ध्वनि सम्प्रदाय

    संस्कृत के अलंकारशास्त्र में ध्वनि का प्रवर्तन आचार्य आनन्दवर्द्धन द्वारा हुआ है परन्तु आनन्दवर्धन स्वयं इसे कोई नितान्त नूतन सिद्धान्त नहीं मानते। वे इसे अपने ग्रन्थ की पहली ही कारिका में समानात् पूर्व की संज्ञा देते है। इसी शब्द की वृत्ति में व्याख्या की गई है परम्परया समाम्न्ताद् म्नातः प्रकटितः‘‘। इससे ऐसा लगता है कि सम्भवतः आनन्दवर्द्धन अपने से पूर्व की किसी ऐसी परम्परा का संकेत करते है। जो इस सिद्वान्त के विषय में प्रचलित ही नही परिपक्व भी थी। परन्तु उपलब्ध साहित्य में न तो आनन्दवर्द्धन के पूर्व यह सिद्धान्त किसी ग्रन्थ में निबद्ध मिलता है और न ही कोई आचार्य इसका इस नाम से प्रत्यक्ष रूप से अथवा अप्रत्यक्ष रूप से उल्लेख करते है। इससे अनुमानतः दो निष्कर्ष निकाले जा सकते है, पहला यह है कि सम्भवतः यह सिद्धान्त पहले मौलिक परम्परा से चलता रहा हो, दूसरा यह की ध्वनि सिद्धान्त का मूल विचार ही ग्रन्थकार ने किसी अन्य शास्त्र से ग्रहण किया हो। द्वितीय निष्कर्ष की पुष्टि स्वयं आचार्य आनन्दवर्द्धन करते है।
     उनका कथन है कि साहित्यिक क्षेत्र में प्रथम विद्वान् वैयाकरण व्याकरणमूलत्वात् सर्वविद्यानाम्। ते च श्रूयमाणेषु वर्णेषु ध्वनिरिति व्याहरन्ति‘‘। स्पष्ट है कि वैयाकरणों से आनन्दवर्द्धन को इस सिद्धान्त की प्रेरणा मिली होगी। यह प्रेरणा भी और कही से नही, अपितु उनके स्फोट सिद्धान्त से मिली होगी। लोचनकार अभिनवगुप्त ने इस प्रसंग को और स्पष्ट किया है। उन्होेंने वैयाकरणों का पूर्णतः सामजस्य स्थापित करते हुए तद्विषयक पुष्ट आधार की सागोंपांग व्याख्या की है। ध्वनि के पांच रूपों व्यंजक शब्द, व्यंजक अर्थ, व्यंग्यार्थ, व्यंजना व्यापार तथा व्यंग्य काव्य सभी के लिए व्याकरण में स्पष्ट निश्चित संकेत है। भर्तृहरि वाक्यपदीयमें स्फोट सिद्वान्त की स्थापना करते समय इसके लिए आधार प्रस्तुत कर गए  हैं।
Share:

1 टिप्पणी:

लोकप्रिय पोस्ट

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लेखानुक्रमणी

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग आर्काइव

Recent Posts

लेखाभिज्ञानम्

अंक (1) अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आचार्य (1) आधुनिक संस्कृत (1) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (3) आम्बेडकर (1) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करक चतुर्थी (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (33) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (3) काव्य (4) काव्यशास्त्र (12) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गुरु (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (3) ज्योतिष (13) तकनीकि शिक्षा (1) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (11) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (2) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) राजभाषा (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) व्रत कथा (1) शंकाराचार्य (2) शतक (1) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (3) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (1) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (3) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (11) स्त्रीप्रत्यय (1) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)