रविवार, 29 जनवरी 2017

स्वामी पराङ्कुशाचार्य का कृतित्व

मानसिक व्यवधान आ जाने के कारण यह लेख असम्पादित रह गया है।
स्वामी पराङ्कुशाचार्य                 
जन्म-                 10  मार्च    1865                                          
परमपद-             10 फरवरी   1980
जन्मस्थान-          महमत्पुर, विक्रमपुर,पटना
परमपद स्थल-      हुलासगंज, जहानाबाद
कार्यक्षेत्र-  गया, पटना,नालंदा ,जहानाबाद, अरवल,नवादा और औरंगाबाद,भागलपुर,बाढ
स्वामी पराङ्कुशाचार्य का सम्बन्ध उस मगध जनपद से है,जिसका उल्लेख अथर्ववेद, पंचविंश ब्राह्मण, (17.1.16) तैत्तिरीय ब्राह्मण (3.4.9) मनुसंहिता (10.47) गौतम धर्मशास्त्र, महाभारत आदि ग्रन्थों में मिलता है। मगध बौद्ध काल और परवर्ती काल में उत्तरी भारत का सबसे अधिक शक्तिशाली जनपद था।राजधानी गिरिब्रज थी। इसमें पटना और गया जिले शामिल थे। ऋषि चरक की जन्मस्थली, बृहद्रथजरासंध तथा अशोक यहाँ के राजा हुए तथा भगवान् बुद्ध को यहीं ज्ञान प्राप्त हुआ।
   स्वामी पराङ्कुशाचार्य एक समाज सुधारक और वैष्णव भक्त संत थे। जिस समय इनका जन्म हुआ, उस समय देश में संतों के द्वारा समाज सुधार का कार्य किया जा रहा था। देश में स्वतंत्रता आन्दोलन का विगुल 1857 में बज चुका था। इन्होंने सरौती,गया,बिहार को अपना कर्मक्षेत्र बनाया। संस्कृत विद्यालयों की स्थापना के द्वारा वंचित तबकों तक संस्कृत शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए आपने अनथक परिश्रम किया। आपकी जीवनी तथा समसामयिक सामाजिक स्थितियों से ज्ञात होता है कि सामाजिक न्याय दिलाने की दिशा में भक्ति और संस्कृत शिक्षा को आपने एक औजार की तरह प्रयोग में लाया। यही कारण है कि आपकी रचना में प्रपत्ति और शिक्षा का समन्वय देखने को मिलता है। आप संस्कृत के नदीष्ण विद्वान् नहीं थे, वरन् संस्कृत के प्रचारक और आश्रयदाता की भूमिका का निर्वाह किया। पुण्यतीर्थ गया उस समय भी कर्मकाण्ड का केन्द्र था। मगध के समकालीन विद्वान् कर्मकाण्ड ग्रन्थों की रचना कर खुद को श्रेष्ठ संस्कृत विद्वान् मान रहे थे। उसी समय सहजानन्द सरस्वती भी समाज सुधार के क्षेत्र में सक्रिय थे। इन सभी का प्रभाव आप पर पहुंचना स्वाभाविक था। आपका जन्म एक छोटे से ग्राम महमत्पुर में हुआ था। उत्तर भारत के मंदिरों को मुगलों ने नष्ट भ्रष्ट कर दिया था। इस क्षेत्र में भव्य और विस्तृत मंदिर नहीं थे। भक्ति हेतु आकर्षण का कोई महनीय केन्द्र नहीं था। आपने अपने गुरु राजेन्द्राचार्य के साथ दक्षिण प्रदेशों के मंदिरों को देखा और अभिभूत हो गये।बुद्धिजीवियों से निरंतर सम्पर्क के कारण अपने यहाँ हो रहे सामाजिक भेदभाव को पहचाना। उस समय शाकद्वीपीय ब्राह्मण भुमिहार ब्राह्मण को कमतर मानते थे। अकर्मण्य भुमिहार को कर्मण्य भुमिहार ब्राह्मण तक की यात्रा कराने में इन्हें कई अवरोधों का सामना करना पडा। संस्कृत नहीं पढना, कर्मकाण्ड नहीं कराना ही भुमिहारों की अकर्मण्यता थी। ये इसे हेय कर्म मानते थे। जातीय समकक्षता के लिए संस्कृत का ज्ञाता होना आवश्यक था। यही एक अस्त्र था, जिसके बलबूते सामाजिक विषमता को चुनौती दी जा सकती थी। संस्कृत अपनाने और प्रचार की पृष्ठभूमि अलग होने कारण आपकी परम्परा को संस्कृत की अन्य धारा से पृथक कर देखना अनिवार्य होगा। यही कारण है कि इनकी रचनाओं में स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए पुकार सुनाई नहीं देती। परन्तु इतना सत्य है कि इनके द्वारा स्थापित संस्कृत शिक्षा केन्द्रों से शिक्षित होकर अनेकों ने रोजगार के अवसर पाये।
  स्वामी पराङ्कुशाचार्य ने  दक्षिण बिहार विशेषतः मगध क्षेत्र में संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार हेतु संस्कृत में कर्मकाण्ड के ग्रन्थों का लेखन, जनजागरण तथा अनेक शिक्षण संस्थाओं की स्थापना की। आपने मगही बोली में अर्चा गुणगान की रचना की । मगही बिहार राज्य के मगध क्षेत्र में बोली जाने वाली एक बोली है। दक्षिण भारत में प्रतिष्ठित देवविग्रह के स्वरुप तथा यहाँ द्रविड संस्कृत के मेल से उत्पन्न प्रपत्ति के सिद्धान्त को मगही में प्रतिष्ठित करने वाले एकमात्र संत रहे हैं। मेरा सौभाग्य कि मैं इनके साहित्यिक अवदान तथा मगध में संस्कृत को प्रतिष्ठा दिलाने में इनकी भूमिका पर चर्चा करुँगा। मगध,काशी  से होते हुए इनकी वाणी भारत के अन्य भूभाग तक पहुँच चुकी है तथा इसका प्रभाव अब देश विदेश में भी शीघ्र दिखने लगा है। आपके शिष्य रंगरामानुजाचार्य ने आपको विशेष प्रसिद्धि दिलायी। पराङ्कुशाचार्य दक्षिण भारत में उद्भूत रामानुजीय वैष्णव परम्परा के सन्त थे। अर्चा गुणगान में विष्णु के स्वरुप में पूजित होने वाले श्रीनिवास वेङ्कटेश एवं रङ्गनाथ के अंग प्रत्यंगों, करुणा, प्रपत्ति तथा उनके ऐश्वर्य का ठीक वैसा ही वर्णन किया जैसा कि यामुनाचार्य के आलवन्दार स्तोत्र में किया है। कृपालो हे कृपा करके प्रभो क्यों ना  चिताते हो। बहुत अपराध जन्मों से किया है मोह के वश हो पंक्ति में अपराधसहस्रभाजनं की प्रतिध्वनि सुनाई देती है। भक्तगण जब अर्चा गुणगान के पदों को गाते थे तो पराङ्कुशाचार्य प्रभु भक्ति में भावविभोर हो नृत्य करने लगते थे। इस क्षेत्र के हर गायक का सपना होता है कि इनके द्वारा रचित भक्ति पदों को अपने अंदाज में स्वर दें। ऐसा इसलिए भी कि इनके गीत क्षेत्रीय भाषाई विरासत को तो समेटे है ही गायकों को भीतर तक शान्ति का अनुभव कराता है। कई गीतकारों ने आपके सम्मान में गीतों की रचना की है एवं गायकों ने भी उसे स्वर दिया है। इस प्रकार के गीत हुलासगंज एवं इससे सम्बद्ध संस्थाओं के धार्मिक आयोजनों एवं यज्ञों में सुने जा सकते हैं।
        परांकुशाचार्य के व्यक्तित्व और कृतित्व को समझने के समकालीन घटनाक्रम, क्षेत्र की शैक्षणिक स्थिति को जानना भी आवश्यक है।  कोलकाता, रांची, गया तथा वाराणसी आदि मगध का निकटवर्ती संस्कृत शिक्षा का क्षेत्र था। यहाँ पर संस्कृत की स्थिति पर दृष्टिपात करना आवश्यक होगा, क्योंकि मगध क्षेत्र के लोग इन्हीं विद्या के केंद्रों में जाकर उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे थे। वे इन विद्या केंद्रों से प्रभावित हो रहे थे। इस कालखंड में एक और ईसाई मिशनरियों के द्वारा शिक्षा सुधार लाया जा रहा था।  कोलकाता, वाराणसी आदि स्थानों में नए-नए विश्वविद्यालय स्थापित हो रहे थे।  अंग्रेजों द्वारा स्थापित शिक्षा केंद्र तथा एक भारतीय संत के द्वारा शिक्षा केंद्र की स्थापना में मौलिक अंतर यह था कि जहां अंग्रेज भारतीय रीति रिवाज परंपरा को समझकर भारतीयों पर शासन करने के लिए शिक्षा केंद्र स्थापित किये, वहीं भारतीय संत के द्वारा वंचितों को मुख्यधारा से जोड़ने का जद्दोजहद दिखता है।
ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा स्थापित सुप्रीम कोर्ट कोलकाता में जूनियर जज पर तैनात विलियम जोंस 1783 में कोलकाता आये। उन्होंने कोलकाता में संस्कृत व्याकरण और काव्य की बारीकियों को पढ़ कर जाना। विलियम जोंस कानून, दर्शन, धर्म, राजनीति, नैतिकता, अंकगणित, चिकित्सा विज्ञान आदि विषयों की गहन जानकारी के लिए संस्कृत विद्या का अध्ययन कर रहे थे। इसी समय हेनरी टॉमस कोलब्रुक तथा नैथे नीयल हॉलहेड संस्कृत भाशा सीखकर संस्कृत ग्रंथों का अनुवाद कर रहे थे। यह सभी भारतीय विरासत को समझने के प्रयास में लगे थे। इसी समय जोन्स ने इनसे मिलकर एशियाटिक सोसाइटी ऑफ बंगाल का गठन किया तथा वहीं से एशियाटिक रिसर्च शोध पत्रिका का प्रकाशन शुरू किया। श्रीमती योगमाया देवी बिहार के संस्कृत शिक्षा में स्त्रियों के लिए अलग पाठ्यक्रम बनाए जाने तथा बिहार संस्कृत कन्वोकेशन में महिला प्रतिनिधि को शामिल कराने के लिए संघर्ष कर रही थी। बिहारी छात्राओं की सफलता नामक लेख में सरस्वती देवी लिखती है कि 1931 के अप्रैल में योगमाया देवी ने महिलाओं में संस्कृत के प्रचार के लिए अलग कोर्स बनाने की मांग बिहार लेजिस्लेटिव असेंबली में की थी। बिहार संस्कृत एसोसिएशन की संचालिका सभा में महिलाओं के प्रतिनिधित्व की भी मांग की। जिस समय पंडित ईश्वरदत्त शास्त्री के सभापतित्व में वाराणसी में आयोजित अखिल भारतीय संस्कृत छात्र संघ का अधिवेशन हो रहा था और महिलाओं को संस्कृत शिक्षा में अधिकार दिलाने के लिए लड़ाई लड़ी जा रही थी, उस समय भूमिहार ब्राह्मण भी संस्कृत शिक्षा से बंचित थे। इससे यह तो स्पष्ट हो चुका है कि उस समय स्त्रियों तक संस्कृत शिक्षा नहीं पहुंच पा रही थी। वैष्णव संतो द्वारा स्थापित संस्कृत के शिक्षा केंद्रों में भी स्त्रियों के लिए संस्कृत शिक्षा देने हेतु कोई व्यवस्था नहीं की गई, इस प्रकार संस्कृत शिक्षा से एक बहुत बड़ा वर्ग उपेक्षित रह गया। ईसाई मिशनरियों का बहुत बड़ा केंद्र रांची था। वे पलामू,हजारीबाग सहित अन्य आदिवासी बहुल क्षेत्रों में अंग्रेजी शिक्षा के प्रसार में निरंतर लगे हुए थे। फादर कामिल बुल्के भी भारत में मिशनरी स्कूलों में अध्यापन के लिए पधारे थे परंतु संयोग ऐसा कि वह राम के चरित्र से प्रभावित होकर भारत ही नहीं अपितु संपूर्ण विश्व में प्रचलित रामकथाओं का संकलित करने में अपना जीवन अर्पित कर दिया। फादर कामिल बुल्के भी संस्कृत की शिक्षा ग्रहण किये। हरिनारायण शर्मा ने अपने भूखंड पर दानापुर के कैंट रोड पर मुस्तफापुर,खगौल में 1901 में वेद रत्न विद्यालय की स्थापना की गई। बाद में इसे देबघर स्थानान्तरित कर यहाँ वेदरत्न उच्च विद्यालय की स्थापना की गयी। आप आर्य समाज के अनुयाई तथा आयुर्वेद के ज्ञाता थे । यहां से संस्कृत विद्या प्राप्त कर अनेकों विद्वानों ने शिक्षा पाई। इन सभी घटनाक्रमों से तरेतपाली तथा सरौती का शिक्षणकेन्द्र असम्बद्ध दिखता है, क्योंकि पराङ्कुशाचार्य एक प्रपत्ति के साधक थे,जिसके लिए संस्कृत शिक्षा अनिवार्य है। जातीय समकक्षता पाने में संस्कृतविद्या सहायक थी। तबतक शिक्षा का माध्यम संस्कृत ही हुआ करता था, इनके द्वारा गुरुकुल में बालकों को संस्कृत शिक्षा दी जाती थी, ताकि वे जगह जगह जाकर कर्मकाण्ड करा सकें। भारतीय समाज में महिलाओं द्वारा कर्मकाण्ड कराने की परम्परा नहीं थी इस कारण से भी संस्कृत शिक्षा में आधी आवादी उपेक्षित रह गयी। कुल मिलाकर परांकुशाचार्य एक शिक्षाविद् न होकर एक धार्मिक संत थे, जो एक वर्ग विशेष में संस्कृत को पहुंचाने का सार्थक कार्य कर रहे थे। अतः इस परिधि में रहकर इनके व्यक्तित्व तथा कृतित्व पर विचार करना चाहिए।
          पराङ्कुशाचार्य दक्षिण भारत के आलवार परम्परा से थे,जहाँ ज्ञान के स्थान पर भक्ति का अधिक महत्व था। इन्होंने अपनी भक्ति और कर्मसाधना से ईश्वर को प्रत्यक्ष किया। स्वयं पराङ्कुशाचार्य ने स्कूली शिक्षा प्राप्त नहीं की थी,परन्तु सूर, कबीर,मीरा आदि मध्यकालीन भक्त संतों की तरह इन्होंने भी भक्तिभाव से ओत प्रोत लगभग 65 पदों की रचना की हैं। इनके द्वारा लिखित अधोलिखित पुस्तकें श्री स्वामी पराङ्कुशाचार्य  संस्कृत संस्कृति संरक्षा परिषद् , हुलासगंज, जहानाबाद से प्रकाशित हैं।                 

1. ध्रुव प्रह्लाद चरित्र
2. सुदामा चरित्र
3. राम और हिंसा
4. राम रहस्य
5. सांप्रदायिक प्रश्नोत्तर
6. एक ही नारायण उपास्य क्यों?
7. सीताराम परिचय एवं मानस शंका समाधान
8. अर्चागुणगान
9. राजेन्द्र सूरी जी महाराज की जीवनी (4 खंड)
10. नारायणवली श्राद्ध पद्धति

परांकुशाचार्य की कुछ रचनायें मगही बोली है। एक भाषिक बोली में काव्यसर्जना कर इन्होंने इस बोली को पहचान दिलाने का कार्य किया। इनके साहित्य में मगही शब्दों का भरपूर प्रयोग करने साथ ही इन्होंने अपने साहित्य में मगही तथा संस्कृत शब्दों में संतुलन भी बनाये रखा,जिससे हर भाषाभाषी को इनके साहित्य का सहजबोध होता है। इन्होंनें स्वयं तो मगही में रचना की ही, इसके अतिरिक्त मगध के लोकगीत को अपने कृतित्व के द्वारा उर्वरा भूमि भी प्रदान की। स्वामी परांकुशाचार्य की जीवन लीला तथा वैकुण्ठगमन का प्रसंग बनाकर अनेकों लोकगीत रचित हैं, यथा- स्वामी जी कैलन वैकुण्ठ पयनवां स्वामी जी लोक महनवां ना। वस्तुतः आप संतशिरोमणि तो थे ही मगध और मगही के गौरव पुरुष भी थे। इनके जीवनी पर आधारित एक पुस्तक स्वामी परांकुशाचार्य चरितामृतम् प्रकाशित है।  
       बचपन में हुलासगंज में अध्ययन के समय मैं भी श्रीनिवास प्रताप दिनकर पद का नित्य गायन करता था। गया,जहानाबाद,औरंगाबाद,नवादा,अरवल,पटना सहित अनेक जनपदों में त्यौहारों तथा धार्मिक उत्सव के समय आपके द्वार रचित पदों को गाने की परम्परा है। आपसे प्रेरित होकर लक्ष्मी स्वामी ने मगही में भावपूर्ण गेय पदों से युक्त लक्ष्मी विलास रस नामक पुस्तक को लिखा। इस सबके बाबजूद आश्चर्य है कि भक्ति रचनाओं के द्वारा मगही साहित्य को जीवन्त बनाये रखे इस महापुरुष की रचनाओं की ओर अबतक मगही साहित्य के इतिहास लेखक और समीक्षक की दृष्टि इस ओर क्यों नहीं पड सकी? 1960-62 के बीच महाकवि योगेश द्वारा मगही का पहला महाकाव्य गौतम लिखा गया,जबकि इसके अनेकों वर्ष पूर्व पराङ्कुशाचार्य जी ने मगही में रचना की थी। मगही को चाहने वाले उन 2 करोड़ लोगों को इनके जन्म दिन पर इन्हें अवश्य याद करना चाहिए।  

                            अर्चा गुणगान :

1. श्रीनिवास  भगवान की स्तुति

1.    श्रीनिवास प्रताप दिनकर भ्राजता सब लोक मे ।
सो दीन जन के तारने प्रभु आवते भूलोक में ।
वह कृपा चितवन नाथ की जन को सनाथ बनावता ।
वारीश करूण ऊमड़ घुमड़ अघ सकल दूर दहावता ।
प्रभु दिव्य दक्षिण हस्त में ज्यों अस्त्रराज विराजहीं ।
त्यों तेजमय अतिपाञ्चजन्यसु वामकर वर गाजहीं ।
है कान्तिमत सुन्दर पीताम्बर अति विचित्र किनारियॉ ।
सो काछनी कटि में सुहावनी सबन के मन हारियॉ ।
वनमाल औ मनिमाल अगनित पुष्प मोतिन लर रहे ।
पुनि तैसेहीं भगवान के भगवान माला बन रहे।
औ श्रवण कुण्डल मुकुट भूषण गणन मे बहु मणिगणा ।
ज्यों श्याम घन में दामिनी बहु चन्द्र रवि तारे गना ।
प्रभु दिव्य दक्षिण हस्त से निज चरण शरण बतावहीं ।
ना भव तुम्हारे जानु लो सो बाम से दिखलावहीं ।
वह ज्योति जगमग जासु दस दिसि विदिसहु छायी महा ।
सो देखते दर्शक गनो के भागते अघतम महा ।
फणिराज पंकज रूप धर कर दिव्य आसन सोहहीं ।
हो दल अनेको पादतल सो लखित मुनि मन मोहहीं ।
व्यूह पर वैभवन व्यापेहुॅ कौन पाते यत्न से।
भगवान अर्चा रूप धरकर जनन से मिल सुगम से ।
पर्ण फल जल पुष्प से सेवा सुलभ अति प्रेम से ।
इसके लिये यह तन मिला लख व्यास के उपदेश से ।
भूधर समान न और भूधर भूमि पर पाते कहीं ।
सदग्रंथ में जब देखते इनके सुयश सर्वत्र हीं ।
है धन्य कुधर शिखर अहो त्रैलोक नायक को धरे ।
ले साथ में आकाश गंगा धार झरझर झरझरे ।
औ अनंता अलवार के पावन सरोवर हैं जहॉ ।
है मुक्ति की ईच्छा जिसे वैकुंठ में रहते तहां ।
भाष्यकार स्वयं जिन्हें बन ससुर गुरू सेवा किये ।
सब दास को शिक्षा दिये अरू आप पावन यश लिये ।
हैं धन्य नर जो देखते पल स्वप्न में उस ठाम को ।
सो देव हैं नर नर नहीं हैं नरन में भगवान को ।
भव भीति का न डर कभी जो मन बसे हरि गीतिका ।
आशा बड़ी युग चरण की है  है कृपा परिपालिका ।
है प्रणतपाल कृपालु हरि के चरण धर जीवन लहो ।
सो दीन बंधु कृपालुता बश द्रवित होंगे ही अहो ।

2. श्रीनिवास भगवान की उदारता

श्रीनिवास भगवान  हमहि अपने अपनाये जी।
ग्रथन में यह  मिलत सबन में ..
नरतन सुर दुर्लभ भारत में
देकर के भगवान हमहि
वैष्णव बनवाये जी।। श्रीनिवास भगवान  ……
पञ्चरात्र से शास्त्र मनोहर
गीता के ज्ञान अति सुन्दर
ऐसे वचन  सुनाय सुगम
मारग बतलाये जी ।। श्रीनिवास भगवान ……
भाष्यकार के चरण लगाकर
भगवत जन के सुहृद बनाकर
इनकर सेवा देकर सुलभ
उपाय बताये जी ।। श्रीनिवास भगवान………
दीन हीन लख कृपा किये प्रभु
आरत हर गुण प्रकट किये हरि
युगल चरण अति सुन्दर
सिद्ध उपाय बताये जी ।। श्रीनिवास भगवान……

3.  श्रीनिवास भगवान के अर्चा रूप का उद्देश्य

श्रीनिवास आश्रित हित अपना अर्चा रूप बनाते हैं।
द्रवित हृदय से आये गिरि पर  वेङ्कटनाथ कहाते हैं।
व्रात जनों के रक्षण हित रक्षा कङ्कण  बन्धवाते हैं।
शरणागत पर प्रेममयी शीतल अ‍ँखिया दिखलाते हैं।
दक्षिण  कर से सब प्रकार युग चरण उपाय बताते हैं।
त्यों वामे करसे भव के लघु तरतर भाव बताते  हैं।
अन्य  हाथ में शङ्ख सुदर्शन धर ऊँचे दिखलाते हैं।
डरो नहीं तुम डरो नहीं तुम डरो नहीं हम  आते हैं।
मैं हूँ अखिल लोक के नायक मुकुट पहन बतलाते हैं।
देखो वेद पुराण  सूत्र गण मेरे ही गुण  गाते हैं।

4. वेङ्कटेश भगवान  का स्वरूप वर्णन


वेङ्कट  गिरि पर स्वामी वैकुण्ठ से ही आये।
श्री श्रीनिवास  जन को यह भाव हैं बताये।।
है हस्त कमल सुन्दर दक्षिण अधो अपाने।
करके उपाय सर्वोपरि चरण को दिखाये।।
है शङ्ख चक्र धर के प्रतिद्वन्द को हटाते।
तैसे ही वाम करसे भव नाप को बताते।।
जो दिव्य मुकुट माथे त्रैलोक्य नाथ नाते।
है  दास  को  यहॉ से वैकुण्ठ को ले जाते।।
यह गिरि समान गिरिवर ब्रह्माण्ड में न पाते।
इनके समान जनहित तिहु लोक में न आते।।
वह दीन वचन सुनकर हरि दूर से ही धाते।
भगवान कृपा करके हर रूप भी दिखाते।।

5. श्रीवेङ्कटेश भगवान एवं आळवार संत

वेङ्कट गिरिपर भगवान जी.. आये अधम उधारन।
भू योगीश्वर महत भट्टवर.. भक्तिसार अगवान जी।।आये
कुलशेखर श्रीयोगी वाहन.. भक्तचरण रजमान  जी ।आये
जामातृ परकाल वीरवर.. जिनसे लुटाये भगवान जी। आये
भाष्यकर यामुन  मुनि योगी.. राममिश्र परधान  जी। आये
स्वामी पुण्डरीक लोचन वर.. कृपा किये जनजान जी।आये
नाथमुनिहुँ शठकोप मुनीश्वर.. विष्वकसेन परधान जी। आये
माता श्री लक्ष्मी महारानी.. दया करो जन जान जी।आये
दीनहिं के हित भूतल आये.. जानत परम सुजान जी।आये

6. वेङ्कटेश भगवान का भजन

मन श्रीनिवास भज रे।टेक।
होय परम कल्याण तुम्हारे. चरणन जाय परे।
लक्ष्मीमाता पास खड़ी हैं. तब तुम काह डरे।
युगल चरणहिं उपाय तुम्हारे. सब दुःख दूर करे।
नारायण के ध्यान धरे से. सब विधि काज सरे।
दीनन हित वैकुण्ठ छाड़ि के. वेङ्कट गिरि पधरे।

7. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति

मोहि रङ्गनाथ अपनाये। टेक।
परम दयालु कृपा करके प्रभु .अपने शरण बुलाये।
मन्त्रराज द्वय चरम मन्त्र को. सब विधि से सुनवाये।
सुन्दर चरण उपाय बताकर. अरचि राह दिखलाये।
ऐसी कृपा दीन पर करि हरि. दुरित दूर भगाये।
मोहि रङ्गनाथ अपनाये।

8. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति   2

कृपालो हे कृपा करके प्रभो क्यों ना  चिताते हो।
बहुत अपराध जन्मों से किया है मोह के वश हो।
तुम्हारे देखते सबहीं बहिर अन्तर निवसते हैं।
करूणाकर करूण वश हो क्षमा कर दे तु सकते हो।
यही है दीन की आशा सतत लखते ही रहते हो।
हमारा कर्म तब देखो नरक बाइस बनाना हो।
निजी गुण को लखें भगवन अपर अपवर्ग लाना हो।
बचना जो बहुत श्रम से हटा दो ही क्षमा करके।
गुणन गण में वही है जो अविज्ञाता कहाते हो।

9. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति   3

रङ्ग रइया ये करूणा नजर से चिताय
हो के करूणाकर जी ठाने निठुरइया
रङ्ग रइया ये हमनि के कवन उपाय ।।1
वेद सब तोहि नेति नेति कहि गावै
रङ्ग रइया ये प्रभु रूप अर्चा बनाय।।2
छोड़ दिव्य लोक अरू अवधि नगरिया
रङ्ग रइया ये रहले दक्षिण दिशि जाय।।3
बाहर भीतर रह के करे रखवरिया
रङ्ग रइया ये अब जनि रहतू भुलाय ।।4
दीन हीन दास तोर तुहीं मोर स्वामी
रङ्ग रइया ये कहु पग धरन उपाय।।5

10. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति 4

अर्चारूप बनकर अपनी सुलभता दिखाओ रङ्ग रइया।
ईक्ष्वाकु पर कृपा किये प्रभु कुल से पुजायो ।।1
कौसल्या जब पाक बनाई अपने मन खायो।।2
पुनि दो बालक देख देख डेराई स्वरूप दिखाओ।।3
रघुपति से लङ्कापति पाये दखिन दिश आयो ।।4
गङ्गा कावेरी  की  गोदी तुमहीं मन भायो।।5
राग भोग सैया सुखदाई वितान बनायो।।6
पान किये योगी वाहन को सुतन में मिलायो।।7
यह  जन वत्सलता गुण तुम्हरे सुविरद बढ़ायो।।8
दीनन पर चरणों की छाया सदाहि बचायो।।9

11. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति 5

दया दरसाये रङ्ग रइया
रङ्गनायकी के सङ्ग आके । दया
यह जन बत्सलता गुण तुम्हरे सुअर्चा बनाये।।दया
भाष्यकार के सब जन गण को चरण में लगाये।।दया
श्रीस्वामी कुरेश के बर दे दीनहुँ अपनाये।दया
सब कल्याण गण तुमरे । न गन हूँ गनाये।दया

12. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति 6

देखन चलिये रङ्गवर की सवारी ।।टेक
सुरतरू वाहन अधिक सुहावन तापर रङ्गनाथ पगधारी।।देखन
आगे चतुर वेद पाठक गण पाछे प्रबन्ध सुरस ध्वनि न्यारी।।देखन
आलवार आचारिन वीथिन सबकी सन्निधियों  में अधिक तैयारी।।देखन
सब भक्तन  के घरनिन विविध भॉंति नैवेद्य संवारी।।देखन
द्वार द्वार सब चौके पूरी नीराजन  लिये हाथ में थारी।।देखन
आड़ा विविध ताल से बाजत तैसीन फिरीहुँ की पिहकारी।।देखन
महामेघ डंमर दो झलकत युगल काहली की ध्वनि भारी।।देखन
प्रति वीथिन में करूणाकर हरि दर्शन देहि दीनन हितकारी।।देखन

13. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति 7

रङ्ग न लगा श्रीरङ्ग का तुम नॉहक बना वेढंग का।
दशो दिशा में व्यर्थ ही धाया रङ्गपुरी में कबहु न आया
मिथ्या चाल कुरंग का।।तुम
कावेरी गङ्गा न नहाया वह पवित्र जल तनिक न पाया
भूला यम के दण्ड का। तुम
रङ्गनाथ पगतर न गिरा जो  चरणामृत नहि पान किया सो
लगहिं लात बजरङ्ग का । तुम
माता रङ्गनाथ को जानो  रङ्गावरहिं पिता कर मानो
वचन ये वेद वेदान्त का । तुम
त्रिगुणों के घेरा में पड़कर त्रिविध ताप ज्वाला में जलकर
जैसा हाल पतङ्ग का । तुम
श्री रङ्गेश चरण मन धर कर दीनबन्धु के नाम सुमिरकर
महिमा लहत सतसङ्ग का। तुम

14. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति 8

रङ्गनाथ मम नाथ प्रभो अब ना तुम छोड़ो जी।
रक्षक पिता सखा भर्ता पति ज्ञाता भूति आधार रमापति
हौं शेषी गुरूदेव बहुत नाता जनि तोड़ो जी।।
भोक्ता ज्ञाता प्रेरक अन्तर कहत वेद इतिहास निरन्तर
प्रभु तुम दीन दयाल दया से मुख मत मोड़ो जी।।
स्वामी सेव्य अभद्र गुणाकर सब कारण तारण भव सागर
शुभ  गुण में अब आन निठुरता मत तुम जोड़ो जी।।

15. रङ्गनाथ भगवान की स्तुति 9

यही वर भावै रङ्गरइया।टेक
श्रीरङ्ग पुर के भीतर  हमको कुकुर्वा वनावै।
खाने को मोहि भक्तन के जूठन पत्तल ही चटावै।
प्यासे में कावेरी के पानी पीलाबैं।। यही
चतुरानन  गोपुर के आगे रेती पर सुतावैं। यही
जब प्रभु परिकरमा में आवैं पीछे से लगावैं। यही
मङ्गल गिरि पर आप विराजैं आगे में वैठावैं। यही
रङ्गनायकी रङ्गनाथ प्रभु अपना बनावै। यही
तुम स्वामी  हो अन्तर्यामी अपने अपनावैं। यही
यह तन रङ्गपुरी में छोड़ा के  चरण में लगावैं। यही
नित्य मुक्त वैष्णव गण सङ्ग में सेवन समुझावैं । यही

16. वरदराज भगवान की स्तुति 1

वरद रइया सब देले बनाय। टेक
चौरासी में भ्रमित श्रमित लख  कृपादृष्टि प्रभु करके चिताय। वरद
करूणा कर नर देह बनाय  भव से तरण कर सुलभ उपाय।वरद
अशरण शरण सुयश संभारे  हरि दोउ चरणन दिन्ह धराय।वरद
अस प्रभु मोहि दीन अपनाये तेहि कारण दीनबन्धु कहाय।वरद

17. वरद रइया मग देले दिखाय।टेक

भाष्यकर के सम्बन्धि बन तुम सोवहुँ भव भय को भगाय।वरद
नारायण के चरण शरण एक  भव से तरन कर सिद्ध उपाय।वरद
दृढ़पन करि हरि दिन्ह अभय वर  मा शुच पद प्रभु दिन्ह सुनाय।वरद
दीन जनन के तारण कारण सदा करे करि गिरि पर छाय।वरद

18. वरदराज भगवान की स्तुति 2

बना है विश्व में सबको  वरद के वरद हस्तों से ।
यही सब वेद गाते हैं  सकल मिल एकहीं स्वर से ।।
बना सुक वामदेवों को  वरद ही के बनाने से।
सुधारा बाल ध्रुव को भी वरद ने वरद हस्तों से।।
बना जैसे विभीषण को वरद के वरद हस्तों से।
अकिंचन दीन को सब दिन बनाये वरद हस्तों से।।
बने वैसे विदुर घरही  वरद के वरद हस्तों से।
बना उस गिद्ध को सबसे वरद के हस्त से जैसे।।

बनेगा दीन को वैसे वरद के वरद हस्तों से।।