भारतीय जनगणना 2011 में संस्कृत का स्थान


2011 की जनगणना पर आधारित भारतीयों भाषाओं के आंकड़े आ चुके हैं। कुछ उत्साही मित्र समाचार पत्र की कटिंग लगाकर यह दिखाने की कोशिश में हैं कि संस्कृतभाषियों की संख्या में वृद्धि हो रही है। इस शुभ वार्ता को प्रचारित कर वे मूल समस्या से बचना चाह रहा हैं।  मैं साक्ष्य सहित यह कह सकता हूँ कि यह क्षणिक उफान है। 
जनगणना हेतु निर्मित परिवार अनुसूची में उल्लिखित 29 प्रश्नों में से मातृभाषा एक प्रश्न था। अन्य भाषाओं का ज्ञान दूसरा अन्य प्रश्न। ये आंकड़े  मातृभाषा वाले प्रश्न के हैं।जनगणना आधारित भाषायी आंकड़ों पर रह-रह कर हाय तौबा मचता रहता है। मैंने अपने एक अन्य लेख में भाषायी अल्पसंख्यकों और इसके लिए गठित संस्थाओं के बारे में विस्तार पूर्वक लिख चुका हूँ। जनगणना में कुछ स्थान पर श्रम पूर्वक कार्य सम्पादित होते हैं तो कुछ भी दूर बैठकर आंकड़े लिख दिये जाते हैं।  यह शिकायत हमेशा से रही है कि जनगणना कर्ता पूछता है, तुम्हारी माँ किस भाषा को बोलती है? यदि तुम्हारी माँ संस्कृत नबीं बोलती तो तुम्हारी प्रथम मातृभाषा संस्कृत कैसे हो सकती है? चुंकि जनगणना करने वाला हिन्दी या अन्य क्षेत्रीय भाषा बोल रहा होता है, जिसका उत्तर उसी भाषा में दी जाती है। पुनः उसका दूसरा प्रश्न होता है कि तुम्हारी द्वितीय भाषा संस्कृत नहीं हो सकती तुम मेरी भाषा में धारा प्रवाहपूर्वक उत्तर दे रहे हो। अंततः तृतीय भाषा में संस्कृत को स्थान मिल पाता है। यह तब संभव है जब जनगणना करने वाले महाशय से आपकी भेंट हो जाय। अन्यथा आपका पड़ोसी या रिश्तेदार भी नहीं जानते कि आप संस्कृत बोलना जानते हैं। क्योंकि आपने उसके समक्ष कभी संस्कृत में बोला ही नहीं।
 भारतीय जनगणना परिणाम 2011 के लिंक पर क्लिक कर डाउनलोड कर ले। इसका विस्तार पूर्वक अध्ययन करें। 2011 के रिपोर्ट के अनुसार 22 सूचीबद्ध भाषाओं में संस्कृत सबसे कम बोली जाने वाली भाषा है। 2011 के रिपोर्ट के अनुसार इसे सम्पूर्ण भारत में प्रथम भाषा को रूप में बोलने वालों की कुल जनसंख्या मात्र 24,821 हैं।द्वितीय भाषा के रूप में बोलने करने वाले की कुल जनसंख्या 12,34,931 तथा तृतीय भाषा के रूप में बोलने करने वाले की कुल जनसंख्या 37,42,223 है। देखें रिपोर्ट -




2001 में हुई जनगणना रिपोर्ट के अनुसार संस्कृत बोलने वाले कुल संख्या 14,135 थी, जबकि 1991 में 49,736  । क्या 1991 में जो लोग संस्कृत बोल रहे थे वे 2001 आते आते बोलना भूल गये अथवा सहसा परमपद को सिधार गये। यद्यपि 2001 में रिपोर्ट आने पर इस विषय पर बहुत अधिक चर्चा हुई थी। कारण खोजे गये थे। नयी पीढ़ी के लोगों तथा इस विषय में रूचि रखने वाले के लिए अंत में 1971 से लेकर अबतक संस्कृत भाषा बोलने वाले का रिपोर्ट विश्लेषण करने के लिए दे रहा हूँ। कुछ प्रश्न हो, जिज्ञासा हो, चर्चा करनी हो तो टिप्पणी में अपना मंतव्य लिख दें।                                             
वर्ष
1971
1981
1991
2001
2011
जनसंख्या
2,212
6,106
49,736
14,135
24,821

लेख का स्रोत जानने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share:

1 टिप्पणी:

लोकप्रिय पोस्ट

ब्लॉग की सामग्री यहाँ खोजें।

लेखानुक्रमणी

जगदानन्द झा. Blogger द्वारा संचालित.

मास्तु प्रतिलिपिः

इस ब्लॉग के बारे में

संस्कृतभाषी ब्लॉग में मुख्यतः मेरा
वैचारिक लेख, कर्मकाण्ड,ज्योतिष, आयुर्वेद, विधि, विद्वानों की जीवनी, 15 हजार संस्कृत पुस्तकों, 4 हजार पाण्डुलिपियों के नाम, उ.प्र. के संस्कृत विद्यालयों, महाविद्यालयों आदि के नाम व पता, संस्कृत गीत
आदि विषयों पर सामग्री उपलब्ध हैं। आप लेवल में जाकर इच्छित विषय का चयन करें। ब्लॉग की सामग्री खोजने के लिए खोज सुविधा का उपयोग करें

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 2

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 3

Sanskritsarjana वर्ष 2 अंक-1

संस्कृतसर्जना वर्ष 1 अंक 1

समर्थक एवं मित्र

सर्वाधिकार सुरक्षित

विषय श्रेणियाँ

ब्लॉग संग्रह

Recent Posts

लेखाभिज्ञानम्

अंक (1) अभिनवगुप्त (1) अलंकार (3) आचार्य (1) आधुनिक संस्कृत (1) आधुनिक संस्कृत गीत (1) आधुनिक संस्कृत साहित्य (3) आम्बेडकर (1) उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान (1) उत्तराखंड (1) ऋग्वेद (1) ऋतु (1) ऋषिका (1) कणाद (1) करक चतुर्थी (1) करण (2) करवा चौथ (1) कर्मकाण्ड (33) कामशास्त्र (1) कारक (1) काल (3) काव्य (6) काव्यशास्त्र (12) काव्यशास्त्रकार (1) कुमाऊँ (1) कूर (1) कूर्मांचल (1) कृदन्त (3) कोजगरा (1) कोश (2) गंगा (1) गया (1) गाय (1) गीतकार (1) गीति काव्य (1) गुरु (1) गृह कीट (1) गोविन्दराज (1) ग्रह (1) चरण (1) छन्द (4) छात्रवृत्ति (1) जगत् (1) जगदानन्द झा (3) जगन्नाथ (1) जीवनी (3) ज्योतिष (13) तकनीकि शिक्षा (1) तद्धित (10) तिङन्त (11) तिथि (2) तीर्थ (3) दर्शन (11) धन्वन्तरि (1) धर्म (1) धर्मशास्त्र (12) नक्षत्र (3) नाटक (2) नाट्यशास्त्र (2) नायिका (2) नीति (2) पक्ष (1) पतञ्जलि (3) पत्रकारिता (4) पत्रिका (6) पराङ्कुशाचार्य (2) पाण्डुलिपि (2) पालि (3) पुरस्कार (13) पुराण (2) पुरुषार्थोपदेश (1) पुस्तक (2) पुस्तक संदर्शिका (1) पुस्तक सूची (14) पुस्तकालय (5) पूजा (1) प्रत्यभिज्ञा शास्त्र (1) प्रशस्तपाद (1) प्रहसन (1) प्रौद्योगिकी (1) बिल्हण (1) बौद्ध (6) बौद्ध दर्शन (2) ब्रह्मसूत्र (1) भरत (1) भर्तृहरि (2) भामह (1) भाषा (1) भाष्य (1) भोज प्रबन्ध (1) मगध (3) मनु (1) मनोरोग (1) महाविद्यालय (1) महोत्सव (2) मुहूर्त (2) योग (6) योग दिवस (2) रचनाकार (3) रस (1) राजभाषा (1) रामसेतु (1) रामानुजाचार्य (4) रामायण (1) राशि (1) रोजगार (2) रोमशा (1) लघुसिद्धान्तकौमुदी (45) लिपि (1) वर्गीकरण (1) वल्लभ (1) वाल्मीकि (1) विद्यालय (1) विधि (1) विश्वनाथ (1) विश्वविद्यालय (1) वृष्टि (1) वेद (2) वैचारिक निबन्ध (22) वैशेषिक (1) व्याकरण (15) व्यास (2) व्रत (2) व्रत कथा (1) शंकाराचार्य (2) शरद् (1) शैव दर्शन (2) संख्या (1) संचार (1) संस्कार (19) संस्कृत (16) संस्कृत आयोग (1) संस्कृत गीतम्‌ (9) संस्कृत पत्रकारिता (2) संस्कृत प्रचार (1) संस्कृत लेखक (1) संस्कृत वाचन (1) संस्कृत विद्यालय (3) संस्कृत शिक्षा (4) संस्कृतसर्जना (5) सन्धि (3) समास (6) सम्मान (1) सामुद्रिक शास्त्र (1) साहित्य (2) साहित्यदर्पण (1) सुबन्त (7) सुभाषित (3) सूक्त (3) सूक्ति (1) सूचना (1) सोलर सिस्टम (1) सोशल मीडिया (2) स्तुति (2) स्तोत्र (10) स्त्रीप्रत्यय (1) स्मृति (11) स्वामि रङ्गरामानुजाचार्य (2) हास्य (1) हास्य काव्य (1) हुलासगंज (2) Devnagari script (2) Dharma (1) epic (1) jagdanand jha (1) JRF in Sanskrit (Code- 25) (3) Kahani (1) Library (1) magazine (1) Mahabharata (1) Manuscriptology (2) Pustak Sangdarshika (1) Sanskrit (2) Sanskrit language (1) sanskrit saptaha (1) sanskritsarjana (3) sex (1) Student Contest (1) UGC NET/ JRF (4)