संस्कृत व्याकरण का अनुपम ग्रन्थ प्रबोध चन्द्रिका

वैजलभूपति कृत 'प्रबोध चन्द्रिका'व्याकरण विषयक ग्रन्थ है। आज इस पुस्तक को जब पढ़ना आरम्भ किया तो आनन्द बढ़ता चला गया। ग्रंथकार भी हमें इस पुस्तक को पढ़ने का आह्वान करते हुए लिखते हैं - इस पुस्तक से पहले अनेक प्रक्रिया ग्रंथों की रचना हो चुकी है। यदि प्रक्रिया की विधियां बहुत सी हैंतो रहेंउससे क्या हानि हैअथवा भ्रमरों के द्वारा क्या चमेली और मधु का पान अनादृत किया जाता है अर्थात् नहीं। उसी प्रकार व्याकरण की पुस्तकें रहते हुए भी जिज्ञासु पाठक अन्य प्रक्रिया ग्रन्थों के समान इस पुस्तक का भी आदर करेंगे । ३५ ।

बहवः प्रक्रिया पन्थाः सन्ति चेत् सन्तु का क्षतिः ।

मालती-मधुनो भृङ्गः किं वा पानमनादृतम् ॥३५॥



मैं श्लोकबद्ध व्याकरण की पुस्तकें पहले भी देखा हूँ परन्तु इतना रोचक और सरल भाषा में लिखित पुस्तक दुर्लभ है। इसमें व्याकरण के सूत्रों के स्थान पर उनके नियमों का उदाहरण प्रस्तुत किया गया है। राम के जीवनवृत्त को लक्ष्य में रखकर व्याकरण के प्रयोग को प्रदर्शित करना, यह अपने आप में मुग्धकर है। लगता है लेखक को राम के प्रति प्रगाढ़ प्रीति रही होगी। वर्षों तक इस प्रकार के ग्रन्थों के द्वारा व्याकरण को सरस तथा सरल बनाने का प्रयास किया जाता रहा है।  

 यह ग्रन्थ सारस्वत व्याकरण में कहे स्यादि तथा त्यादि विभक्ति के नाम को यथावत् स्वीकार करता हैं। अथ विभक्तिः विभाव्यते। सा द्विधा । स्यादिस्त्यादिश्च ।

इसमें विभक्ति के लिए १२२ श्लोक, कारक के लिए ४६ श्लोक, त्यादिविभक्ति, तद्धित प्रत्यय, कृत्प्रत्यय तथा समास के द्वारा जो कारक होता है- अर्थात् जो कारक उक्त/अभिहित होता है, उसके लिए ६४ श्लोक, समास के लिए ३९ श्लोक, तद्धित के लिए ३८ श्लोक, कृत प्रत्ययों के लिए ३६ श्लोक तथा सन्धि के लिए ७० श्लोकों की रचना की है। यह संस्कृत भाषा सीखने के लिए भी अति उपयोगी है।  व्याकरण शास्त्र पढ़ने के बाद इस ग्रंथ को एक बार पढ़ लेने से दृष्टि और भी खुल जाती है। एक उदाहरण देखें -

विभक्तिज्ञानतो यस्मात्प्रबोधः प्रतिपद्यते ।

तस्मादिह प्रथमतो विभक्तिः प्रतिपद्यते ॥३६॥

विभक्ति ज्ञान से प्रबोध [शब्द बोध] होता है । अतः यहाँ सर्वप्रथम विभक्तियों का प्रतिपादन किया जा रहा है ।

विभक्ति दो हैं-स्यादि और त्यादि । २१ स्यदि विभक्तियाँ हैं। उनमें प्रथमा, द्वितीया, तृतीया, चतुर्थी, पञ्चमी, पष्ठी और सप्तमी इन सात विभक्तियों में एकवचन द्विवचन और बहुवचन ये तीन वचन होते हैं ।

ध्यातव्य - विभक्ति शब्द का अर्थ होता है- विभज्यते पृथक् क्रियन्ते कर्तृकर्मादयो यया सा विभक्तिः । इनमें स्यादि विभक्ति नाम अर्थात् [प्रातिपदिक] शब्दों के आगे जुड़ती है। विभक्तिरहित, धातुवर्जित और अर्थवान् शब्द स्वरूप को नाम कहते है। कृदन्त, तद्धितान्त और समस्त पदों [समास] को भी नाम पद से अभिहित किया जाता है। नाम शब्द का पर्याय 'प्रातिपदिक' शब्द पाणिनीय व्याकरण में उपलब्ध होता है । 'अर्थवदधातुरप्रत्ययः प्रातिपदिकम्' कृत्तद्धितसमासाश्च । त्यादि विभक्ति धातुओं के आगे जुड़ती है ।

प्रथम च द्वितीया च तृतीया च यथाक्रमम् ।

चतुर्थी पंचमी पष्ठी सप्तमी चेतिताः क्रमात् ॥३८॥

उनमे क्रमशः प्रथमा, द्वितीया, तृतीया, चतुर्थी, पञ्चमी, पष्ठी तथा सप्तमी विभक्तियाँ हैं ।३८।

प्रथमैव विभक्तिः स्यादुक्ते कर्तरि कर्मणि ।

अनुक्ते कर्म कर्त्रादौ द्वितीयाद्या विभक्तयः ॥३६॥

उक्त [अभिहित] कर्त्ता और कर्म में प्रथमा विभक्ति ही होती है । अनभिहित [अनुक्त] कर्म, कर्त्ता आदि में द्वितीयादि विभक्ति होती है ।

विशेष: प्रथमादि विभक्तियाँ कर्तृत्वादि कारकों की सूचक हैं। "तत्र क्रियासिद्ध्युपकारकं कारकम् । तत्र द्वितीयादयो विभक्तयो भवन्ति अनुक्ते । तच्च षड् विधम् ।

कर्ता कर्म च करणं सम्प्रदानं तथैव च ।

अपादानादिकरणे चेत्याहु:कारकाणि षट् ।

उक्तानुक्ततया द्वेधा कारकाणि भवन्ति षट् ।

उक्ते तु प्रथमैव स्यादनुक्ते तु यथाक्रमम् ।

यस्मिन् प्रत्ययो विहितः स उक्तः । न उक्तः अनुक्तः । अभिधानं च प्रायेण तिङ्कृत्तद्धितसमासैः । तिङ्, हरिः सेव्यते । कृत्, लक्षम्या सेवितः। तद्धितः, शतेन क्रीतः शत्यः । समास, प्राप्तः आनन्दोऽयं स प्राप्तानन्दः । क्वचिन्निपातेनाभिधानम् यथा विषवृक्षोऽपि संवर्ध्य स्वयं छेत्तमसाम्प्रतम् । साम्प्रतमित्यस्य हि युज्यत इत्यर्थः ।

तत्रोक्ते कर्तरि यथा रामो जयति वैरिणः ।

रणे रामौ च रामाश्च जयतश्च जयन्ति च ॥४०॥

उनमें अभिहित कर्ता में प्रथमा विभक्ति के विधान के उदाहरण - 'रामो वैरिणः जयति' (राम वैरियों को जीतता है) 'रामौ वेरिणः जयत': (दो राम वैरियों को जीतता हैं) तथा रामा: वैरिणः जयन्ति (बहुत से राम वैरियों को जीतते हैं।) यहाँ क्रमश: एकवचन, द्विवचन तथा बहुवचन का उदाहरण दिया गया है।

विशेष:- प्रस्तुत वाक्यों में जी' धातु से कर्त्रर्थ में लट् लकार विहित है अत: राम उक्त कर्ता है। यहाँ राम शब्द के साथ प्रथमा विभक्ति की गई है।

संस्कृत में तीन वाच्य होते हैं - १ कर्तृवाच्य २ कर्मवाच्य तथा ३. भाव वाच्य । सकर्मक धातुओं से कर्तृवाच्य और कर्म वाच्य में प्रत्यय होते हैं। अकर्मक धातुओं से कर्तृवाक्य और भाववाच्य में प्रत्यय होते हैं। कर्तृवाच्य में कर्ता मुख्य होता है, क्रिया कर्ता के अनुसार चलती है । कर्ता में प्रथमा, कर्म में द्वितीया प्रौर क्रिया कर्ता के अनुसार होती है ।

 सम्बोधनेऽपि प्रथमा विभक्तिर्भवति ध्रुवम् ।

यथा हे राम हे रामौ हे रामाः इत्यनुक्रमात् ।।४१॥

निश्चित ही सम्बोधन में भी प्रथमा विभक्ति होती है। जैसे- 'हे राम, हे, रामौ, है रामाः" इन वाक्यों में राम शब्द से प्रथमा विभक्ति विहित है।

ध्यातव्य - "आभिमुख्याभिव्यक्तये हे शब्दस्य प्राक्प्रयोगः" इस नियम के अनुसार राम के आभिमुख्य की अभिव्यक्ति के लिये हे शब्द का प्रयोग किया गया है।

हे शब्देन विनापि स्यात्क्वचिदंतेऽपि हे भवेत् ।

यथा राम प्रसीद त्वं राम हे त्वां भजाम्यहम् ।।४२।।

 हे शब्द के बिना भी प्रथमा विभक्ति होती है। कहीं अन्त में भी 'हे' हो तो इसका विधान होता है जैसे 'राम ! त्वं प्रसीद' 'राम ! हे ! अहं त्वां भजामि" – इसके प्रथम वाक्य में हे शब्द के बिना सम्बोधन में राम शब्द का प्रयोग किया गया है तथा द्वितीय वाक्य में शब्द के अन्त में हे का प्रयोग किया गया है । इन दोनं स्थितियों में प्रथमा विभक्ति विहित है ॥४२।।

विशेष:- हे शब्द के विना भी सम्बोधन में प्रथमा विभक्ति के उदाहरण निम्न श्लोक में दृष्टव्य है:-

मां समुद्धर गोबिन्द ! प्रसीद परमेश्वर ।

कुमारौ स्वरमासाथां क्षमध्वं भो तपस्विनः ।

इत्युदाहरणं दत्तमुक्ते कर्तरि केवलम् ।

अथोदाहरणं किञ्चदुक्ते कर्मणि दीयते ॥४३॥

इस प्रकार यह अभिहित कर्ता में प्रथमा विभक्ति का उदाहरण दिया गया है। अब अभिहित कर्म में प्रथमा विभक्ति का कुछ उदाहरण दिया जा रहा है।

न जीयते न जीयेते न जीयन्ते रथाङ्गणे ।

रामो रामौ च रामाश्च शत्रुभिश्चेति निश्चितम् ।।४४।।

 'निश्चितं रणाङ्गणे शत्रुभिः रामः न जीयते' निश्चित ही युद्ध स्थल में शत्रुओं के द्वारा राम नहीं जीता जाता है ।' रणाङ्गणे शत्रुभिः रामौ न जीयेते' (युद्ध स्थल में शत्रुओं के द्वारा दो राम नहीं जीते जाते हैं। 'रणाङ्गणे शत्रुभिः रामाः न जीयन्ते' युद्ध स्थल में शत्रुओं के द्वारा बहुत से राम नहीं जीते जाते हैं।

विशेष:- प्रस्तुत वाक्यों में 'जि जये' धातु से कर्मार्थ में प्रत्यय हुआ है। अतः 'कर्म' राम शब्द उक्त होने के कारण कर्म में प्रथमा विभक्ति को गई है। यह 'कर्मवाच्य' का उदाहरण है। कर्मवाच्य में कर्म मुख्य होता है और कर्म के अनुसार ही क्रिया, पुरुष, वचन तथा लिंग होता है। कर्मवाच्य में कर्त्ता में तृतीया, कर्म में प्रथमा और किया कर्म के अनुसार होती है।

प्रथमान्तस्य कर्तुश्च कर्मणश्चानुगद्यते ।

संख्यात्योदरनुक्तस्य न कदापीति बुध्यताम् ।।४५।।

प्रथमान्त कर्ता एवं प्रथमान्त कर्म के अनुसार त्यादि विभक्तियों की संख्या होती है। अनुक्त कर्ता एवं कर्म के अनुसार त्यादि विभक्तियों की संख्या कभी नहीं होती- यह ज्ञातव्य है ॥४५॥

विशेष:- अभिहित कर्ता एवं कर्म के अनुसार ही तिङ् (आख्यात) विभक्तियों में वचन होता है। अनभिहित कर्ता एवं कर्म के अनुसार तिङ् (आख्यात) विभक्तियों में वचन नहीं होता है ।

अनुक्ते कर्मणि भवेत् द्वितीया सा तु दर्श्यते ।

रामं रामौ च रामांश्च भजाम्यहमहर्निशम् ॥४६।।

अनुक्त (अनभिहित) कर्म में द्वितीया होती है। इसका उदाहरण दिया जा रहा है। जैसे-अहं अहर्णिशं रामं, रामौ रामांश्च भजामिइस वाक्य में अनुक्त कर्म राम में द्वितीया विभक्ति का विधान किया गया है । ४६ ।

अनुक्ते कर्तरि भवेतृतीया करणेऽपि च ।

यथा रामेण रामाभ्यां रामैर्वा जीयते रिपुः ।।४७।।

अनुक्त कर्ता तथा करण में तृतीया होती है। जैसे- "रामेण रामाभ्यां में रामैर्वा रिपुः जीयते" (एक राम, दो रामों अथवा तीन रामों के द्वारा शत्रु जीता जाता है) । इस वाक्य में अनुक्त कर्ता राम में तृतीया की गई है ।। ४७।।

करणे दीयते किञ्चिदुदाहरणमुत्तमम् ।

रामः शिरांशि शत्रूणां निक्रंततिशितैः शरैः ॥४८॥

करण में तृतीया के विधान का एक उत्तम उदाहरण दिया जा रहा है । ( रामः शितैः शरैः शत्रूणां शिरांसि नितति ) राम तीखे वाणों से वैरियों के सिर काटता है । यहाँ शित तथा शर शब्दों में करण में तृतीया विहित है ॥४८॥

अनुक्ते स्यात् संप्रदाने चतुर्थी सा निगद्यते ।

फलं रामाय रामाभ्यां रामेभ्योदत्तमुत्तमैः ॥४६॥

अनुक्त सम्प्रदान में चतुर्थी विभक्ति होती है। इसका उदाहरण है- "उत्तमैः रामाय, रामाभ्यां, रामेभ्यः फलं दत्तम्' श्रेष्ठ जनों ने एक राम, दो राम, तीन राम के लिए फल दिया ।।४६ ।।

विशेष: स्वस्वत्वनिवृत्तिपूर्वकपरसत्वापादनं सम्प्रदानम् ।

अनुक्ते स्यादपादाने पंचमी साविधीयते ।

यथा रामाञ्च रामाभ्यां रामेभ्यो भक्तिरीप्सिता ॥ ५० ॥

अनुक्त अपादान में पञ्चमी विभक्ति का विधान किया जाता है जैसे 'रामात्, रामाभ्याम् रामेभ्यो शक्तिः ईप्सिता ( राम से भक्ति चाही गई ) ।।५।।।

अनुक्ते स्यात्तु सम्बन्धे षष्ठी तस्या उदाहृतिः ।

रामस्य रामयोश्चापि रामाणां कीर्तिरुत्तमा ॥५१॥

अनुक्त सम्बन्ध में षष्ठी विभक्ति की जाती है। इसका उदाहरण है- 'रामस्य, रामयोः, रामाणामपि च कीर्तिः उत्तमा अस्ति' । राम की कीर्ति श्रेष्ठ है ।। ५१॥

अनुक्ते चाधिकरणे सप्तमी जायते यथा ।

रामे च रामयोश्चापि रामेषु श्रीर्विहारिणी ॥ ५२ ॥

अनुक्त अधिकरण में सप्तमी विभक्ति होती है। जैसे- रामे, रामयोः, रामेषु चापि श्री विहारिणी अस्ति। राम में शोभा विहार करने वाला है ।। ५२ ।।

इत्युदाहृतयो दत्ताः सप्तस्वपि विभक्तिषु ।

केनचित्कारणेनासामन्यत्रावस्थितिर्यथा ॥५३॥

इस प्रकार सातों विभक्तियों में उदाहरण दिये गये है। इन विभक्तियों की कारणान्तर से अन्यत्र भी अवस्थिति होती है। इनके उदाहरण आगे प्रस्तुत किये जा रहे हैं ।।५३।।

रामश्च वैयाकरणः सा वैयाकरणी वधूः ।

तद्व्याकरणं सैन्यमित्थं भवति तद्धितम् ।।

रामः वैयाकरणः (राम व्याकरण पढ़ने वाला या जानने वाला) सा वधूः वैयाकरणी  (वह वधू व्याकरण पढ़ने वाली या जानने वाली) , तत् सैन्यम् वैयाकरणम् (वह सैन्य व्याकरण पढ़ने वाला या जानने वाला) इस प्रकार तद्धित होता है ।

Share:

1 टिप्पणी:

  1. यह जानकारी योग्य हैं इस जानकारी को पढ़कर आपको इस कंटेंट से रिलेटेड कुछ मन में उठने वाले सवालों का जवाब जरूर मिल गया होगा। वैसे देखा जाए तो आजकल हर भाषा मैं समझने में सहूलियत होती है। जैसे कि "संस्कृत से हिन्दी ट्रांसलेशन" संस्कृत हिन्दी टू संस्कृत ट्रांसलेट कैसे करें आदि जानकारी आप पढ़ सकते हैं।

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लोकप्रिय पोस्ट

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग आर्काइव

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

Recent Posts

लेखानुक्रमणी

लेखाभिज्ञानम्

अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (4) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (34) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (2) काव्य (6) काव्यशास्त्र (12) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (4) ज्योतिष (19) तकनीकि शिक्षा (1) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (16) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पर्व (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (1) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) शंकाराचार्य (2) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (3) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (2) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (2) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (10) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)