रविवार, 20 अप्रैल 2014

रीति सम्प्रदाय

           संस्कृत अलंकार शास्त्र में रीति सम्प्रदाय का अपना विशेष महत्व रहा है। रीतियां, प्रदेशगत शैलियों के विशिष्ट प्रकार से शनैः शनैः, सार्वभौमिक लेखन प्रकारों के रूप में प्रचलित हुई। रीति सम्प्रदाय के प्रधान प्रवर्तक आचार्य वामन माने जाते है। दण्डी ने रीतियों के वर्णन को अपने ग्रन्थ में पर्याप्त स्थान एवं महत्व दिया है। कुछ और उत्तरवर्ती लेखकों ने भी इस दिशा में महनीय प्रयास किए है, परन्तु वामन के ग्रन्थ में रीति का जो महत्व उपलब्ध है, वह इस विषय के किसी ग्रन्थ में नहीं हैं। वामन रीति को शैली ही नहीं मानत थे अपितु काव्य का सारभूत तत्व भी इसे ही स्वीकार करते हैं। उन्होंने स्पष्ट कहा है, रीतिरात्मा काव्यस्य। और इस रीति को भी उन्होंने स्पष्ट शब्दों में व्यक्त किया है ‘‘विशिष्ट पदरचना रीतिः ‘‘। पदों की यह विशिष्टता ही वास्तव में काव्य में महत्वशाली तत्व है। यह वैशिष्ट्य पदों में काव्य गुणों के कारण ही आता है अन्यथा पद सामान्य ही रहते है। काव्यप्रयोगार्ह नहीं। अतः रीति गुणों पर आधारित काव्य तत्व है-विशेषो गुणात्मा। इसलिए विद्वानों की एक परम्परा रीति सम्प्रदाय को ही गुण सम्प्रदाय कहने के पक्ष में है।
      काव्यशास्त्रीय ग्रन्थों में सर्वप्रथम गुणों का वर्णन भरत के नाट्यशास्त्र में उपलब्ध है। नाट्यशास्त्र के 16 वें अध्याय में उन्होंने श्लेष, प्रसाद, समता, समाधि, माधुर्य, ओज, सुकुमारता, अर्थव्यक्ति, उदारता तथा कान्ति इन दशगुणों को स्वीकार किया है। रूद्रदामन् के गिरनार शिलालेख (1500) में माधुर्य, औदार्य, स्पष्टता। बाण जो कि प्रायः सभी ज्ञात अलंकारशास्त्रियों से पूर्ववर्ती माने जाते है प्रदेशगत विशेष रचना शैलियों का उल्लेख अपने हर्षचरित में करते हैं श्लेषप्रायमुदीच्येषु अर्थमात्रकम्। उत्प्रेक्षा दाक्षिणात्येषु गौडष्वक्षरडॅबरः।परन्तु गुणों को विशिष्ट सत्ता सर्वप्रथम भरत ही स्वीकार करते है। दण्डी भी भरत निर्दिष्ट गुणों को स्वीकार करते है, परन्तु भरत से उनकी व्याख्या में अनेक प्रकार विकसित होते हुए दिखाई देते हैं। गुणों में शब्दगत एवं अर्थगत दोनों प्रकार का वैशिष्ट्य स्वीकार करना दण्डी को अभीष्ट था। वे इन गुणों को केवल वैदर्भ मार्ग या वैदर्भी मार्ग या वैदर्भी रीति का प्राण मानते हैं तथा इनकि विपर्यय को गोडीय मार्ग का प्रतिपादक स्वीकार करते है। गौड मार्ग में वे अर्थव्यक्ति, उदारता और समाधि को ही मानते हैं। ‘‘इति वैदर्भमार्गस्य प्राणाः दशगुणाः समृता। एषां विवर्ययः प्रायोहश्यते गोडवत्र्मनि। भामह रीतियों की भिन्नता को स्वीकार नहीं करते।
      वामन ने गुणों की कल्पना, इनके बोध, महत्व तथा व्याख्या को सर्वथा मौलिक एवं नूतन रूप दिया है। वामन ने गुणों को दो प्रकार का माना है- शब्द गुण तथा अर्थ गुण। इन दोनों प्रकार के गुणों में नाम साम्य अवश्य है किन्तु स्वरूप भेद पर्यापत हैं। गुणों के विषय में वामन के इस बीस गुण के सिद्धान्त को बाद में आने वाले आलंकारिकों ने स्वीकार नहीं किया। भामह ने गुणों की संख्या तीन स्वीकार की थी-आनन्दवर्धन, मम्मट, हेमचन्द्र और विश्वनाथ सभी मत का अनुसरण करते हैं। प्रायः ये सभी अलंकारिक वामन के गुणों को माधुर्य, ओज, प्रसाद में ही अन्तभूति कर देते हैं। कुछ गुणों को वे केवल दोषाभाव मात्र मानते हैं। उनकी साकारात्मक सत्ता का अभाव हैं। और वामन के कुछ गुण तो वास्तव में गुण न होकर दोष हैं और कुछ कोरी कल्पना मात्र। वामनोत्तर अलंकारिक रीतियों की सत्ता तथा काव्य शोभा इन्हीं तीन गुणों पर आधारित मानते हैं। मम्मट तो गुणों को रस के अनिवार्य धर्म मानने के पक्ष में है शोभावद्र्वक नहीं। उनका कथन हैः
                       ये रसस्याड्निो धर्मा शौर्यदय इवात्मनः
                       उत्कर्ष हेतवस्ते स्युरचलस्थितयो गुणाः।
      वे इन्ही पर विभिन्न रीतियों को आधूत मानते हैं। वामन के मार्ग का थोड़ा सा अनुसरण भोजराज अवश्य करते हैं। परन्तु उन्होंने भी गुणों के विभाजन तथा स्वरूप दोनों में विशेष अन्नतर कर दिया है। भोजराज गुणों के तीन भेद मानते हैं 1.बाह् गुण 2. अन्तर गुण 3. वैशेषिक गुण। गुणों की संख्या भी उनके मत में 24 हैं।
      रीति का विकास-रीति साहित्य शास्त्र में अनेको नाम से जानी जाती है। इसका प्राचीन नाम मार्ग या पन्था हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि लेखन शैली के उद्भव के साथ ही इसकी भी कल्पना की गई होगी। धीरे-धीरे इसका स्वरूप प्रदेशगत हो गया होगा। प्रायः एक ही प्रदेश के रचनाधर्मी जब एक सी ही पद रचना में नैपुण्य दिखाने लगे तो उन्हीं प्रदेशों के आधार पर इन रीतियों का भी नाकरण हो गया होगा। आरम्भ में वैदर्भ और गौड़ ये दो मार्ग ही प्रसिद्ध थे। इनमें से वैदर्भ को काव्य का श्रेष्ठ एवं रमणीय मार्ग माना जाता था तथा गौड़ मार्ग को दुरूहता, शब्दकाठिन्य, तथा श्रवण कटुता के कारण निन्दनीय माना जाता था। आरम्भिक आचार्य भामह इस पद्धति का अनुसरण नहीं करते थे। उनके मत में तो वैदर्भ मार्ग की प्रशंसा करनी चाहिए और न गौड़ मार्ग की निन्दाा, अपितु काव्य के शोभन गुणों की और गौड़ीया मार्ग में केवल कुछ गुणों की सत्ता स्वीकार करते है। दण्डी की दृष्टि में वैदर्भ मार्ग कवियों के लिए आदर्श तथा अनुकरणीय है। गौड़ो में अक्षराडम्बर औश्र वैदर्भ मार्ग की सरलता के सूक्ष्म अनन्तर के कारण ही इन दोनों की लोकप्रियता में मूल अनन्तर दिखाई है।
                  दण्डी के अन्नतर रीति को सुदढ़ आधार तथा महत्वपूर्ण स्थान दिलाने का श्रेय वामन को है। यद्यपि वे काव्य का मूलभूत आकर्षक तत्व क्या है इसे नहीं जान सके थे तो भी उन्होंने अलंकार को काव्य शोभा का सर्वस्य नहीं जान सके थे तो भी उन्होंने अलंकार को काव्य शोभ का सर्वस्य मानने वाले पारस्परिक प्राचीन ढर्रे से हटकर काव्य की आत्मा रीति है। उन्होंने रीतियों को संख्या में भी पूर्ववर्ती आलंकारिकों की अपेक्षा वृद्धि की है। यह वृद्धि वास्तविक तथा तथ्यों के अधिक अनुकूल है। अब तक की दो रीतियों गौडी और वैदर्भी में वे पाच्चाली को और जोड़ देते हैं जो सम्भवतः पाच्चाल क्षेत्र में विशेष लोकप्रिय थी। वामन के अनुसार वैदर्भी रीति में सम्भवतः पाच्चाल क्षेत्र में विशेष लोकप्रिय थी।
रीति सम्प्रदाय का महत्वः-रीति सम्प्रदाय में अलंकार सम्प्रदाय के प्रारम्भिक विकास की तुलना में काव्यसिद्धान्तों के विकास का स्तर प्रायः उन्नत दिखाई देता है। जहां अलंकार सम्प्रदाय काव्य के केवल अंगों, शब्द तथा अर्थ तक ही सीमित है, वहां रीतिसम्प्रदाय में पहली बार काव्य के सूक्ष्म तत्व के उन्मोलन में रीतिसम्प्रदाय के आचार्य ने अपनी क्षमता दिखाई है। यह प्रकारान्तर से वामन की ही प्रशंसा है।
                   रीति सम्प्रदाय को ही गुण और अलंकार के स्वरूप और क्षेत्र विभाजन का श्रेय जाता है। भामह ने गुण और अलंकार के व्यापक अर्थ में सीमित करते हैं। उनकी दृष्टि में काव्य शोभा के सभी धर्मों को अलंकार के व्यापक अर्थ में सीमित करते हैं। उनकी दृष्टि में काव्य शोभा को बढ़ाने वाले गुण होते हैं और उसका अतिशय करने वाले अलंकार। काव्य में अलंकार की अपेक्षा गुण अधिक महत्वपूर्ण हैं क्योकि उनकी स्थिति काव्य में नित्य तथा अपरिहार्य हे काव्य शोभा के इस सम्प्रदाय का विशेष महत्व है।
                   अलंकार सम्प्रदाय के आचार्यों की तुलना मंे रीतिवादी आचार्यों की दृष्टि सूक्ष्म, गहरी, तीक्ष्ण, एवं पैनी है। वामन ने रस को बहिरडग्ता के क्षेत्र से लाकर अन्तरग्ता में रस का निवेश करते हैं। वामन वक्रोक्ति में अविवक्षित वाच्यध्वनि का अन्तर्भाव भी उपलब्ध होता है। इस प्रकार काव्य तत्वों का विवेचन इस सम्प्रदाय में अधिक व्यापक उपलब्ध होता है। ध्वनिवादी आचार्य भी रीति की सत्ता स्वीकार करते है और ध्वनि के साथ इसका पूर्ण सामंजस्य दिखाते हैं। आचार्य कुन्तक ने रीति को एक और महत्व प्रदान किया। उन्होंने रीति को कविस्वभाव से सम्बद्ध मानकर इस की अपरिहार्यता की प्रतिष्ठा की। उन्होंने रीतियों को मार्ग कहकर इनके नए नाम दिए-सुकुमार, वैदर्भी, विचित्र, गौड़ी, मध्यमा, पांचाली.