यूनिकोड हिन्दी फॉन्ट

प्रौद्योगिकी ज्ञान आज की आवश्यकता है। इंटरनेट का जाल विस्तृत हो रहा है। कई योजनाओं के संचालन करते समय युवाओं में ई- साक्षरता का अभाव मुझे काफी चिंतित और परेशान भी किया। जिस कार्य को हम सहजता से कम समय में पूरा कर सकते हैं ,वही कार्य मैनुअल करने पर काफी समय लगता है और अधिक मानव श्रम भी। अतः आज के समय में डिजिटल साक्षर होना अति आवश्यक है। आज के समय में किसान, व्यापारी, छात्र आदि सभी समूह को कम्प्यूटर और मोबाइल के माध्यम से सूचनाओं का आदान प्रदान करना पड़ता है। छोटे- छोटे काम के लिए लोगों को भारी मूल्य चुकाना पड़ता है। अतः कम्प्यूटर और मोबाइल के बारे में सामान्य जानकारी रखने में ही भलाई है।
स्कूल के बच्चे भी ऐसा प्रोजेक्ट बनाना चाहते हैं, जो अन्य छात्र के प्रोजेक्ट से अधिक आकर्षक हो। स्कूल के अध्यापक, शोधार्थी तथा अन्य क्षेत्र के लोग अपनी बात पावर प्वाइंट पर प्रोजेक्ट बनाकर प्रस्तुत करते हैं। इसमें फॉन्ट की महती भूमिका होती है। यह आपके स्लाइड, पुस्तक, पत्रिका आदि में चार चांद लगाने का काम करते हैं।
डिजिटल विषयों को डिजिटल माध्यम से शिक्षित करना आसान तरीका है। सूचनाओं के आदान- प्रदान में अक्षर, चित्र तथा ध्वनि का उपयोग किया जाता है। कम्प्यूटर में अक्षर को फॉन्ट के माध्यम से लिखा जाता हैं। कई बार हम फॉन्ट की समस्या से जूझते हैं। खासकर तब जब कोई आकर्षक ग्राफिक्स बनाना हो तथा उस डाटा को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ले जाना हो। दूसरे कंप्यूटर में वहीं फॉन्ट नहीं होने के कारण हमारी फाइलें अनुपयोगी हो जाती है। यूनिकोड फॉन्ट में यह समस्या नहीं रहती। आज प्रत्येक के लिए यूनिकोड फॉन्ट के बारे में जानना अत्यंत उपयोगी है। फॉन्ट आपके पुस्तकों, ग्राफिक्स आदि को आकर्षक बनाता है। मैंने अपने ब्लॉग पर भी अलग- अलग फॉन्ट का उपयोग करना आरंभ कर दिया है, जो देखने में बहुत ही आकर्षक है।

संस्कृत लिखने के लिए अधिक उपयोगी है यूनीकोड फॉन्ट

संस्कृत भाषा पर काम करने वालों के लिए यूनिकोड फॉन्ट बहुत ही सहायक सिद्ध होता है। मंगल, उत्साह, एरियल एम एस, सरला, संस्कृत सहित लगभग सभी फाॅन्ट में अवग्रह ऽ के चिह्न मिल जाते हैं। यूनीकोड संस्कृत 2003 तथा संस्कृत टेक्स्ट सहित अन्य यूनीकोड फॉन्ट में ह्रस्व तथा दीर्घ  ॢ ॣ  मिल जाते हैं। यहाँ    चिह्न भी मिलता है। संयुक्ताक्षर की बात करें तो सैंकड़ों प्रकार के जटित संयुक्ताक्षर भी मिलेंगें , जो वेद मंत्र लिखने से लेकर संस्कृत के लिए उपयोगी है। जैसे- ,          आदि । इसके लिए आपको कैरेक्टर मैप मैं जाकर इसे ढूंढना होगा। वेद मंत्रों में प्रयुक्त होने वाले चिह्न जिह्वामूलीय, उपध्मानीय सभी प्रकार के  आदि के चिन्ह यहां नहीं मिलते। अवग्रह ऽ चिह्न सहित अन्य सुविधा आपको मोबाइल में भी मिल सकती है। 
        अक्षरों की बनावट तथा आकार विशेष को फॉन्ट कहते हैं। जैसे प्रत्येक व्यक्ति का हस्तलेख अलग-अलग होता है वैसे ही प्रत्येक फॉन्ट की आकृति अलग- अलग होती है। यह कलम का स्थान ले लिया है। कुछ फॉन्ट अत्यन्त आकर्षक होते हैं। अलग – अलग प्रयोजन के लिए अलग- अलग फॉन्ट का उपयोग किया जाता है। पुस्तक प्रकाशन के लिए कुछ फॉन्ट महत्वपूर्ण होते हैं तो कुछ फॉन्ट ग्राफिक्स डिजायन के लिए। बैनर, होर्डिंग में मोटे अक्षर के फॉन्ट का प्रयोग किया जाता है। पुस्तक के मूल भाग में किये गये फॉन्ट प्रयोग से अलग फॉन्ट का प्रयोग मुख्य पृष्ठ, शीर्षक आदि में किया जाता है। फॉन्ट को हम कीबोर्ड पर टाइप करते हैं। पारम्परिक कीबोर्ड की तरह ही रेमिंग्टन टाइपराइटर हिंदी कीबोर्ड तथा रेमिंग्टन गेल हिंदी कीबोर्ड का लेआउट होता है। इसपर कृतिदेव टाइप करते हैं। कृतिदेव या ऐसे फॉन्ट जिसका प्रयोग इन्टरनेट पर नहीं होता उसे हम इन्स्क्रिप्ट-की बोर्ड ले आउट पर टाइप नहीं करते। कृतिदेव जैसा फॉन्ट देखने में तो हिन्दी का अक्षर दिखता है, परन्तु इसका बैकगाउन्ड अंग्रेजी होता है। (कृतिदेव पर टाइप किया इन्टरनेट पर पोस्ट कर देखें) कृतिदेव पर टाइप किये आलेख को किसी टूल्स (परावर्तक) की सहायता से यूनीकोड में परिवर्तन करते हैं। इसके लिए कई ऑनलाइन टूल्स उपलब्ध हैं। यूनीकोड फॉन्ट का प्रयोग इन्टरनेट के साथ अन्य प्रयोजनों के लिए भी किया जाता है। अब अनेक आकृतियों वाला यूनीकोड फॉन्ट उपलब्ध होने लगा है। इसके बारे में आगे जानकारी दी जा रही है। टाइपिंग की परीक्षा देते समय कीबोर्ड चयन का विकल्प मिलता है। आपको परीक्षा का ध्यान रखते हुए कीबोर्ड पर टाइपिंग का अभ्यास करना चाहिए। पत्रिका, पुस्तक, पम्पलेट, फोटो आदि में कोरल, फोटोशाप, पेजमेकर का प्रयोग किया जाता है। ये साफ्टवेयर यूनिकोड समर्थित नहीं होते। इन्स्क्रिप्ट-की बोर्ड भारतीय भाषाओं को लिखने में बहुत उपयोगी है। इसपर भी टाइप करने का अभ्यास करना चाहिए।
Inscript Hindi Keyboard- इन्स्क्रिप्ट-की बोर्ड ले आउट –

इनस्क्रिप्ट का अर्थ है इण्डियन स्क्रिप्ट। भारतीय शब्द प्रारूप । भारतीय भाषाओं को कंप्यूटर पर टाइप करने के लिए सीडेक ने इसे विकसित किया गया है। भारत सरकार द्वारा भारतीय लिपियों के लिये मानक के रूप में स्वीकार किया गया है। इनस्क्रिप्ट कीबोर्ड विंडोज,लिनक्स आदि आपरेटिंग सिस्टम में संलग्न रहता है। अब मोबाइल में भी यह सेवा उपलब्ध है अतः इसे इंस्टॉल करने की जरूरत नहीं होती है। मोबाइल में हिन्दी फॉन्ट बदलने की जानकारी भी आगे दी जा रही है। मोबाइल में लिखा जाने वाला हिन्दी फॉन्ट यूनिकोड पर आधारित होते है। कृतिदेव टंकण में दो चीजों की आवश्यकता होती है। 1. हिन्दी कीबोर्ड लेआउट और 2. हिन्दी टाइपिंग शार्टकट की कोड को याद रखना। इन्स्क्रिप्ट-की बोर्ड ले आउट में शार्टकट की कोड याद रखने की आवश्यकता नहीं रहती, क्योंकि यहाँ हलन्त व्यंजन वर्ण लिखने के लिए उस वर्ण के बाद d बटन दबाना पड़ता है। हलंत वर्ण का उपयोग कर संयुक्ताक्षर बना लेते हैं। 
यही कारण है कि यह संस्कृत लेखन के लिए अत्यंत उपयोगी है। अपने कम्प्यूटर में इन्स्क्रिप्ट-की बोर्ड चालू करने के लिए निम्न चरणों को अपनायें।
1. स्टार्ट बटन दबाकर कन्ट्रोल पैनल में जायें।
2. रीजन एण्ड लैंग्वेज का चयन कर उसपर क्लिक करें।
3. कीबोर्ड्स एण्ड लैंग्वेज का चयन कर चेंज कीबोर्ड पर क्लिक करें।
4. एड बटन दबायें। सूची में से हिन्दी (इंडिया को चुनें)
5. इस पर क्लिक कर की बोर्ड पर क्लिक कर देवनागरी इन्स्क्रिप्ट को चुनें।
6. ओके, अप्लाय, ओके बटन दबायें। तो अब देर किस लिए अपने कंप्यूटर पर सीधे यूनिकोड टाइप करें। यूनिकोड में किया गया टाइप सामग्री को किसी भी भाषा में आसानी से अनुवाद किया जा सकता है, जबकि कृति देव, चाणक्य, अमर जैसे फॉन्ट इंटरनेट समर्थित नहीं है अतः इसमें टाइप की सामग्री को हम किसी दूसरी भाषा में अनुवाद नहीं कर सकते हैं। 
आपके कम्प्यूटर में इन्स्क्रिप्ट-की बोर्ड चालू हो गया। आल्ट+ शिप्ट बटन एक साथ दबाकर आप कीबोर्ड बदल सकते हैं। कुछ यूनीकोड फॉन्ट आपके कम्प्यूटर में विंडोज के साथ ही लगा है। इसकी जानकारी नीचे दी गयी है। अब आप अधोलिखित शेष फान्ट में से मनचाहा फॉन्ट को अपने कम्प्यूटर में डाउनलोड कर लें। इस लेख में 100 से अधिक यूनिकोड फॉन्ट और उसे डाउनलोड करने  के लिए लिंक दिया गया है। 
माइक्रोसाफ्ट विंडोज में उपलब्ध यूनीकोड फॉन्ट
फान्ट का नाम
मंगल, कोकिला, अपराजिता , उत्साह ,एरियल यूनीकोड एम एस
अन्य उपयोगी फान्ट
छान्दस् ,कालीमाटी,गार्गी, लोहित देवनागरी। इस फाॅन्ट को आप इस लिंक पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं। 
उपर्युक्त लिंक पर कुल 10 हिन्दी यूनीकोड फॉन्ट उपलब्ध हैं। इसमें से लोहित देवनागरी, sarai, सम्यक् देवनागरी, समानता, सहदेव एवं नकुल फॉन्ट इन्डिया टाइपिंग के साइट पर भी उपलब्ध है। यह साइट भारतीय भाषा तथा लिपि पर काम करने वाले के लिए उपयोगी है।
हिन्दी यूनीकोड के लिए गूगल ने भी कुछ फॉन्ट जारी किये हैं। इसमें हिन्द, Noto sans, poppins, Rajadhani, khand, yantra manav, sumana, Glegoo, Martel, Pragati, Narrow, Khula आदि मुख्य हैं। यहाँ फॉन्ट का पूर्वावलोकन भी दिया गया गया है। कौन – कौन फॉन्ट कितने स्टाइल में हैं, इसका भी उल्लेख यहाँ किया गया है। फॉन्ट डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें। यहाँ से फॉन्ट डाउनलोड करना निःशुल्क है।

इन्डिया टाइपिंग अपने साइट पर 50 से अधिक हिन्दी यूनीकोड फॉन्ट को उपलब्ध कराया है। यहाँ अच्छे फॉन्ट का संकलन है, जो आपके समय को बचाता है। कुछ फॉन्ट के नाम से ही असके आकृति के बारे में पूर्वानुमान हो जाता है। जैसे- कलम
निःशुल्क फॉन्ट डाउनलोड करने हेतु इस लिंक पर क्लिक करें-
यह वेबसाइट भारतीय भाषाओं में विशेषकर हिन्दी में काम करने वाले के लिए अधिक उपयोगी है।

मोबाइल में फॉन्ट स्टाइल बदलना
मोबाइल की सेटिंग में जायें। मीनू में से डिस्प्ले पर क्लिक करें। यहाँ फान्ट की सूची आएगी। इसमें से कोई भी फॉन्ट का चुनाब कर सेट कर लें। यदि इनमें से कोई भी फॉन्ट अच्छा नहीं लग रहा हो तो प्ले स्टोर में जाकर ifont (Expert of fonts) एप को डाउनलोड कर लें। इसमें भाषा का चयन करें, इच्छित फॉन्ट डाउनलोड कर सेट कर लें। आप देखेंगें कि आपके मोबाइल के फॉन्ट की सूची में डाउनलोड किये फॉन्ट की सूची भी जुड़ चुकी है।

अन्य अपयोगी वेबसाइट।
भारतीय भाषाओं के लिए प्रौद्योगिकी विकास का वेबसाइट
http://tdil.meity.gov.in/
http://tdil.meity.gov.in/Related_Links/Related_Links.aspx
http://www.hindietools.com/2016/11/Hindi-and-Indian-Languages-Tools-and-Technics.html

Share:

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लेखानुक्रमणी

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग आर्काइव

Recent Posts

लेखाभिज्ञानम्

अंक (1) अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आचार्य (1) आधुनिक संस्कृत (1) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (3) आम्बेडकर (1) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करक चतुर्थी (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (33) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (3) काव्य (4) काव्यशास्त्र (8) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गुरु (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (3) ज्योतिष (13) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (8) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (2) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) राजभाषा (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) व्रत कथा (1) शंकाराचार्य (2) शतक (1) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (2) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (1) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (3) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (11) स्त्रीप्रत्यय (1) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)