकादेश हो। यह सूत्र उप +एति, उप + एधते आदि में  एङि पररूपम् से प्राप्त पररूप तथा प्रष्ठ + ऊह जैसे स्थलों पर आद्गुणः से प्राप्त गुण का अपवाद है। उप +एति में अ तथा ए को वृद्धि एकादेश ऐ होकर उपैति बना। एति क्रिया इण् गतौ धातु से निष्पन्न है। इसी प्रकार उप + एधते तथा प्रष्ठ + ऊहः में भी वृद्धि एकादेश हुआ।
एजाद्योः किमिति- सूत्र से एति, एधति का विशेषण एजादि इस कारण से रखा गया कि उप + इतः जैसे स्थल पर इस सूत्र से वृद्धि नहीं हो। इतः इण् धातु से निष्पन्न है। यदि एजादि विशेषण नहीं लगाया जाय तो प्रकृत सूत्र से यहाँ वृद्धि होने लगेगा। यहाँ वृद्धि न होकर गुण अभीष्ट है। अतः इण् धातु का विशेषण एजादि लगाया ।  गुण होकर उपेतः रूप बनेगा।  इसी प्रकार प्रेदिधत् में  प्र + इदिधत् में गुण होगा वृद्धि नहीं। 

विशेष- 
1.व्याकरण में सूत्रों के नियमों को स्मरण रखना जितना महत्वपूर्ण है, उतना ही सूत्रों (नियमों) के विश्लेषण का भी। विश्लेषण के पश्चात् ही उचित अनुचित का बोध हो सकता है। हम निर्णय तक पहुँच पाते हैं। विश्लेषण के बाद ही सही निष्कर्ष तक पहुँचा जा सकता है। कई स्थलों पर सूत्रों में बाध्य बाधक भाव है। उसका सही निर्णय तब हो पाता है जब हम उसके बारे में गहरी छानबीन करते हैं। व्याकरण में इसे परिष्कार कहा जाता है। रूपों की सिद्धि तक का भाग प्रक्रिया कहलाता है। एजाद्योः किम् जैसे प्रश्न परिष्कार या विश्लेषण के लिए है। ग्रन्थकार इस प्रकार के प्रश्न के द्वारा हमें सूत्रों के प्रत्येक अनुबन्धों (शर्तों) की उपयोगिता से परिचित कराता हैं। आपको आगे कई स्थलों पर इस प्रकार के प्रश्न मिलेंगें। आप भी सूत्रार्थ के किसी एक अंश को हटाकर उससे होने वाले प्रभाव को परख सकते हैं।
2.पूर्व-पर-नित्य-अन्तरङ्ग-अपवादानाम् उत्तरीत्तरं बलीयः नित्य का अपवाद  (पररूपगुणापवादः)
जहाँ सामान्य विधि की अनिवार्य प्रवृत्ति हो रही हो, उसी सामान्य विधि में से कुछ अंश को लेकर नवीन विधि आरम्भ की जाती है, वह विशेष होने से सामान्य का अपवाद बन जाती है। गुण तथा पररूप सामान्य नियम है, जबकि एजादि धातु सम्बन्धी एति, एधति तथा ऊठ् परे रहने पर वृद्धि एकादेश नवीन विधि है अतः एत्येधत्येठ्सु सूत्र एङि पररूपम् तथा आद् गुणः का अपवाद है। 
अन्य उदाहरण देखें- अनेकाल्शित् सर्वस्य(अष्टा. 1.1.55) सम्पूर्ण के स्थान पर करता है। इस सामान्य विधि के विषय से ङिच्च(अष्टा. 1.1.53) ङित् को लेकर अन्त्यादेश नियम करता है, जो कि विशेष विधि है। अतः ङिच्च सूत्र अनेकाल्शित् सर्वस्य के सर्वादश का बाधक है।
3. (पररूपगुणापवादः) अवर्ण से अच् परे रहने पर गुण होता है। अच् प्रत्याहार के अन्तर्गत सभी स्वर वर्ण आते हैं। अच् प्रत्याहार में कुल 9 वर्ण आते हैं। वृद्धिरेचि अवर्ण से एच् परे रहने पर वृद्धि करता है। एच् प्रत्याहार में 4 वर्ण आते हैं। गुण करने के लिए अच् निमित्त है जबकि वृद्धि करने के लिए एच् निमित्त है।  जहाँ- जहाँ वृद्धि प्राप्त है, वहाँ - वहाँ गुण भी प्राप्त है। ऐसी स्थिति में एक परिभाषा लगती है- असिद्धं बहिरङ्गमन्तरङ्गे। अन्तरङ्ग कार्य जहाँ प्राप्त हो वहाँ बहिरङ्ग कार्य असिद्ध होता है। यहाँ हमें अन्तरङ्ग तथा बहिरङ्ग शब्द को समझना होगा। इसे अन्तः (भीतर) और बहिः (बाहर) से भी समझा जा सकता है। अन्तः में ही यहि काम बन जाय तो भला कौन बाहर जाना चाहता है। या यूँ कहें- पास के लोगों का काम पहले तथा दूर के लोगों का काम बाद में होता है। बहिरङ्ग वह है जो अपेक्षाकृत अधिक निमित्त की अपेक्षा रखता है तथा अन्तरङ्ग वह है जो कम निमित्त तथा व्याख्यान की अपेक्षा रखता है । अब इसे गुण और वृद्धि के सन्दर्भ में देखें। गुण का निमित्त अच् है। गुण कार्य में अच् की अपेक्षा है। अच् बाद में होने पर ही गुण होगा। वृद्धि का निमित्त (एच्) अपेक्षा इसमें अधिक वर्ण है, अतः वृद्धि अन्तरङ्ग है और गुण बहिरङ्ग। जहाँ अन्तरङ्ग कार्य प्राप्त होगा वहाँ बहिरङ्ग कार्य असिद्ध हो जाएगा। अतः प्राप्त + ओषधीनाम् में प्राप्त गुण को बाधकर वृद्धि होती है। प्राप्तौषधीनम् रूप बनेगा।
अब आगे-
अभी तक आपने जाना कि गुण को बाधकर अवर्ण के बाद एङ् होने पर वृद्धि होती है, परन्तु वृद्धि को बाधकर एङि पररूपम् (६.१.९४) से पररूप हो जाता है। यह सूत्र अवर्णान्त उपसर्ग से एङादि धातु परे रहने पर पररूप एकादेश करता है। ए, ओ, ऐ तथा औ वर्ण जिस धातु के आदि में वही यह सूत्र लगेगा। अभी तक सभी प्रकार के जिस शब्द के आदि में एङ् होता था वहाँ वृद्धि प्राप्त थी। पररूप की अपेक्षा वृद्धि का कार्य अधिक निमित्त की अपेक्षा रखता है अतः पररूप की अपेक्षा वृद्धि का कार्य बहिरङ्ग होने से असिद्ध हो जाएगा।
इसी प्रकार उपैति, उपैधते आदि में प्राप्त गुण को वृद्धि के प्रति असिद्ध है। एङि पररूपम् से होने वाले पररूप के प्रति वृद्धि असिद्ध है तथा एत्येधत्येठ्सु से प्राप्त वृद्धि के प्रति पररूप असिद्ध है।  वृद्धिः न भवति किन्तु ए इति पररूपं भवति।
उदाहरण- उपैति शान्तरजसं ब्रह्मभूतकल्मषम् ।। गीता 6.27॥



(अक्षादूहिन्‍यामुपसंख्‍यानम्) । अक्षौहिणी सेना । 
अक्ष शब्द परे ऊहिनी होने पर वृद्धि एकादेश हो । अक्ष + ऊहिनी में अ तथा ऊ के स्थान पर औ वृद्धि  एकादेश होकर अक्षौहिणी रूप बना । 
(प्रादूहोढोढ्येषैष्‍येषु) । प्रौहः । प्रौढः । प्रौढिः । प्रैषः । प्रैष्‍यः । 
प्र उपसर्ग के पश्चात् ऊह, ऊढ, ऊढि, एष तथा एष्य बाद में हो तो वृद्धि एकादेश हो। प्रौह, प्रौढ, । प्रौढि में गुण प्राप्त था, जिसे बाधकर इससे बृद्धि हुई। प्रैषः प्रैष्‍यः में वृद्धिरेचि से वृद्धि करने पर भी यही रूप बनता पुनः इस सूत्र द्वारा अलग से विधान करने के प्रयोजन पर विचार करना चाहिए।  
(ऋते च तृतीयासमासे) । सुखेन ऋतः सुखार्तः । तृतीयेति किम् ? परमर्तः । 
अवर्ण से ऋत शब्द परे रहते पूर्व पर के स्थान पर वृद्धि एकादेश हो तृतीया समास में। सुखार्त का लौकिक विग्रह करते हैं- सुखेन ऋतः । सुख + ऋत इस स्थिति में पूर्व पर के स्थान पर वृद्धि तथा रपर आदेश हुआ। सुखार्तः बना। यदि तृतीया समास से कोई भिन्न समास होगा तो वहाँ वृद्धि नहीं होगी। जैसे परमश्चासौ ऋतः में कर्मधारय समास है। अतः परम + ऋत में गुण होगा वृद्धि नहीं।


(प्रवत्‍सतरकम्‍बलवसनार्णदशानामृणे) । प्रार्णम्वत्‍सतरार्णम्इत्‍यादि ।।

प्र वत्‍सतर कम्‍बल वसन ऋण दश के बाद ऋण शब्द होने पर वृद्धि एकादेश हो। प्र + ऋणम् में अ + ऋ = आर् । प्रार्णम् बना।


३५ उपसर्गाः क्रियायोगे
प्रादयः क्रियायोगे उपसर्गसंज्ञाः स्‍युः । प्र परा अप सम् अनु अव निस् निर् दुस् दुर् वि आङ् नि अधि अपि अति सु उत् अभि प्रति परि उप – एते प्रादयः ।।
प्रादि का क्रिया के साथ योग होने पर उपसर्ग संज्ञा हो। प्र परा अप सम् अनु अव निस् निर् दुस् दुर् वि आङ् नि अधि अपि अति सु उत् अभि प्रति परि उप ये प्रादि हैं।
३६ भूवादयो धातवः
क्रियावाचिनो भ्‍वादयो धातुसंज्ञाः स्‍युः ।।

क्रिया वाचक भू आदि की धातु संज्ञा हो।
३७ उपसर्गादृति धातौ
अवर्णान्‍तादुपसर्गाद्दकारादौ धातौ परे वृद्धिरेकादेशः स्‍यात् । प्रार्च्छति ।।
अवर्णान्त उपसर्ग से ऋकारादि धातु के परे रहते पूर्व पर के स्थान में वृद्धि एकादेश हो।

प्र + ऋच्छति यहाँ पर ऋच्छति में ऋच्छ भूवादि गण पठित है। इसे भूवादयो धातवः से धातु संज्ञा हुई। ऋच्छति क्रिया के साथ प्र है, अतः प्र को उपसर्गाः क्रियायोगे से उपसर्ग संज्ञा हुई। प्र + ऋच्छति में अवर्णान्त उपसर्ग है प्र का अ, इसके परे ऋकारादि धातु है ऋच्छति का ऋ । पूर्व अ पर ऋ के स्थान में वृद्धि हुई आ । उरण् रपरः से आ के बाद र् आने पर रूप बना प्रार्च्छति । इसी प्रकार अन्य ऋकारादि धातु के साथ उपसर्गों का रूप बनाना चाहिए।


३८ एङि पररूपम्
आदुपसर्गादेङादौ धातौ पररूपमेकादेशः स्‍यात् । प्रेजते । उपोषति ।।

अवर्णान्त उपसर्ग से एङादि धातु परे रहने पर पररूप एकादेश हो। प्र + एजते यहाँ पर वृद्धिरेचि से वृद्धि प्राप्त है परन्तु इसे बाधकर इस सूत्र से पूर्व अ तथा पर ए के स्थान पर पररूप एकादेश होगा - ए। प्रेजते रूप बनेगा। इसी प्रकार उपोषति में उप + ओषति में पररूप एकादेश ओ होकर उपोषति रूप बनेगा। 
३९ अचोऽन्‍त्‍यादि टि
अचां मध्‍ये योऽन्‍त्‍यः स आदिर्यस्‍य तट्टिसंज्ञं स्‍यात् । 

अचों के मध्य जो अंतिम अच् वह जिसके आदि में हो उस समुदाय की टि संज्ञा होती है।
(शकन्‍ध्‍वादिषु पररूपं वाच्‍यम्) । तच्‍च टेः । शकन्‍धुः । कर्कन्‍धुः। मनीषा । आकृतिगणोऽयम् । मार्त्तण्‍डः ।।

शकन्धु आदि में वाक्य के टि को पररूप होता है। शक + अन्धु में शक में दो अच् हैं, इसमें अंतिम अच् है क के पश्चात् अ । वह अकेले है। अतः वही आदि, मध्य और अंत होगा। अ स्वयं के आदि में है। उस अ की टि संज्ञा हुई। शकन्ध्वादि से शक + अन्धु में पूर्व अ तथा पर अ को पररूप अन्धु के अ की तरह हो गया। मनस् + ईशा में टि संज्ञक अंग होगा, अस् । अस् तथा ई दोनों के स्थान पर पररूप होगा ई। मनीषा सिद्ध होगा।


४० ओमाङोश्‍च
ओमि आङि चात्‍परे पररूपमेकादेशः स्‍यात् । शिवायों नमः । शिव एहि ।।

अवर्ण से ओम् तथा आङ् परे रहते पररूप एकादेश हो। 
४१ अन्‍तादिवच्‍च
योऽयमेकादेशः स पूर्वस्‍यान्‍तवत्‍परस्‍यादिवत् । शिवेहि ।।

 शिवाय + ओम् में अवर्ण से ओम् बाद में रहने पर पररूप होकर शिवायों बना। शिवेहि की सिद्धि करते है। शिव + आ + इहि इस स्थिति में आद् गुणः सूत्र से आ तथा इ को गुण होकर ए हुआ। शिव एहि यहाँ पर आ दृश्य नहीं होने पर अन्तादिवच्च सूत्र प्रवृत्त हुआ।  आ तथा इ का जो यह ए एकादेश है वह पूर्व आ शब्द अन्त के समान होगा। अर्थात् आ एक ही वर्ण है अतः यही पूर्व, पर तथा मध्य है। आ आदि के समान भी होगा। अब ओमाङोश्च से पर में आ होने के कारण शिव + एहि में आङ् (आ) परे रहने पर पररूप एकादेश हुआ। शिवेहि रूप बना।
४२ अकः सवर्णे दीर्घः
अकः सवर्णेऽचि परे पूर्वपरयोर्दीर्घ एकादेशः स्‍यात् । दैत्‍यारिः । श्रीशः । विष्‍णूदयः । होतॄकारः ।।
अक् से सवर्ण अच् परे रहने पर पूर्व पर के स्थान में दीर्ध एकादेश हो।

दैत्यारिः। दैत्य + अरिः में य के अ तथा अरिः के अ का सवर्ण दीर्ध एकादेश आ हुआ। अ तथा आ का उच्चारण स्थान एक होने से तुल्यास्य प्रयत्नं सूत्र से सवर्ण ग्राहकता होती है। श्री + ईश, ई + ई = ई । विष्णु + उदय, उ + उ = ऊ। होतृ + ऋकार, ऋ +ऋ  = ऋ  में भी सवर्ण दीर्ध होकर श्रीशः, विष्णूदयः, होतॄकारः रूप बनेगा।

४३ एङः पदान्‍तादति
पदान्‍तादेङोऽति परे पूर्वरूपमेकादेशः स्‍यात् । हरेऽव । विष्‍णोऽव ।।
पदान्त एङ् से अत् परे रहने पर पूर्वरूप एकादेश हो।

हरे + अव में पदान्त एङ् है हरे का ए, अत् परे में है अ।  पूर्व ए तथा पर अ के स्थान पर पूर्व के समान ए एकादेश हुआ । हरेऽव बना। इसी प्रकार विष्णो + अव में पूर्वरूप होकर विष्णोऽव बना। 
४४ सर्वत्र विभाषाः गोः
लोके वेदे चैङन्‍तस्‍य गोरति वा प्रकृतिभावः पदान्‍ते । गोअग्रम्गोऽग्रम् । एङन्‍तस्‍य किम् ? चित्रग्‍वग्रम् । पदान्‍ते किम्गोः ।।
लोक और वेद में पदान्त में एङन्त गो शब्द को अत् परे रहते प्रकृति भाव हो विकल्प से । गो + अग्रम् में पदान्त में एङन्त गो के ओ को अग्रम् के अ परे रहने पर प्रकृतिभाव (यथा स्थिति) हुआ। गोअग्रम् बना। गो शब्द एङन्त होता ही है, पुनः सूत्र में एङन्त गो शब्द क्यों कहा? समास में गो के ओ को ह्रस्व होकर उ हुआ।  चित्रगु + अग्रम् में पदान्त उ तथा अ का प्रकृतिभाव नहीं हो अतः एङन्त गो कहा। यहाँ ओ नहीं होने से प्रकृतिभाव नहीं होगा। गो अस्, यहाँ सुबन्त अस् मिलने पर ही पद कहलाएगा। गो पदान्त नहीं होने से प्रकृतिभाव नहीं होगा।


४५ अनेकाल्शित्‍सर्वस्‍य
इति प्राप्‍ते ।।

अनेकाल् (जिसमें अनेक अल् हो) तथा शित् (जिसका शकार इत् हो) ऐसा आदेश सम्पूर्ण स्थानी के स्थान पर होता है।
४६ ङिच्‍च
ङिदनेकालप्‍यन्‍त्‍यस्‍यैव स्‍यात् ।।

ङित् (जहाँ ङकार की इत्संज्ञा हुई हो) तथा अनेकाल् आदेश स्थानी के अन्त्य वर्ण के स्थान पर ही हो।
४७ अवङ् स्‍फोटायनस्‍य
पदान्‍ते एङन्‍तस्‍य गोरवङ् वाऽचि । गवाग्रम्गोऽग्रम् । पदान्‍ते किम् ? गवि ।।
पदान्त में एङन्त गो शब्द को अवङ् आदेश हो अच् परे रहते विकल्प से। गो + अग्रम् इस स्थिति में पदान्त में एङन्त गो के ओ को अच् अग्रम् के अ परे रहने पर अवङ् आदेश प्राप्त हुआ ।  अवङ् आदेश अनेक अल् वाला है तथा इसमें ङ् की इत्संज्ञा होने के कारण यह ङित् है। अनेकाल्शित् सर्वस्य के अनुसार अनेकाल् आदेश सम्पूर्ण गो के स्थान पर प्राप्त है। अवङ् ङित् होते हुए अनेकाल् आदेश है, अतः ङिच्च अनेकाल्शित् को बाधित कर अंतिम वर्ण ओ के स्थान पर आदेश करने का निर्देश दिया। ग् + अव + अग्रम् में दीर्घ होकर गवाग्रम्  बना। विकल्प पक्ष में एङः पदान्तादति से पूर्वरूप होकर गोऽग्रम् बना।
गो + इ (इ सप्तमी विभक्ति) यहाँ गो शब्द पदान्त में नहीं है। यहाँ अवङ् आदेश होने पर गव + इ गुण होकर गवे रूप बन जाता, जो अभीष्ट नहीं है। अतः सूत्र में पदान्त कहा। गो + इ में अवादेश होता है। एङन्त अनुबन्ध का कारण चित्रगु + अग्रम् में दिया गया है।
४८ इन्‍द्रे च
गोरवङ् स्‍यादिन्‍द्रे । गवेन्‍द्रः ।।
इन्द्र शब्द परे रहते गो शब्द को अवङ् आदेश हो। गो + इन्द्र इस स्थिति में ओ को अवङ् आदेश हुआ। ङ् की इत् संज्ञा लोप, ग् + अव + इन्द्र हुआ। आद् गुणः से अ तथा इ का गुण एकादेश ए हुआ। गवेन्द्रः रूप बनेगा।





४९ दूराद्धूते च
दूरात्‍सम्‍बोधने वाक्‍यस्‍य टेः प्‍लुतो वा ।।

दूर से पुकारने में वाक्य के टि को प्लुत हो विकल्प से।

इस सूत्र में तीन पद हैं। दूरात्,  हूते च। हूते का अर्थ होता है- आह्वान करना, बुलाना, पुकारना। किसी स्थान विशेष से जब  सम्बोधित किया गया व्यक्ति नहीं सुन पाता हो, जिसको बुलाने के लिए अपेक्षकृत अधिक प्रयत्न की आवश्यकता हो उसे यहाँ पर दूर कहा गया है। इस सूत्र में वाक्य के टि को प्लुत संज्ञा की जाती है अतः अचोऽन्त्यादि टि से अंतिम अच् की टि संज्ञा होगी। तदनन्तर टि को विकल्प से प्लुत संज्ञा होगी। यह प्लुत संज्ञा वहीं होगी जहाँ दूर से आह्वान करने में वाक्य का अन्तिम पद सम्बोधन युक्त होगा। बालक आगच्छ जैसे वाक्य का अंतिम पद सम्बोधन युक्त नहीं होने से आगच्छ के अंतिम टि अर्थात् छकार के अकार की प्लुत संज्ञा नहीं होगी। 
५० प्‍लुतप्रगृह्‍या अचि नित्‍यम्
एतेऽचि प्रकृत्‍या स्‍युः । आगच्‍छ कृष्‍ण ३ अत्र गौश्‍चरति ।।  

अच् परे रहते प्लुत और प्रगृह्य संज्ञक को प्रकृतिभाव हो।
आगच्‍छ कृष्‍ण + अत्र गौश्‍चरति में अचोन्त्यादि टि से  ण के अ की टि संज्ञा हुई। दूराद्धूते च से दूर से पुकारने वाले इस वाक्य के टि को विकल्प से प्लुत हुआ। प्‍लुतप्रगृह्‍या अचि नित्‍यम् से प्लुत संज्ञक अ से अच् बाद में होने के कारण प्रकृतिभाव हुआ।  आगच्‍छ कृष्‍ण ३ अत्र गौश्‍चरति बना।

विशेष- इकोऽसवर्णे शाकल्यस्य ह्रस्वश्च 6.1.127  सूत्र असवर्ण अच् परे रहते पदान्त इक् को विकल्प से ह्रस्व करता है। वहीं पर प्लुतप्रगृह्याः अचि नित्यम् 6.1.125  की भी प्रवृत्ति होती है। विप्रतिषेधे परं कार्यम् के अनुसार पर कार्य है- इकोऽसवर्णे शाकल्यस्य ह्रस्वश्च से ह्रस्व करना। विप्रतिषेध नियम से सम्बोधन द्विवचनान्त हरी आगच्छ जैसे स्थलों में भी असवर्ण अच् परे रहते पदान्त इक् को विकल्प से ह्रस्व हो जाता। इसे स्पष्ट करने के लिए प्लुतप्रगृह्याः अचि नित्यम् में "नित्य"ग्रहण किया गया। 


५१ ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्‍यम्
ईदूदेदन्‍तं द्विवचनं प्रगृह्‍यं स्‍यात् । हरी एतौ । विष्‍णू इमौ । गङ्गे अमू ।।

ईत् ऊत् तथा एत् (ईकारान्त ऊकारान्त तथा एकारान्त) द्विवचन की प्रगृह्य संज्ञा हो।

हरी में ई, विष्‍णू में ऊ तथा गङ्गे में एकारान्त द्विवचन है। अतः इस सूत्र से हरी एतौ । विष्‍णू इमौ । गङ्गे अमू में ई, ऊ तथा ए की प्रगृह्यसंज्ञा हुई। प्रगृह्यसंज्ञा होने से प्लुतप्रगृ०से प्रकृतिभाव हुआ। 


५२ अदसो मात्
अस्‍मात्‍परावीदूतौ प्रगृह्‍यौ स्‍तः । अमी ईशाः । रामकृष्‍णावमू आसाते । मात्‍किम् ? अमुकेऽत्र ।।

अदस् शब्द के अवयव स्वरूप मकार से परे ईकारान्त तथा ऊकारान्त की प्रगृह्य संज्ञा हो।
अदस् शब्द से अमी बनता है। अमी का ईकार तथा ईशा के ई में सवर्ण दीर्घ प्राप्त था, जिसे बाधकर अदसो मात् से ईकारान्त अदस् शब्द की प्रगृह्य संज्ञा हुई।  प्रगृह्यसंज्ञा होने से प्लुतप्रगृ०से प्रकृतिभाव हुआ। अमी ईशाः रूप बना। इसी प्रकार रामकृष्‍णावमू आसाते में यण् न होकर प्रगृह्यसंज्ञा तथा  प्रकृतिभाव हुआ। सूत्र में मात्= मकार से परे यदि नहीं कहते तो ईदूदेद् सूत्र से एत् की भी अनुवृत्ति आती। अदस् शब्द के अवयव स्वरूप एकार के बाद भी प्रगृह्यसंज्ञा का विधान होता। वस्तुतः अदस् शब्द के म के बाद ए कहीं नहीं आता। अतः मात् ग्रहण किया। 
विशेष- 

सन्धि के अभाव को प्रकृतिभाव कहा जाता है। अमी ईशाः में अकः सवर्णे दीर्घः से दीर्घ प्राप्त था, जिसे यह सूत्र बाधकर प्रकृतिभाव कर देता है। इसी प्रकार रामकृष्‍णावमू आसाते में इको यणचि से प्राप्त यण् को प्रकृत सूत्र बाध लेता है। अलोऽन्त्यस्य सूत्र से अदस् शब्द के अवयव स्वरूप मकार के अंतिम अल् की प्रगृह्य संज्ञा होगी।
विशेष- 
जिस अदस् शब्द के अवयव स्वरूप मी, मू होगा वहाँ प्रगृह्य संज्ञा होगी। अदस् शब्द के अधोलिखित लिंग में निम्नानुसार रूप बनते हैं
अदस् (पुँल्लिंग के प्रथमा/द्वितीया-द्विवचनम् में) – अमू तथा (प्रथमाबहुवचनम्) अमी
अदस् (स्त्रीलिंग के प्रथमा/द्वितीया-द्विवचनम् में) अमू
अदस् (नपुँलिंग के प्रथमा/द्वितीया-द्विवचनम् में ) – अमू
आपने देखा कि अदस् शब्द के पुँल्लिंग तथा स्त्रीलिंग के द्विवचन में अमू रूप बनता है। शंका होती है कि जब  द्विवचन के अमू की प्रगृह्य संज्ञा ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्यम् से हो सकती थी तो सूत्र में ईदूदेद् से ऊकार की अनुवृत्ति लाने से क्या लाभ है? उत्तर है कि- अदस् शब्द के पुँल्लिङ्ग में बनने वाला "अमू" की प्रगृह्य संज्ञा अदसो मात् से होती है, जबकि स्त्रीलिंग द्विवचन का अमू की प्रगृह्य संज्ञा  ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्यम् से हो सकती है।
पूरी प्रक्रिया यह है-

पुँल्लिंग अदस् शब्द से औ विभक्ति में त्यदादीनामः से सकार को अकार होकर अद अ + औ बना। अतो गुणे से अद के अंतिम अ तथा सकार से परिवर्तित अकार को पररूप एकादेश अकार होकर अद + औ बना। वृद्धिरेचि से वृद्धि एकादेश होकर अदौ बना। अब अदसोऽसेर्दादु दो मः 8.2.80 से अदौ के दकार को मकार तथा औकार को ऊकार हो जाता है। यहाँ पर ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्यम् 1.1.11 से प्रगृह्य संज्ञा इसलिए नहीं हो पाती क्योंकि अदसोऽसेर्दादु दो मः 8.2.80 यह सूत्र ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्यम् 1.1.11 की दृष्टि में असिद्ध है। अतः ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्यम् को "अदौ"  रूप दिखाई देता है। अदौ के अन्त में ईकार या ऊकार नहीं होने से ईदूदेद् द्विवचनं प्रगृह्यम् से प्रगृह्य संज्ञा नहीं हो पाती । अतः पुँल्लिङ्ग अदस् शब्द के "अमू" रूप की प्रगृह्यसंज्ञा अदसो मात् से हो पाती है ।


५३ चादयोऽसत्‍वे
अद्रव्‍यार्थाश्‍चादयो निपाताः स्‍युः ।।

द्रव्य भिन्न अर्थ में च आदि निपात संज्ञक हों। जिन शब्दों में लिंग तथा संख्या का अन्वय (बोध) होता है, उसे द्रव्य कहते हैं।  लिङ्गसंख्यान्वयित्वं द्रव्यत्वम् ।
५४ प्रादयः
एतेऽपि तथा ।।

प्र आदि की भी निपात संज्ञा हो।
५५ निपात एकाजनाङ्
एकोऽज् निपात आङ्वर्जः प्रगृह्‍यः स्‍यात् । इ इन्‍द्रः । उ उमेशः । ’वाक्‍यस्‍मरणयोरङित्आ एवं नु मन्‍यसे । आ एवं किल तत् । अन्‍यत्र ङित् - आ ईषदुष्‍णम् ओष्‍णम् ।।

आङ् को छोड़कर एक अच् रूप निपात की प्रगृह्य संज्ञा होती है।  इ इन्‍द्रः का इ चादि गण में पठित है, अतः चादयोऽसत्‍वे से निपात संज्ञा,  निपात एकाजनाङ् से प्रगृह्‍य संज्ञा तथा प्लुतप्रगृह्या से प्रकृतिभाव हुआ। इसी प्रकार उ उमेशः में भी। यहाँ सवर्ण दीर्घ प्राप्त था, जिसे चादयोऽसत्‍वे से बाध हो गया। वाक्य तथा स्मरण अर्थ में आ को प्रयोग होता है। वह आङ् नहीं है अतः आ एवं नु मन्‍यसे इस वाक्य में भी प्रकृतिभाव हुआ। जहाँ आङ् का आ होगा वहाँ प्रगृह्य संज्ञा नहीं होगी। जैसे ओष्णम्  का आ आङ् का आ है। अतः आ + उष्णम् में गुण होगा, प्रगृह्य संज्ञा नहीं।
एक कारिका से स्पष्ट हो जाता है कि कहाँ पर "आ" का प्रयोग और कहाँ पर "आङ्" का प्रयोग होता है।
                        ईषदर्थे क्रियायोगे मर्यादाभिविधौ च यः ।
एतमातं ङितं विद्यात् वाक्यस्मरणयोरङित् ॥

इस कारिका के अनुसार चार अर्थों में आङ् शब्द का  प्रयोग होता है,,जबकि दो अर्थों में "आ" का।


५६ ओत्
ओदन्‍तो निपातः प्रगृह्‍यः स्‍यात् । अहो ईशाः ।।

ओदन्त निपात की प्रगृह्य संज्ञा होती है। 
अहो अद्रव्यवाची शब्द है, अतः इसे चादयोऽसत्‍वे से निपात संज्ञा तथा ओदन्त निपात होने से ओत् सूत्र से प्रगृह्य संज्ञा हुई। अहो के ओ की प्रगृह्य संज्ञा होने से प्लुतप्रगृह्या से प्रकृतिभाव होता है। अहो ईशाः बना। प्रगृह्य संज्ञा तथा प्रकृतिभाव होने के कारण एचोऽयवायावः से प्राप्त ओ को अवादेश नहीं होगा।  
५७ सम्‍बुद्धौ शाकल्‍यस्‍येतावनार्षे
सम्‍बुद्धिनिमित्तक ओकारो वा प्रगृह्‍योऽवैदिके इतौ परे । विष्‍णो इतिविष्‍ण इतिविष्‍णविति ।।

सम्बुद्धि के ओकार की विकल्प से प्रगृह्य संज्ञा हो इति शब्द परे रहते जो कि वेद का विषय नहीं हो।
संबोधन के एकवचन को सम्बुद्धि कहते हैं। विष्णु शब्द के एकवचन सम्बोधन में विष्णो रूप बनता है। विष्णो इति में एचोऽयवायावः से अवादेश प्राप्त था, जिसे सम्बुद्धौ शाकल्यस्य से प्रगृह्यसंज्ञा तथा प्लुतप्रगृह्या से प्रकृतिभाव हो जाता है। विकल्प पक्ष में  एचोऽयवायावः से अवादेश तथा लोपः शाकल्यस्य से व् का लोप होकर विष्ण इति बना। लोपः शाकल्यस्य के विकल्प पक्ष में विष्णविति रूप बनेगा। सूत्र में वेद से भिन्न इति शब्द होने पर ही प्रगृह्यसंज्ञा का नियम किया गया है, अतः ब्रह्मबन्धो इत्यब्रवीत् जैसे वैदिक शब्द में यह सूत्र नहीं लगेगा।


५८ मय उञो वो वा
मयः परस्‍य उञो वो वाऽचि । किम्‍वुक्तम्किमु उक्तम् ।।

मय् से परे उञ् के उकार को विकल्प से व होता है, अच् परे रहते ।

किमु उक्तम् का विग्रह है- किम् उ उक्तम् । यहाँ मय् से परे उञ् के उकार को विकल्प से व् होकर किम् व् उक्तम् हुआ। वर्ण संयोग करने पर किम्वुक्तम् रूप बनेगा। यह सूत्र विकल्प से उ को व् करता है अतः विकल्प पक्ष में चादयोऽसत्वे से निपात संज्ञा, निपात एकाच् सूत्र से  प्रगृह्य संज्ञा, प्लुतप्रगृह्या से प्रकृतिभाव होकर किमु उक्तम् बनेगा। 
५९ इकोऽसवर्णे शाकल्‍यस्‍य ह्रस्‍वश्‍च
पदान्‍ता इको ह्रस्‍वा वा स्‍युरसवर्णेऽचि । ह्रस्‍वविधिसामर्थ्यान्न स्‍वरसन्‍धिः । चक्रि अत्रचक्रय्‍त्र । पदान्‍ता इति किम् - गौर्यौ। 

असवर्ण अच् परे रहते पदान्त इक् को विकल्प से ह्रस्व हो।

चक्री + अत्र में चक्री पद के अंत में ई को असवर्ण अच् अत्र के अ परे रहने पर ह्रस्व होगा। चक्रि अत्र रूप बनेगा। विकल्प पक्ष में इको यणचि से ई को य् होने पर चक्रय्त्र रूप बनेगा । शब्द के द्विवचन में पद के अंत में जहां ई होता हो, वहाँ ईदूदेद् सूत्र को लगाना चाहिए। चक्रि अत्र में बी  इको यणचि से यण् प्राप्त है। परन्तु प्रस्तुत सूत्र द्वारा ह्रस्व किया जाना व्यर्थ हो जाएगा। अतः किये जा चुके ह्रस्व कार्य के अनन्तर यण् नहीं होगा। गौरी + औ में गौरी का ई पद के अंत में नहीं होने है, क्योंकि सुप्तिङन्तं पदम् से यहाँ सुबन्त औ तक की पद संज्ञा होगी। अतः यहाँ ह्रस्व नहीं होकर यण् होगा।  
६० अचो रहाभ्‍यां द्वे
अचः पराभ्‍यां रेफहकाराभ्‍यां परस्‍य यरो द्वे वा स्‍तः । गौर्य्‍यौ । 

अच् से परे रेफ (र्) तथा हकार हो तथा उससे परे यर् को द्वित्व विकल्प से हो।
अच् से परे रेफ (र्) तथा हकार हो तथा उससे परे यर् को द्वित्व विकल्प से हो।

गौरी + औ में यण् करने के पश्चात् गौर् + य् + औ इस स्थिति में अच् है औ उसके बाद रेफ है र् उसके बाद के यर् (य्) को विकल्प से द्वित्व होगा। गौर् + य् + य् + औ । वर्ण संयोग होने से गौर्य्यौ रूप बनेगा। विकल्प पक्ष में यथावत् गौर्यौ बनेगा। इसी प्रकार कार्य्य, ऊर्द्ध्वम् आदि में भी द्वित्व किया हुआ रूप देखा जा सकता है।
(न समासे) । वाप्‍यश्वः ।।

असवर्ण अच् परे रहते समास में पदान्त इक् को ह्रस्व नहीं हो।

वाप्याम् अश्वः वाप्यश्वः समस्त पद है। वापी आम् अश्व सु । समास में सुप् का लोप हो जाने पर वापी अश्व इस स्थिति में भी इकोऽसवर्णे से ह्रस्व प्राप्त था, परन्तु इस वार्तिक द्वारा निषेध हो जाता है। इसी प्रकार सुध्युपास्यः आदि में भी समझना चाहिए।
६१ ऋत्‍यकः
ऋति परे पदान्‍ता अकः प्राग्‍वद्वा । ब्रह्‍म ऋषिःब्रह्‍मर्षिः । पदान्‍ताः किम् ? आर्च्छत् ।।

ऋत् (ह्रस्व ऋकार) परे रहते पदान्त अक् को विकल्प से ह्रस्व हो।
ब्रह्मा + ऋषि इस अवस्था में ऋषि के ऋ बाद में होने के कारण ब्रह्मा इस पद के अंत वर्ण आ को ह्रस्व अ हो गया। ब्रह्म  ऋषि रूप बना। ब्रह्म + ऋषि में आद् गुणः सूत्र से गुण प्राप्त हुआ। चुंकि प्रस्तुत सूत्र द्वारा ह्रस्व का विशेष विधान किया गया अतः यहाँ गुण करने पर प्रकृत सूत्र का पाठ व्यर्थ चला जाएगा। यदि गुण करना अभीष्ट होता तो ब्रह्मा + ऋषि इस अवस्था में भी किया जा सकता था। अतः यहाँ गुण नहीं होगा।
            ऋत्यकः द्वारा ह्रस्व का विधान विकल्प से किया गया है अतः विकल्प पक्ष में  ब्रह्मा + ऋषि इस अवस्था में आद् गुणः से गुण होकर ब्रह्मर्षिः रूप बनेगा।

            आचार्य सूत्र के प्रत्येक पद की सार्थकता को बताने के लिए प्रश्न के द्वारा समाधान दिखाते हैं। यहाँ भी पदान्त विशेषण की सार्थकता पर ध्यानाकर्षण करते हुए समाधान प्रस्तुत करते हैं। यदि पदान्त ऐसा नहीं कहते तो आ + ऋच्छत् का आ अक् प्रत्याहार के अन्तर्गत आता है। यहाँ भी ह्रस्व होने लगाता, जो कि वांछित नहीं है। आ + ऋच्छत् में आ उपसर्ग है।  स्वतंत्र उपसर्ग पद नहीं होता है,बल्कि यह किसी सुबन्त या तिङन्त के साथ प्रयुक्त होकर पद कहलाता है। अतः आ + ऋच्छत् में पिरकृत सूत्र की प्रवृत्ति नहीं होकर आटश्च से वृद्धि होकर आर्च्छत् रूप बनता है।


इत्‍यच्‍सन्‍धिः

पुनः स्मरण

मुख्य सूत्र                 कार्य                    उदाहरण
इको यणचि                  यण्             सुध्युपास्यः, मध्वरिः, धात्रंशः
एचोऽयवायावः              अयादि        हरये, विष्‍णवे, नायकः, पावकः
आद्गुणः                       गुण           उपेन्‍द्रः, गङ्गोदकम्

वृद्धिरेचि                       वृद्धि          कृष्‍णैकत्‍वम्, गङ्गौघः, देवैश्वर्यम्


सन्धि के बारे में मुख्य सिद्धान्त-             
Share:

2 टिप्‍पणियां:

  1. Me v Sanskrit padhana chahata hu
    Mohadaye aap se nevedan he
    Ke aap margdarshan de hame mohadaye
    7070196900

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. यहाँ बहुत कुछ लिखा जा चुका है। एक-एक मीनू बटन पर जायें। यदि इतना संस्कृत सीख लिया तो आप बुद्धिजीवियों की पंक्ति में होंगें।

      हटाएं

लोकप्रिय पोस्ट

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लेखानुक्रमणी

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग आर्काइव

Recent Posts

लेखाभिज्ञानम्

अंक (1) अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आचार्य (1) आधुनिक संस्कृत (1) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (3) आम्बेडकर (1) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करक चतुर्थी (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (33) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (3) काव्य (4) काव्यशास्त्र (12) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गुरु (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (3) ज्योतिष (13) तकनीकि शिक्षा (1) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (11) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (2) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) राजभाषा (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) व्रत कथा (1) शंकाराचार्य (2) शतक (1) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (3) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (1) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (3) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (11) स्त्रीप्रत्यय (1) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)