लघुसिद्धान्तकौमुदी (विसर्गसन्धि प्रकरणम्)

                                                        अथ विसर्गसन्‍धिः


१०३ विसर्जनीयस्‍य सः
खरि । विष्‍णुस्‍त्राता ।।

खर् परे रहते विसर्जनीय के स्थान पर सकार आदेश हो।

विष्‍णुस्‍त्राता  विष्णुः + त्राता में विसर्जनीयस्य सः सूत्र से खर् (त्राता के तकार) परे रहने पर विसर्ग को स् हुआ। विष्णुस्त्राता बना।

१०४ वा शरि

शरि विसर्गस्‍य विसर्गो वा । हरिः शेतेहरिश्‍शेते ।।

शर् परे रहते विसर्ग के स्थान पर विकल्प से विसर्ग आदेश हो।

हरिः शेतेहरिश्शेते । हरिः + शेते में वा शरि सूत्र से हरिः के विसर्ग को शर् (शेते का शकार) परे रहते विकल्प से विसर्ग हुआ। हरिः शेते बना। विसर्ग के अभाव पक्ष में विसर्जनीयस्य सः सूत्र से विसर्ग को स् होकर हरिस् + शेते हुआ। स्तोः श्चुना श्चुः से हरिश् के सकार को श्रुत्व शकार होकर हरिश्शेते बना।

काव्य में प्रयोग-

कमले कमला शेते हरश्शेते हिमालये।

क्षीराब्धौ च हरिश्शेते मन्ये मत्कुणशङकया ।।

१०५ ससजुषो रुः

पदान्‍तस्‍य सस्‍य सजुषश्‍च रुः स्‍यात् ।।

पदान्त सकार तथा सजुष् के सकार के स्थान पर रु हो।

१०६ अतो रोरप्‍लुतादप्‍लुतादप्‍लुते

अप्‍लुतादतः परस्‍य रोरुः स्‍यादप्‍लुतेऽति । शिवोऽर्च्यः ।।

अप्लुत अत् से परे रू को उ होअप्लुत अत् परे रहते।

शिवोऽर्च्यः। शिवर् + अर्च्यः में व् का अ अप्लुत अ हैउसके बाद र् है और र् के बाद अर्च्यः का अप्लुत अ हैइसलिए यहाँ र् को उत्व हो गया है।

सिद्धि इस प्रकार है- 

शिव सु अर्च्यः                सुप्तिङन्तं पदम् से शिव सु की पद संज्ञा

शिव स् अर्च्यः                 सु के उकार का अनुबन्ध लोप

शिव रु अर्च्यः                ससजुषो रुः सूत्र से पदान्त स् को रु

शिव र् अर्च्यः                 रु के उकार का अनुबन्ध लोप

शिव उ अर्च्यः                 अतोरोरप्लुतादप्लुते सूत्र से र् को उत्व

शिवो अर्च्यः                   आद्गुणः सूत्र से गुण

शिवोऽर्च्यः                     एङः पदान्तादति सूत्र से पूर्वरूप 

१०७ हशि च

तथा । शिवो वन्‍द्यः ।।

अप्लुत अत् से परे रहते रु को उ आदेश होहश् परे रहते।

शिवो वन्द्यः। शिव सु वन्द्यः में सु का अनुबन्ध लोप शिव + स् + वन्द्यः हुआ। ससजुषो रुः सूत्र से स् को रु आदेश हुआ। शिव् + रु + वन्द्यः हुआ। रु के उकार का अनुबन्ध लोप शिव + र् + वन्द्यः हुआ। यहाँ शिव का अकार अप्लुत अत् है अतः हशि च सूत्र से  हश् (वन्द्यः का वकारपरे रहते र् को उत्व हुआ। शिव + उ + वन्द्यः हुआ। आद्गुणः सूत्र से अ + उ का गुण एकादेश होकर शिवो वन्द्यः बना।  

वेद में प्रयोग-

हिण्ययेन सविता रथेना देवो याति भुवनानि पश्यन्।

१०८ भोभगोअघोअपूर्वस्‍य योऽशि

एतत्‍पूर्वस्‍य रोर्यादेशोऽशि । देवा इहदेवायिह । भोस् भगोस् अघोस् इति सान्‍ता निपाताः । तेषां रोर्यत्‍वे कृते ।।

भोस् भगोस् अघोस् तथा अवर्ण पूर्वक रु को यकार आदेश हो अश् परे रहते।

देवा इह । देवा + स् + इह में ससजुषो रुः से स् को रु आदेशदेवा + रु + इह हुआ। रु के उकार का अनुबन्ध लोप   देवा + र् + इह हुआ। भोभगोअघोअपूर्वस्य योऽशि सूत्र से य् का आदेशदेवा + य् + इह हुआ । लोपः शाकल्यस्य सूत्र से य् का विकल्प से लोप होकर देवा इह बना। विकल्प के अभाव पक्ष में देवा + य् + इह में वर्ण सम्मेलन कर देवायिह बना।

१०९ हलि सर्वेषाम्

भोभगोअघोअपूर्वस्‍य यस्‍य लोपः स्‍याद्धलि । भो देवाः । भगो नमस्‍ते । अघो याहि ।

भोस् भगोस् अघोस् तथा अवर्ण पूर्वक य का लोप हो हल् परे रहते।
अर्थ- भोस् भगोस् अघोस् अ अवर्ण पूर्व वाले य् का लोप होता है हल् परे रहते।  भोस् भगोस् तथा अघोस् ये तीनों सकारान्त निपात हैं। इसके सकार रु एवं रु को य् आदेश किया जाता है। रूप सिद्धि इस प्रकार है।
भोस् देवाः
भो रु देवाः                                                         ससजुषो रूः सूत्र से स् को रु आदेश
भो र् देवा                                                          रु के उकार का अनुबन्ध लोप
भो य् देवाः                    भो-भगो-अघो-अपूर्वस्य योऽशि सूत्र से र् को य् आदेश                         

भो देवाः                                                            हलि सर्वेषाम् सूत्र से य् का लोप


इसी प्रकार भगोस् तथा अघोस् के सकार को रुत्व तथा यत्व होकर भगो नमस्ते। अघो याहि बनेगें।

अभ्यास-

पुनः रमते. एषः विष्णुः. हरि: चरितम् में सन्धि का प्रयोग करें। 

११० रोऽसुपि

अह्‍नो रेफादेशो न तु सुपि । अहरहः । अहर्गणः ।।

अहन् शब्द के नकार को रेफ आदेश होसुप् परे न रहते।
अहन् अहः

अहरहः                                      रोऽसुपि सूत्र से अहन् के स्थान पर र् आदेश हुआ। 

१११ रो रि

रेफस्‍य रेफे परे लोपः ।।

रेफ परे रहते रेफ का लोप हो।

११२ ढ्रलोपे पूर्वस्‍य दीर्घोऽणः

ढरेफयोर्लोपनिमित्तयोः पूर्वस्‍याणो दीर्घः । पुना रमते । हरी रम्‍यः । शम्‍भू राजते । अणः किम् ? तृढः । वृढः । 
लोप निमित्तक ढकार तथा रेफ रहते पूर्व अण् वर्ण को दीर्घ होता है। 
अकार का उदाहरण-
पुनर् रमते                                             
पुन रमते                        रो रि सूत्र से पूर्ववर्ती र् का लोप र् परे रहते
पुना रमते                       ढ्रलोपे पूर्वस्य दीर्घोऽणः सूत्र से पूर्ववर्ती अकार को दीर्घ हुआ।

इसी तरह इकार तथा उकार के उदाहरणों में हरीर् रम्यः = हरी रम्यः शम्भू = राजते भी सिद्ध होंगे।
अणः किम्? तृढः
अण् (अ इ उ) से परे र् और ढ् होने पर अण् को ही दीर्घ होता है। अन्य को नहीं। जैसे- तृढ् ढः यहाँ पर ढो ढे लोपः से ढकार से परे ढकार रहने के कारण ढ् का लोप तो हुआ परन्तु ढ्रलोपे पूर्वस्य दीर्घोऽणः में अणः कहने से तृ के ऋकार को दीर्घ नहीं हुआ। 
मनस् रथ इत्‍यत्र रुत्‍वे कृते हशि चेत्‍युत्‍वे रोरीति लोपे च प्राप्‍ते ।।

११३ विप्रतिषेधे परं कार्यम्
तुल्‍यबलविरोधे परं कार्यं स्‍यात् । इति लोपे प्राप्‍ते । पूर्वत्रासिद्धमिति रोरीत्‍यस्‍यासिद्धत्‍वादुत्‍वमेव । मनोरथः ।।
समान बल वाले सूत्र के एक साथ प्रवृत्त होने पर बाद वाले सूत्र का कार्य हो।
मनोरथः । मनस् रथः इस स्थिति में
मन रु रथः                                             ससजुषो रूः सूत्र से स् को रु आदेश
मन र् रथः                                              अनुबन्ध लोप
 यहाँ रो रि सूत्र से र् का लोप और हशि च सूत्र से र् को उत्व-दोनों की एक साथ प्राप्ति हुई। विप्रतिषेधे परं कार्यम् से रो रि (8.3.14)  से र् का लोप हो गया। मन + रथः बना। हशि च (6.1.110)  से रथ के थकार पर रहने के कारण लुप्त रकार के स्थान पर उत्व हुआ। मन उ रथः बना।

 मनोरथः                                               आद्गुणः सूत्र से गुण एकादेश
विशेष- तुल्य बल विरोध या समान बल वाले का विरोध उसे कहते हैं, जब दोनों सूत्रों की प्रवृत्ति अन्य स्थलों पर हो चुकी हो। वे दोनों कार्य कर चुके हों तथा किसी एक स्थल पर दोनों की प्राप्ति हो रही हो। अन्यत्रान्यत्रलब्धावकाशयोरेकत्रप्राप्तिः तुल्यबलविरोधः । जैसे- रो रि सूत्र पुना रमते में रेफ का लोप कर चुका है तथा शिवो वन्द्यः में हशि च उत्व कर चुका है। मनोरथः में दोनों की प्राप्ति है अतः यहाँ तुल्य बल विरोध है। ऐसे प्रसंग में विप्रतिषेधे परं कार्यम् से पर कार्य होता है। संस्कृत व्याकरण के सूत्र में किस सूत्र का कौन विरोध करता है,किसका कौन बाधक है आदि पर परिभाषेन्दुशेखर आदि ग्रन्थों में विस्तार से चर्चा की गयी है।
११४ एतत्तदोः सुलोपोऽकोरनञ्समासे हलि
अककारयोरेतत्तदोर्यः सुस्‍तस्‍य लोपो हलि न तु नञ्समासे । एष विष्‍णुः । स शम्‍भुः । अकोः किम् ? एषको रुद्रः । अनञ्समासे किम् ? असः शिवः । हलि किम् ? एषोऽत्र ।।
ककार रहित एतद् तथा तद् शब्द का जो सुउसका लोप होता हैहल् परे रहतेनञ् समास को छोड़कर।
एष सु विष्णुः

एष विष्णुः                                 एतत्तदोः सुलोपोऽकोरनञ्समासे हलि सूत्र से सु का लोप हुआ।
अकोः किम्? एषको रुद्रः
ककार रहित एतद् और तद् के सु का लोप होता ह। क रहने पर सु लोप नहीं होगा जैसे- एषक सु रु रुद्रः =  एषको रुद्रः ।
अनञ्समासे किम्? असः शिवः
यदि एतत् और तद् में नञ्समास हो तो इनके सु का लोप नहीं होता। जैसे- अस सु शिवः= असः शिवः।
हलि किम्? एषोऽत्र।
हल् परे होने पर ही एतद् और तद् के सु का लोप होता है अन्यत्र यथा प्राप्त उत्च पूर्वरुपादि कार्य होते है। जैसे- एष सु अत्र= एषोऽत्र
१५ सोऽचि लोपे चेत्‍पादपूरणम्
स इत्‍यस्‍य सोर्लोपः स्‍यादचि पादश्‍चेल्‍लोपे सत्‍येव पूर्येत । सेमामविड्ढ प्रभृतिम् । सैष दाशरथी रामः ।।
सः पद के सु का लोप हो अच् परे रहते यदि लोप करने से पाद की पूर्ति हो रही हो तब।
सस् + इमाम्                   सस् के सु(स्) का लोप हुआ
स इमाम्                        आद् गुणः से गुण
सेमामविड्ढि प्रभृतिं च ईशिषे  सिद्ध हुआ। एक पाद की पूर्ति हो गयी। 
यह जगती का एक चरण है। जगती एक वैदिक छन्द  है।  
   स सु एष दाशरथी रामः                                     
   स एष दाशरथी रामः                                        सोऽचि लोपे चेत्पादपूरणम् सूत्र से सु का लोप
   सैष दाशरथी रामः                                           वृद्धिरेचि सूत्र से वृद्धि एकादेश

  विशेष-  यदि पाद पूर्ति होगी तभी सु का लोप होगा। यदि सु के लोप के बिना ही पाद की पूर्ति हो जायेगी तो इस सूत्र की उपयोगिता नहीं रहेगी। जैसे- सोऽहमाजन्मशुद्धानाम् इत्यादि।
इति विसर्गसन्‍धिः ।।
इति पञ्चसन्‍धिप्रकरणम् ।
सन्धि के बारे में मुख्य सिद्धान्त – 
Share:

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लेखानुक्रमणी

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग आर्काइव

Recent Posts

लेखाभिज्ञानम्

अंक (1) अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आचार्य (1) आधुनिक संस्कृत (1) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (3) आम्बेडकर (1) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करक चतुर्थी (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (33) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (3) काव्य (4) काव्यशास्त्र (12) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गुरु (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (3) ज्योतिष (13) तकनीकि शिक्षा (1) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (11) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (2) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) राजभाषा (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) व्रत कथा (1) शंकाराचार्य (2) शतक (1) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (3) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (1) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (3) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (11) स्त्रीप्रत्यय (1) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)