मंगलवार, 4 मार्च 2014

गृहप्रवेश विधि

        गोबर से लीये गये मण्डप के पश्चिम ओर यजमान भूमि पर बैठकर आचमन प्राणायाम देवताओं को नमस्कार कर संकल्प करे- ॐ अद्येत्यादिज्ञाताज्ञात- कायवाङ्मनःकृतसकलपापक्षयपूर्वकशालाकर्माहं करिष्ये। ब्राह्मण कहे-कुरुष्व। तदनन्तर गणेशादि की पूजा कर मंडप के ऊपर लाल रंग की एक ध्वजा स्थापित करे। उसके पूर्वादि दिशाओं में क्रमशः पीली, लाल, काली, नीली, सफेद धूंधली हरी, पंच रंगों वाली रक्त और सफेद पताका स्थापित करे। अनन्तर आचार्य वरण करे। तत्पश्चात् एक हाथ परिमित भूमि को कुशों से ढककर पहले पञ्चभूः संस्कार कर अग्निस्थापन पूर्वक ब्रह्मा का वरण करे। पुनः कुशकण्डिका कर प्रज्जवलित अग्नि में श्रुवा से हवन करे। ॐ वास्तोष्पते प्रतिजानीह्यस्मान्स्वावेशोऽनमीवो भवा नः यत्त्वेमहे प्रतितन्नो जुषस्व शन्नो भव द्विपदे शं चतुष्पदे स्वाहा। इदं वास्तोष्पतये। ॐ वास्तोष्पते प्रतिरणोन एधि गयस्फानो गोभिरश्वेभिरिन्दो। अजरासस्त्वे सखे स्वामपितेव पुत्रन्प्रति तन्नो जुषस्व स्वाहा। इदं वास्तोष्पतये। ॐ वास्तोष्पते शग्मयासं सवाते सक्षीमहिरण्वद्यागातु मत्वा। पाहि क्षेम उत योगे वरन्नो यूयं पात स्वस्तिभिः सदा नः स्वाहा। इदं वास्तोष्पतये। ॐ अमीवहा वास्तोष्पते विश्वारूपाण्याविश्च सखा सुशेवरग्धिनः स्वाहा। इदं वास्तोष्पतये।
ॐ प्रजापतये स्वाहा। इदं प्रजापतये। इति मनसा। ॐइन्द्राय स्वाहा, इदमिन्द्राय। इत्याघारौ। ॐ अग्नये स्वाहा, इदमग्नये। ॐ सोमाय स्वाहा, इदं सोमाय। इत्याज्यभागौ। ॐ अग्निमिन्द्रं बृहस्पतिं  विश्वान्देवानुपधये। सरस्वतीं वाजीं च वास्तु मे दत्त वाजिनः स्वाहा। इदमग्नये इन्द्राय बृहस्पतये विश्वेभ्यो देवेभ्यः सरस्वतीवायव्यै च। ॐ सप्र्प देवजनान्सर्वान्हिमवन्तसुदर्शनम्
बह्नश्च रुद्रानादित्यानीशानं जगदैः सह एतान् सर्वान् प्रपद्येऽहं वास्तु मे दत्तावाजिनः स्वाहा। इदं सर्वदेवजनेभ्यो हिमवते सुदर्शनाय वसुभ्यो रुद्रेभ्यः आदित्येभ्य ईशानाय जगदेभ्यच। ॐ पूर्वाह्ण मपराह्णं चोभौ मध्यन्दिना सह प्रदोषमर्द्धरात्रां च व्युष्टां देवीं महापथां एतान्सर्वान्प्रपद्येऽहं वास्तु मे दत्तवाजिनः स्वाहा। इदं पूर्वाह्णायापराह्णाय मध्यन्दिनाय प्रदोषायार्द्धरात्राय व्युष्टायै दैव्यै महापन्थायै च। ॐ कर्तारं च विकर्तारं विश्वकर्माणमौषधीश्च वनस्पती। एतान्सर्वान्प्रपद्येऽहं वास्तु मे दत्त वाजिनः स्वाहा। इदं कत्र्रो विकत्र्रो, विश्वकम्र्मणे ओषधीभ्यो वनस्पतिभ्यश्च। ॐ धातारं च विधातारं निधीनाझ् पतिं सह। एतान् सर्वान्प्रपद्येऽहं वास्तु दत्त्वाजिनः स्वाहा। इदं धात्रो विधात्रो निधीनां पतये च। ॐ स्योनशिवमिदं वास्तु मे दत्त ब्रह्मप्रजापती सर्वाश्च देवताः स्वाहा। इदं ब्रह्मणे प्रजापतये सर्वाभ्यो देवताभ्यश्च। ॐअग्नये स्विष्टकृते स्वाहा इदमग्नये स्विष्टकृते। ॐ भूःस्वाहा इदमग्नये। ॐ भुवः स्वादा इदं वायवे। ॐ स्वः स्वाहा इदं सूर्याय।
इसके बाद सर्व प्रायश्चित्त संज्ञक पञ्च वारुण होम चतुर्थ खण्ड के होम प्रकरणसे करायें।
ॐ प्रजापतये स्वाहा इदं प्रजापतये। संश्रवप्राशनम् आचमनम् च। ब्रह्मणे पूर्णपात्रदानं ब्रह्मग्रन्थिविमोकः। ॐ सुमित्रिया न आप ओषधयः सन्तु इति पवित्राभ्यां जलमानीय तेन शिरः सम्मृज्य ॐ दुर्मित्रियास्तस्मै सन्तु योस्मान् द्वेष्टि यझ् वयं द्विष्मः इत्यैशान्यां प्रणीतान्युब्जीकरणम्। तत आस्तरणक्रमेण बर्हिरानीय घृतेनाभिघार्य हस्तेनैव जुहुयात्। तत्रा मन्त्राः
ॐ गातु विदो गातु वित्वा गातुमितमनसस्पत। इमं देवयज्ञ स्वाहा
व्वातेधाः स्वाहा। इति वर्हिर्होमः।
वास्तुपूजन-संकल्प-ॐ अद्य शुभगुणविशिष्टायां पुण्यतिथौ गृहप्रतिष्ठाङ्भूतवास्तुपूजनं सकलकम्र्मसमृध्यर्थमीशानादिरुद्रदासपर्यन्तानां पझ्त्वारिंशत्वास्तुदेवतानां पूजनमहं करिष्ये। तदनन्तर चन्दन और पुष्प लेकर ईशानाय नमः से रुद्रपर्यन्त इदमावाहनं कहते हुए आवाहन करे अत्रागच्छन्तु वरदा भवन्तु पझ्चत्वारिंशद्देवताभ्य इदमासनम्। एवं पाद्यार्घाचमनीयस्नानीय- वस्त्रायज्ञोपवीतोत्तरीयं, गन्धं, पुष्पं, धूपं, दीपं, ताम्बूलं नमस्कारः पझ्चत्वारिंशद्देवताभ्यो नमः। दध्योदनेन बलिदानम्। ॐ ईशानाय नमः पूजानैवेद्यं दध्योदनं च ईशानाय स्वाहा। ॐ पर्जन्याय नमः पूजानैवेद्यं
दध्योदनं पज्र्जन्याय स्वाहा। एवं जयन्ताय पीतध्वजाय ॐ इन्द्राय नमः। पूजानैवेद्यं दध्योदनं च इन्द्राय स्वाहा। ॐ सूर्याय0 ॐ सत्याय0 ॐभृशाय0 ॐ अन्तरिक्षाय0 ॐ वायवे0 ॐ पूष्णे0 ॐ वितथाय0 ॐ गृहक्षेत्राय0
ॐ यमाय0 ॐ गन्धर्वाय0 ॐ भृङ्राजाय0 ॐ मृगाय0 ॐ पितृगणाय0 ॐ दौवारकाय0 ॐ सुग्रीवाय0 ॐ पुष्पदन्ताय0 ॐ वरुणाय0 ॐ असुराय0
ॐ शेषाय0 पापयक्ष्मणे0 रोगाय0 नागाय0 उरव्याय0 मल्लाटाय0 सोमाय0 भुजङ्पतये0 अदितये0,  दितये0। कोणेषु ब्रह्मणे, अर्यम्णे, विवस्वते, मित्राय। ततो मध्यात् पृथ्वीधराय, अपाय, आपवत्साय, सवित्रो, सावित्राय, जयन्ताय, विबुधाधिपाय, रुद्राय। रुद्रदासाय। वास्तुप्रीतये धेनुदानं। पूजितोऽसि उमामहेश्वरदानं च। ॐ उमा महेश्वराभ्यां नमः। सप्तधान्यदानम्। पूजितोऽसि मया वास्तो हेमाद्यैरर्चनैः शुभैः। प्रसीद याहि विश्वेश! देहि मे गृहजं सुखम्।। इति प्रार्थना। तदनन्तर घर अन्दर प्रवेश कर कोषागार के दक्षिण कोण में श्री लिखकर ॐ अद्य पूर्वोक्तगुणविशिष्टायां तिथौ वास्तुपूजनगृह-प्रवेशाद्यङ्भूतश्री- स्थापनादि कर्माहं करिष्ये। पञ्चामृत, आरती नैवेद्य समर्पण आवाहन आदि पूर्ववत् करनी चाहिए। एक पात्र में धान्य सरसों, चांदी युक्त दूब अक्षत, गंध पुष्प आदि सामग्री लेकर स्वस्तिवाचन करे। ॐ स्थिरो भव वीड्वङ्ग आशुर्भव वाज्यर्वन् पृथुर्भव सुखदस्त्वमग्नेः पुरीषवाहनः इस मंत्र से गड्ढे के मध्य में उपर्युक्त सामग्री रखकर उस पर मिट्टी डाल दे। स्वस्तिक का चिन्ह बना दे। तदनन्तर सूत से लिपटे गूलर के पत्ते को दूध के साथ, दूब, गोबर दधि मधु, घी, कुश और जौ इन सभी को कांस्य के बर्तन में एकत्रा कर जल सहित एक पात्र में रखकर पूर्वादि दिशाओं के क्रम से घर के मध्य में अभिषेक एवं आसन आदि का सिंचन करे।
गृह शेष वास्तु पूजा-दक्षिणद्वारे धात्रो नमः, वामद्वारे विधात्रो नमः। गणेशाय नमः। पट्टशालायै नमः। मण्डपदेवताभ्यो नमः। कण्डनीभ्यो नमः। पेषिण्यै नमः। इसके अनन्तर इस मंत्र से चुह्लादि बलिदान करे।-ॐ धर्माय नमः इससे। पुनः धर्माय नमः वामवाहौ ॐ स्वरस्वरपरिवर्तनीयाय नमःकिं धान्यादि भाण्डेषु। ॐ जलामृताय वरुणाय नमः जलभाण्डेषु।
ॐ महाविघ्नराजाय नमः गृहप्रधानाधारे। ॐ महाशुभांगाय नमः, पेषिण्यां। ॐ रुद्रकोटिगिरिकायै नमः इत्युलूखले। ॐ बलभद्रप्रियाय प्रहरणाय नमः इति मुशले। ॐ मृत्यवे देवीचोदिते नमः इति संमार्जन्यां। ॐ कामार्थंकुसुमायुधाय नमः इति शयनीय-शिरसि। ॐ स्कन्दाय गृहाधिपतये नमः मूत्रा पुरीषयुक्त गोशाला में बलिदान करें, मार्ग-मार्ग में-देवताभ्यो नमः। मध्यस्तंभाधस्तात्।
गृहप्रवेश-उसके बाद गृहनक्षत्रों के अनुकूल पवित्र दिनों में गृह पूजा सम्बन्धी कृत्य समाप्त हो जाने पर मातृ पूजा आदि आभ्युदयिक कृत्य कर ब्राह्मणों के साथ स्वस्ति वाचन करते हुए मांगलिक गाजे-बाजे के साथ जलपूर्ण कलश एवं गो ब्राह्मण के साथ, स्नान कर श्वेत वस्त्र एवं माला से युक्त सपरिवार तोरण युक्त मुख्यद्वार से प्रवेश करें। ॐ धर्मस्थूणा राजा श्रीस्तूयमहोरात्रोद्वारफलके इन्द्रस्य गृहावसमतो वरूथिनहं प्रपद्ये सह प्रजया पशुभिः सह यन्मे किझ्दिस्युपहतः सर्वगणः सखायः
साधु संमतः तां त्वा शालेदिष्टपीठा गृहान्नः सन्तु सर्वतः।। तदनन्तर गृहदेव की दोष निवारण हेतु प्रार्थना करें-प्रार्थयामीत्यहं देवं शालायामधिपस्तु यः। प्रायश्चित्तप्रसंगेन गृहार्थे यन्मया कृतम्। मूलच्छेदं तृणच्छेदं कृमीणां च निपातनम्। हननं जलजीवनां भूमेः शस्त्रोण पातनम्। अनृतं भाषितं यच्च किंचिदर्थस्य पातनम्-तत्सर्वं ही क्षमस्व त्वं यन्मया दुष्कृतं कृतम्। गृहार्थे यत्कृतं पापमज्ञानेनाथ चेतसा। तत्सर्व क्षम्यतां देवि! शाले! मम क्षमां कृरु।।